प्यासी बुर की पुंगी बजायी

हैल्लो दोस्तों, मेरा नाम समीर है और में दिल्ली में रहता हूँ, मेरी लम्बाई 5.8 और antarvasna antarvassna Indian Sex Kamukta Chudai Hindi Sex मेरे लंड की लम्बाई 8 इंच है और मेरा खुद कंप्यूटर हार्डवेयर का काम है. दोस्तों में आज अपनी एक सच्ची घटना आप सभी को सुनाने जा रहा हूँ जिसमें मैंने प्रिया नाम की एक लड़की को अपने जाल में फंसाया और बहुत जमकर चोदा और आज में आप सभी को वही सच्ची घटना विस्तार से सुनाने जा रहा हूँ.
दोस्तों उस समय प्रिया सिर्फ 19 साल की थी, लेकिन वो दिखने में वो किसी 25-26 साल की उम्र की लड़की से कम नहीं लगती थी. तो एक दिन की बात है. प्रिया अपने कमरे में थी और जब मैंने उसे आवाज़ लगाई तो उसने मेरी किसी भी आवाज़ का जबाब नहीं दिया. तो में उसके कमरे में चला गया तो मैंने देखा कि उसका कमरा अंदर से बंद था और फिर मैंने एक छोटे से होल से अंदर की तरफ झाँककर देखा और में उसे देखता ही रह गया. वो एकदम नंगी थी, शायद वो अपने कपड़े चेंज कर रही थी और में उसे बिल्कुल नंगा देखाकर एकदम पागल सा हो गया, क्योंकि मैंने अपनी लाईफ में पहली बार किसी लड़की को नंगा देखा था.
तो उसके बूब्स एकदम बड़े बड़े थे और वो एकदम दूध की तरह सफेद थे और बहुत ही गोलमटोल और उसकी चूत एकदम साफ, चिकनी दिख रही थी में तो यह सब देखकर एकदम पागल ही हो गया और फिर में जल्दी से बाथरूम की तरफ भागा और जल्दी से मुठ मारने लगा और उसके बाद तो में हमेशा ही मन ही मन उसे चोदने की सोचता रहता और में हमेशा ही उससे मस्ती मज़ाक करता रहता था, लेकिन मैंने कभी भी उसके शरीर को छुआ नहीं था. तो एक दिन की बात है में उसके रूम में गया तो वो अपनी पढ़ाई कर रही थी और वो शायद अपने काम में बहुत व्यस्त थी जिससे उसे मेरे आने का भी अहसास नहीं था.
में उसके जिस्म को घूर घूरकर देखने लगा और फिर मैंने उससे कहा कि क्या तुम मेरा सर दबा सकती हो, बहुत दर्द कर रहा है तो उसने पहले थोड़ी देर सोचा और फिर कहा कि ठीक है. फिर में बेड पर लेट गया और वो मेरा सर दबाने लगी तो मुझे उसके नरम नरम हाथों का स्पर्श अपने सर पर बहुत अच्छा लगा रहा था. तभी कुछ देर के बाद मैंने सही मौका देखकर उससे बोला कि में तुमसे एक बात कहना चाहता हूँ. तो उसने कहा कि ठीक है क्या बात है बताओ? तो मैंने कहा कि कहीं तुम मेरी बात को सुनकर गुस्सा तो नहीं होगी ना? तो उसने कहा कि नहीं और फिर मैंने उसका एक हाथ पकड़कर बोला कि में तुमसे बहुत प्यार करता हूँ, तो वो एकदम चुप हो गई और उसने अपनी नजरे नीचे की तरफ झुका रखी थी.
फिर मैंने उससे पूछा कि क्या हुआ? तो उसने बोला कि प्यार तो में भी आपसे करती हूँ, लेकिन मुझे बहुत डर लगता है कि अगर घर पर किसी को पता चल गया तो मुझे बहुत मार पड़ेगी. तो मैंने कहा कि हम किसी को कुछ भी नहीं बताएँगे और ऐसी कोई हरकत नहीं करेंगे जिससे किसी को पता चलेगा. तो उसने कहा कि फिर तो ठीक है और उसके बाद ऐसे हमारे प्यार का सिलसिला चलता रहा, लेकिन इससे ज़्यादा कुछ नहीं हुआ और उसी बीच हमारे एग्जाम नज़दीक आ गए. तो हम दोनों ने तय किया कि क्यों ना हम एक साथ में ही पढ़ाई किया करें और फिर उसने भी कहा कि ठीक है और इस बात को मैंने अपनी दीदी को बताया कि हम लोग देर रात एक साथ अपने कमरे में पढ़ाई किया करेंगे. तो मुझसे दीदी ने कहा कि ठीक है हमें कोई आपत्ति नहीं है, लेकिन तुम रात को सोने के टाईम अपने अपने कमरे में चले जाओगे.
