कामिनी की चुचिया टाईट थी

Antarvasna Indian Sex stories कामिनी की चुचिया टाईट थी

मेरा नाम लव हे और में डेल्ही का रहने वाला हूँ और ये मेरी सच्ची कहानी हे. में चेन्नई में काम करता था और वही मेरी मुलाक़ात कामिनी से हुई में सीरियस नही था सिर्फ सेक्स की ज़रूरत पूरी करने के लिए मेने उसे पटाया था कामिनी ढीले ढीले कपडे पेहना करती थी पर उसका फिगर ३४-२८-३६ था और उसकी चुचिया बिलकुल टाइट थी. और निपल काले रंग के थे. हम कभी बहार मिलते तो कभी होटल में कमरा बुक करवा लेते थे.और एसे ही एक बार की बात में आपको बताने जा रहा हूँ.

मेने दोपहर कमरा बुक करवाके उसे फोन किया,कितनी देर लगेगी तेरे को आने में….? वो बोली बस माँ को खाना दे लाइब्रेरी के लिए निकलूंगी तो वही मिल जायेंगे ना. अपनी माँ के सामने वो एसे ही बात करती थी. मेंने कहा ठीक हे मेरी जान सूट के अन्दर ब्रा और पेंटी मत पहनना तो वो पूछने लगी पर बिना ब्रा के स्कूटी पर केसे आउंगी. मेने कहा स्कूटी नही आज ओटो से आना हे. और घर से दो तिन जोड़ ओअप्दे सिखाने वाली चुटकी और सफेद सुटली भी लेटी आना.

वो बोली इमका क्या करोगे..? मेने कहा जब आओगी तो पता चल जाएगा. और लगभग ३० मिनट बाद कामिनी ने रूम का दरवाज़ा ख़त खटाया और दरवाजा खोलते ही मेने देखा की उसने वाइट सूट पहना हुआ था. और हलके मेकअप में काम देवी लग रही थी. तो मेने उसे अन्दर खिंचा और और उसे अपने से लिप्त कर उसके रसीले हॉट चूसने लगा और साथ ही साथ उसके चूतोद को भी हलके हलके दबाने लगा. वो आह लव क्या कर रहे हो. तो मेने उसे छोड़ कर बेड पर बेठ गया और कहा मेरी जान सिर्फ अपनी सलवार उतारो कामिनी ने सलवार उतार दी उफ़ क्या चिकनी टाँगे थी. मेंने कहा अब मुद के मॉडल की तरह अपनी गांड मटकाते हुए धीरे धीरे चल कर दिवार के पास जाओ. वो बोली उफ़ लव आज क्या करोगे…? मेने कहा बोलो मत जो कह रहा हु करो और वो धीरे धीरे वो दिवार के पास पहोंची फिर मेने कहा अपने हाथ सर के उपर रख्खो. हाथ उपर रखते ही उसकी चुचिया तन गयी. मेंने कहा सिर्फ अपने निपल की नहीं अपनी चुचिया भी धीरे धीरे दिवार से रगडो.

और इधर में नंगा हो गया था. और आराम से लंड पर हाथ फेर रहा था. और उधर दिवार से निपल लगते ही कामिनी सेहर गयी. और आह्ह्ह अह्ह्ह्ह अह्ह्ह लव मज़ा आ रहा हे. फिर मेने उसे कहा पीछे हटो और अपनी कमीज उतारो. और कामिनी ने अपनी कमीज उतारी और में उसके पीछे चला गया और कहा अपने दोनों चुत्त्ड खोलो.और जेसे ही उसने अपने चुत्तोड़ खोले तो मेने अपना लंड लम्बाई के बल पर उसमे फस दिया. उफ़ आह्ह लव कितना हेवी हे कितना सख्त हे प्लीज् मुझसे चिपक जाओ ना. मेने कहा नहीं मेरी जाम तू अब धीरे धीरे हिल और अपने चुत्तोड़ को भी साथ साथ टाइट कर और चोद. वो बोली; ओह्ह्ह्ह ओह्ह्ह्ह आआह्ह्ह लव मेरे निचे पानी निकल रहा हे. कुछ करो ना. मेने कहा ठीक हे और में जा के खुर्सी पे बेठ गया मेरी तरफ घुमो तो वो घूम कर वासना भरी आँखों से मुझे देखने लगी और फिर मेने कहा मेरा लंड चुसे गी…? तो वो बोली हां मेरे मालिक जो कहोगे वो करुँगी. पर मुझे तडपाओ मत. मेने कहा ठीक हे अपने निपलो पर चुटकिय लगा लो.

