डांक्टर की बीवी की चुदाई

हेलो हाय रीडर्स और में राहुल फिर से एक नई कहानी आप को सुनाने जा रहा हूँ. antarvasna antarvassna Indian Sex Kamukta Chudai Hindi Sex आप सब लोगो को मुझे अपना परिचय देने की ज़रूरत तो शायद नही होगी. क्योकि मेरी स्टोरी तो रोज इस पर आ ही रही है और आप सारी सेक्सी ओरते जो मुझसे फोन या मैल के द्वारा कॉन्टेक्ट कर रही है उनको भी में धन्यवाद देता हूँ. की वो लोग मुझे इतना पसंद कर रही है. लेकिन एक बात के लिये में आप सभी ओरतोसे सॉरी माँग रहा हूँ की आप के कॉल करने के बाद में आप के बुलाने पर नही आ पाता हूँ इसका कारण है की एक आदमी कितनो को खुश करे इसलिये आप लोग बुरा ना माने अगर कॉन्टेक्ट मे रहोगी तो किसी दिन में आप लोगो के पास जरुर आऊंगा. हाँ तो अब में अपनी स्टोरी पर आता हूँ.
मुझे एक सिंधी डॉक्टर की बीवी आरती को चोदना था जिसकी उम्र 23साल थी वो एक हाउस वाइफ थी जिसका पति दिल का डॉक्टर था उसकी उम्र 31साल की थी,मेरी एक पुरानी कस्टमर प्रिया ने मुझे फोन करके कहा की आरती को मैंने जब तुम्हारे बारे मैं बताया तो आरती ने तुम्हारे साथ रात गुजारने की ज़िद पकड़ी है आरती का रंग गोरा था उसकी हाइट 5’7” और उसने तुम्हारे लिये 5000 रुपये दिये है प्रिया ने वो पैसे मिलने पर मेरे हाथ मे देने का वादा किया, और सारी जानकारी मैने प्रिया से फोन पर ली और मैने प्रिया को मेरे दिल मैं आये हुये डर के बारे मैं बताया. प्रिया ने कहा उसके पति उनके कोर्स के लिये दो दिन के लिये कल सुबह दिल्ली जा रहे है तब मैं निश्चिंत हो गया.
उस रात मुझे नींद नही आई मै सुबह सुबह नहा के अपने घर से निकला. सारा दिन अपने दूसरे कामो मे लगा रहा और शाम 7 बजे उस पते पर पहुँचा और दरवाजे की घन्टी बजाई तो सामने एक औरत आई मैने उनसे बोला की में राहुल तब मुझे उसने अंदर ले लिया मैं समझ गया की यह वही औरत है और शायद वो भी मेरा इंतजार कर रही थी अंदर जाने के बाद उसने कहा की तुम तो रात को 10 बज़े आने वाले थे मैने कहा की फर्स्ट टाइम किसी ने एड्वान्स मे रुपये दिये है तो मेंने सोचा उसका सब पैसा चुकता होना चाहिये तो मैं जल्दी आ गया. आरती ने स्माइल किया और मैं पागल हो गया क्योकी आरती जितना प्रिया ने बताया उस से बहुत खूबसूरत थी. मैने आरती को कहा की अब अपना काम शुरू करे तो आरती ने मुझे कहा की मैं दो मिनिट मैं आती हूँ. तुम बेडरूम मैं जा कर बैठो और मुझे बेडरूम की तरफ इशारा किया मैं बेडरूम में जा बैठा.
आरती 10 मिनिट के बाद दुल्हन की साड़ी पहन कर हाथ मैं ग्लास ले आई में चोंक गया और तब वो मेरे पास आ कर बैठी और दूध का ग्लास मुझे दिया मैने कहा ये क्या हैं उसने कहा की मैं अभी तक कुँवारी हूँ, मेरे पति ने आज तक सुहागरात का मज़ा मुझे नही दिया. और मेरी तरफ ऐसे देख रही थी की वो सब कुछ आज़ तुम से ही कराना हैं!