मैंने कहा कि ठीक है और अगली रात से हम दोनों ने एक साथ में अपनी पढ़ाई शुरू कर दी और हम घर पर बाकी के लोगों का सोने का इंतजार करने लगे और जैसे ही सभी लोग सो गए तो हमने अपनी पढ़ाई को बंद किया और हम बातें करने लगे. वो बहुत खुश थी और मैंने उस मौके का फायदा उठाया और फिर मैंने बात करते करते उसे किस कर लिया, तो उसने मुहं घुमा लिया और मना करने लगी.
मैंने कहा कि क्या में तुम्हे किस भी नहीं कर सकता? तो उसने कहा कि क्यों क्या यह ज़रूरी है? तो मैंने कहा कि हाँ नहीं तो मुझे कैसे विश्वास होगा कि तुम भी मुझसे प्यार करती हो? तो उसने कहा कि ठीक है और इसी तरह हर रोज का सिलसिला चलता रहा, लेकिन मेरी इससे ज्यादा करने की हिम्मत नहीं हुई और एक रात वो पढ़ाई करते करते सो गई और में जगा हुआ था और मैंने भी धीरे से उसके पास में लेट गया और कुछ देर के बाद मैंने उसके गालो को सहलाना शुरू कर दिया, लेकिन वो थोड़ा सा हिली और फिर सो गई.
तो इसी तरह फिर मैंने उसको किस किया और उसे अपनी बाहों में भर लिया. फिर धीरे से मैंने एक हाथ उसके बूब्स पर रख दिया और धीरे धीरे दबाने सहलाने लगा. वो बहुत गहरी नींद में थी तो मैंने थोड़ा और कसकर दबाया तो वो जाग गई और उठकर बैठ गई और बोली आप यह क्या कर रहे? तो मैंने कहा कि में प्यार कर रहा हूँ और फिर वो मुझसे बहुत गुस्सा हो गई और बोली कि यह बिल्कुल ग़लत बात है और अब में आपसे बात नहीं करूँगी. तो मैंने कहा कि प्लीज गुस्सा मत होना, में तुमसे बहुत प्यार करता हूँ तो उसने कहा कि प्यार में यह सब तो ठीक नहीं है, मैंने कहा कि आप मुझे बहुत अच्छी लगती हो तो प्लीज़ एक बार मुझे करने दो.
उसने साफ मना कर दिया और दूसरी तरफ मुहं घुमाकर बैठ गई और ज़ोर ज़ोर से रोने लगी. तो मैंने उससे सॉरी बोला और जाकर अपने कमरे में सो गया और उसके बाद मैंने उससे बिल्कुल बात करना बंद कर दिया और उसने भी मुझसे दो दिन तक बात नहीं की, लेकिन उसके बाद वो एक दिन मेरे रूम पर आई और बोली कि क्या आप मुझसे गुस्सा हो? तो मैंने कुछ नहीं बोला तो वो मेरे पास आई और उसने मेरे माथे पर किस कर लिया. तो मैंने अपना मुहं दूसरी तरफ घुमा लिया, वो बोली कि क्या बात है?
फिर उसने कहा कि में भी आपसे बहुत प्यार करती हूँ, लेकिन मुझे यह सब शादी से पहले बिल्कुल भी अच्छा नहीं लगता. तो मैंने उससे पूछा कि क्या तुम मुझे एक बार भी करने नहीं दे सकती? तो वो एकदम चुप हो गई और फिर कुछ देर के बाद वो बोली कि ठीक है, लेकिन आप मुझे सिर्फ़ छुओगे और इसके अलावा कुछ और नहीं करोगे. तो मैंने कहा कि ठीक है में तुम्हारी इस बात से सहमत हूँ और में बहुत खुश हो गया और में उसे किस करने लगा.
फिर वो मुझसे थोड़ा दूर हो गई और बोली कि यह सब अभी से नहीं, रात में जब सब लोग सो जाएँगे तब. तो मैंने कहा कि ठीक है और में रात होने का बड़ी बेसब्री से इंतज़ार करने लगा और फिर रात को वो मेरे रूम पर पढ़ाई करने आई और बैठकर चुपचाप पढ़ाई करने लगी. में भी उसके ठीक सामने बैठकर उसके सुंदर बूब्स को देख रहा था, लेकिन उसे यह सब मालूम नहीं था कि में आज उसके साथ क्या क्या करने वाला था. में तो बस उसे देखकर मन ही मन चोदने के बारे में सोचने लगा. मेरा अब पढ़ाई में बिल्कुल भी मन नहीं लग रहा था.