चुटकिय लगते ही आः आह में मर जाउंगी. मेरा शरीर जल रहा हे. में तुम्हारे लिए नंगी हूँ मेरी सेवा कर लो प्लीज् मुझे पाने निचे लिटा के चोद दो आह्ह्ह अब सेहन नही हो रहा… मेंने कहा ठीक हे. मेरे पास अपने पैर मेरे दोनों तरफ कर के मेरे लंड पर बेठ जा पर बाकी सरीर मुझे छूना नही चाहिए सिर्फ मेरा लंड तेरी चूत में होना चाहिए वो नोली ठीक हे मेरे सरताज आप जेसा कहोगे में मज़ा दूंगी. जेसे ही मेरा लंड उसकी फूली हुई चूत को पंखुडियो से टकराया वो सिस्कारने लगी. आह उफ़ और धीरे धीरे पुरा लंड अन्दर जाते ही मेने भी उसकी गांड के छेद को धीरे धीरे ऊँगली से सहलाने लगा उफ़ में मरजाउंगी कुछ करो प्लीज् मेने कहा ठीक हे अब तुम अपनी चूत को भिचो और छोडो. वो एसा ही करने लगी और उपर निचे भी होने लगी और इसी दौरान मेने अपनी ऊँगली उसकी गांड के छेद में डाल दी और एसा करते ही वो जड़ने लगी aaahhhhhh ससईई स्सस्सस्सईईए मार्र गयी में हाय में तुम्हारी गुलाम बनी रहूंगी.

और हर रात पूरी नंगी हो कर तुम्हे अपनी सवारी करवाउंगी सारी रात नंगी तुम्हारे निचे पड़ी रहूंगी तुम्हारा लंड अन्दर लेके आःह्ह्ह उसकी चूत झाड़ते वक्त टाइट हो गयी थी जिसकी वजह से मेरी पिचकारी भी छुट गयी थी. और मेने उसे कास के पकड़ लिया और उसके निपलो से चिमटिया निकल के धीरे धीरे उसके निपल चुसे जो अब तक और भी कड़क हो चुके थे. अब मेने प्यार से उसे उठाया और बेड पर लेटने के लिए कहा. तो वो चुप चाप कम्पते कद्मोसे बेड पर जा के लेट गयी और और प्यार भरी नजरो से मुझे देखने लगी और मेने अपने कपडे पहने और उसे भी कहा कपडे पहन लो तो वो ब्रा उठाने लगी मेने कहा ब्रा और पेंटी के बिना सूट पहन लो जो उसने चुप चाप पहेन लिया और उसके नाद हम लोगो ने बहार जा कर खाना खाया और रेस्टोरंट में वेटर उसे ही देखे जा रहा था क्यू की व्हित सूट में से उसका काले नोप्ल साफ़ नजर आ रहे थे. फिर मेने उसे एक सस्ती नील रंग की साडी दिलवाई और वापस होतेक आया गये.

और होटल आते ही मेने उसे कहा चल मेरी जान अब नंगी हो जा और साडी पहेन ले वो बोली में साडी केसे पहनी न ब्लाउज हे और ना ही पेटीकोट तो मेने कहा इन चीजो की जरूरत नहीं हे. सिर्फ साडी पहेन में बातरूम होक आता हु. जब में बाथरूम से बहार आया तो वो साडी पहेन चुकी थी और उसकी चुचिया तनी हुई थी और साडी निपलो पर रगरने से उसके निपल टाइट हो चुके थे में उसे इस तरह देख कर उत्तेजित हो गया था और मेने फटाफट अपने कपडे उतारे और नंगा हो कर उसके पास गया और हाथ पीछे कर लिए और मेने उसके हाथ सुटली से बांध दिए और अन आगे आकर बिना उसे छुए मेने सिर्फ उसका निपल मुह में ले कर चूसने लगा और धीरे धीरे उसे काटने लगा अब बस लव क्या कर रहे हो प्लीज् मेरे हाथ तो खोलो अह आह मेरे हाथ खोलो प्लीज् में तुम्हे पूरा मज़ा दूंगी तो मेने कहा नही साली हाथ खोले बिना में तेरा मज़ा लूँगा.