मैने वो दूध आधा पिया उसके बाद उसने बाकी का पिया. मैने देखा की बेड पूरा फुलो से सजाया था मैंने उसे कस कर अपनी बाहो मे लिया और उसे किस करने लगा जहा मेरे होठ रुकते थे वहा उसे किस करता था उसके बाद मैने उसकी साड़ी और चूड़िया उतार दी अब वो मेरे सामने ब्लाउज मैं थी मैने उसकी गर्दन पर किस किया और उसके बोबे दबाने लगा आरती सिसकिया भरने लगी मैने उसका ब्लाउज खोल दिया और उसकी चूची को देख कर मैं बहुत गर्म हो गया.
मैने चूसना और मसलना शुरू किया तब आरती के मुहँ से आआहह उफ़फ्फ़ आआहह उफ़फ्फ़ दबावों और ज़ोर से दबावों मैं चूसते चूसते नीचे की तरफ गया। अब आरती और सिसकिया लेने लग गई मैने उसकी पेन्टी खोली और उसकी चूत चाटने लग गया थोड़ी देर के बाद आरती ने अंदर डालने के लिये कहा मैने अपने कपड़े उतार दिये और में अपना लंड हाथ मैं ले कर उसको सहला रहा था और आरती आँख फाड़ फाड़ कर उसे देख रही थी थोड़ी देर के बाद वो प्यासी शेरनी की तरह छपट पड़ी और मेरे लंड को चूसने लगी.
मैने थोड़ी देर के बाद लंड उसके मुहँ से निकाल कर उस पर कन्डोम चडाया और मैने आरती की चूत को सहलाते हुये कहा आरती इसे अंदर लो। मैं आरती की कमर को पकड़ कर लंड उसकी चूत पर सहलाने लगा आरती अहह अहह सीईईई अहहहहहह करने लगी और मैने उसकी चूची को पकड़ कर एक ज़ोर का झटका दिया लंड चूत का बाहरी किनारा ले कर फिसल गया आरती चिल्लाई उसने मुझे उसके बदन से दूर धकेल दिया मैं वापस उसको समझा कर उस पर चढ़ गया इस बार मैने सही निशाना लगाया आधा लंड चूत मैं गया आरती चिल्लाई हाईईइ हाईईईईईईईई भगवान प्लीज..निकाल लो और मैने दूसरा झटका दिया लंड पूरा अंदर चला गया.
मैने एक हाथ से आरती के गले को पकड़ कर रखा था जिससे आरती मुझको अपने बदन से अलग नही कर पाई और आरती के आँखो से आंसू निकल आये उसके बाद मैंने चोदना शुरू किया मेरे हर एक झटके पर आरती चिल्लाती थी अब 10 मिनिट के बाद आरती भी मुझे साथ देने लगी थोड़ी देर के बाद मेरी स्पीड बढ़ने लगी जैसे ही मैने आखरी झटका दिया मेरे लंड की छाल पूरी पीछे हो गयी और लंड पूरा अंदर चला गया और मेने पूरा पानी छोड़ दिया और फिर हम कुछ देर के लिये वैसे ही सोये रहे. आरती ने बेड की चादर की तरफ इशारा करके कहा की मेरा आज़ कुँवारापन टूट गया क्योकी चादर खून से लाल हो गई थी.
फिर मैने बाथरूम मैं जा कर कन्डोम चेंज किया और फिर आरती के नीचे सो गया और आरती ने मेरे उपर चड़ के दुसरी बार के लिये तैयारियाँ की और जब मेरा लंड खड़ा हो गया तब मुझे भी बहुत तकलीफ़ होने लगी और उस रात आरती ने मुझे अपना पति मान कर मेरे साथ 3 बार चुदाई कि सुबह मुझे जाना था पर उसने मेरी पूरी पॉवर चूस ली थी और मैं दोपहर को नींद से उठा आरती भी उठी उसने मुझे लम्बा किस किया और कहा नाश्ता करके जाना हम एक साथ नहाये और फिर आरती ने नाश्ता बना कर मुझे दिया जाने के टाइम पर उसने मुझे और 2000/-रूपये दिये और बाय किया और फिर मैं दोपहर में काम पर गया. तो दोस्तो आप को मेरी यह कहानी केसी लगी मुझको जरूर बताये.