और अपना तना हुआ लंड ले कर में उसके पीछे जा खड़ा हुआ और उसके चोतोड़ की दरार पर सिर्फ सपेरे को रगड़ ने लगा तो वो कहने लगी आह मुझे पहले नंगी तो कर लो क्यू तदपा रहे हो तभी मेने उसके चोतोड़ पर एक थप्पड़ मारा आह प्लीज् मुझे नगी करके मारो ना में उसे नेड तक ले के गया और उसे कुतिया के पोज़ में बिठा दिया अब उसका सर बेड पर था हाथ पीछे बंधे थे चूची नंगी हो चुकी थी. और पीछे से मेने उसकी साडी उठा दी थी अब मेने पीछे बेठ कर उसकी चूत की लकीर पर जीभ उपर से निचे चलानी सुरु कर दी तो वो मचलने लगी. अहह उफ्फ्फ ह़ा हे लव नेरा पानी छुट जाएगा. मुझसे चिपक तो जाओ प्लीज् अपना वजन मेरे ऊपर डाल कर मुझे निचे दबा लो आहा अह्ह्ह अह्ह्ह्ह में तुम्हारी रहूंगी जब कहोगे तबतुम्हे अपने चोदने का मज़ा दूंगी. पर अभी मुझसे चिपक जाओ अब में उसके चुत्त्ड खोल कर उसकी गांड के छेद को जीभ की निक से सहलाना सुरु किया.

और अपने हाथ आगे ले जा कर उसके निपलो को पकड़ कर धीरे धीरे निचे खींचने लगा और चोदने लगा बिलकुल जेसे कोई गाय के दूध निकाल रहा हूँ अब कामिनी का मज़ा दुगना हो चूका था और वो चोदने के लिए पूरी तरह से तैयार थी और कहने लगी लव प्लीज् अब मेरे अन्दर घुसा दो सहा नहीं जाता जब तुम अन्दर घुसा देते हो तो मुझे लगता हे जेसे पूरी औरत बन गयी हूँ.

अह्ह्ह स्स्स्स स्स्स्स अभी खाली लग रहा हे अह्ह्ह्ह अह्ह्ह प्लीज् मुझे चोद दो भर दो मुझे aaahhhhhh तो में खड़ा हुआ और लंड का सपेरा धीरे धीरे उसकी चूत की लकीर पर रगड़ ने लगा पर तभी वो बोली प्लीज् मेरे हाथ खोल कर मुझ पर चढ़ जाओ आह्ह्ह्ह aaahhhhh और मेने उसे सीधा किया और उसके हाथ खोल दिए और हाथ खोलते ही कामिनी ने मुझे कास कर पकड़ लिया और मुझे अपने उपर लिटा कर और अपनी टाँगे मेरी कमर पर बांध ली आह्ह्ह अह्ह्ह्ह प्लीज् अपना पूरा वजन मेरे उपर डाल दो में तुम्हारे बीचे दबना चाहती हूँ पिस दो मुझे.

तो मेने भी अपना लंड एक ही धक्के में उसकी गीली चूत में डाल दिया स्स्स्स उफफ्फ्फ्फ़ मर गई और वो मुझे हिलने भी नही दे रही थी. और मेने भी उसे अपनी जीभ दे दी चूसने के लिए जिसे वो बहोत ही प्यार से चूस रही थी. और थोड़ी देर एसे ही रहने के बाद मेने अपनी कमर हिला कर धक्के देने सुरु किया बिलकुल धीरे धीरे और लंड पूरा बहार निकल कर पूरा अन्दर घुसाने लगा उफ़ लव एसे ही मुझे अपने निचे दबा कर प्यार करते रहो.

में तुम्हारी औरत हूँ जेसे चाहो मुझे इस्तेमाल करो. अह्ह्ह स्स्स्स आआअ थोडा तेज़ धक्का मारो ना तो मेने भी कमर गोल गोल घुमाते हुए धक्के तेज़ कर दिए. अहह स्स्स्स मेरी चूत छूटने वाली हे में मर जाउंगी मारो धक्का अह्ह्ह में गयी अपना पानी अन्दर छोड़ दो मुझे माँ बनना हे तुम्हारे बच्चे की तो अब मेरा भी पानी छुट गया और एक तेज़ धक्का मार कर मेने लंड पूरा उसकी चूत में दबा दिया तो उसने भी मुझे कस कर जकड लिया और प्यार से मुझे किस करने लगी.

चुदाई ख़तम होने के बाद भी वो मुझे अपने ऊपर से उठने नही से रही थी और लंड अन्दर ही रखती हे. अहह लव तुमसे चोद कर मुझे लगता हे जेसे में पूरी हो गयी हूँ. और जब तुम अपना रस मेरे अन्दर निकालते हो तो मेरा औरत होने का एहसास और भी ज्यादा हो जाता हे.