कुछ घंटो के बाद जब घर में सब लोग सो गए तो मैंने ठीक मौका देखकर अपनी पढ़ाई को वहीं पर बंद कर दिया और मैंने उसे किस करना शुरू कर दिया और में पागलों की तरह उसे किस करने लगा और उसके होंठो को चूसने लगा और धीरे से मैंने अपना एक हाथ उसके बूब्स पर रख दिया और उसे दबाने सहलाने लगा. यह सब करने से मेरा लंड तो एकदम तनकर खड़ा हो गया और में बहुत ज्यादा ही गरम हो गया और फिर में ज़ोर ज़ोर से उसके बूब्स को दबाने लगा तो वो कहने लगी कि प्लीज थोड़ा धीरे मुझे बहुत दर्द हो रहा है, लेकिन मैंने उसकी एक भी नहीं सुनी में और ज़ोर ज़ोर से दबाता रहा और किस करता रहा.
वो भी अब धीरे धीरे हॉट हो गई और मेरा साथ देने लगी फिर मैंने उसकी टी-शर्ट को उतार दिया, उसके बाद तो में बिल्कुल ही पागल हो गया क्योंकि अब मेरी नजरों के सामने दुनिया के सबसे सुंदर, सुडोल बूब्स थे और वो क्या मस्त थे? उसने गुलाबी कलर की ब्रा पहनी हुई थी और में ऊपर से ही उसे कस कसकर दबाने लगा और चूसने लगा. फिर मैंने उसकी ब्रा को एक झटके से पकड़कर खींचा और ब्रा का हुक तोड़ दिया.
तो उसके बाद तो में बिल्कुल ही पागल ही हो गया. क्या मस्त बूब्स थे उसके एकदम गोरे गोरे और हल्की गुलाबी कलर की निप्पल, में तो पागल की तरह उसके बूब्स पर टूट पड़ा और चूमने, चूसने लगा तो वो भी धीरे धीरे पूरी तरह गरम हो चुकी थी और आहे भर रही थी और सिसकियाँ ले रही थी अह्ह्ह्ह उह्ह्ह्ह प्लीज आईईई थोड़ा धीरे करो. तो मैंने करीब दस मिनट तक उसके बूब्स को ज़ोर ज़ोर से दबा दबाकर चूसा और फिर मैंने अपना एक हाथ उसकी गरम चूत पर रख दिया और धीरे धीरे सहलाने, रगड़ने लगा वो भी पागलों की तरह आहें भर रही थी और अब वो पूरी तरह हॉट हो चुकी थी.
फिर मैंने उसकी स्कर्ट को खोलकर उससे अलग कर दिया तो मैंने देखा कि उसने काली कलर की पेंटी पहनी हुई थी और जैसे ही मैंने उसकी चूत पर हाथ रखा तो मुझे उसमे बहुत गीलापन महसूस हुआ उसकी पेंटी पूरी तरह भीगी हुई थी और वो जोश में पागलों की तरह मोन कर रही थी और फिर मैंने एक ही झटके में उसकी पेंटी को उसकी गीली गरम जोश से भरी हुई चूत से अलग कर दिया और अब में बिल्कुल पागल हो गया. उसकी क्या चूत थी पूरी तरह साफ शेव की हुई फूली हुई एकदम लाल. में तो उसे देखकर पागल ही हो गया और फिर में उसकी चूत को सहलाने लगा, वो आहे भर रही थी और सिसकियाँ ले रही थी.
फिर मैंने उसकी गीली चूत को चाटना शुरू किया तो उसने कहा कि यह आप क्या कर रहे हो? तो मैंने कहा कि मस्ती कर रहा हूँ और कुछ देर बाद तुम्हे भी मज़ा आएगा और फिर मैंने 5 मिनट तक उसकी चूत को चाटा. उसकी क्या मस्त चूत थी? फिर में खड़ा हो गया और मैंने अपने कपड़े भी उतार दिए. वो मेरा लंड देखकर डर गई और बोली कि इतना बड़ा?
मैंने उससे कहा कि इसे अपने हाथ में लो तो उसने साफ मना कर दिया. फिर मैंने उसकी चूत में उंगली डाली तो वो एकदम टाईट थी, लेकिन बहुत गीली और गरम थी और फिर जैसे ही मैंने अपनी एक उंगली डाली तो वो एकदम उछल पड़ी और बोली कि आईईईइ उह्ह्हह्ह प्लीज धीरे मुझे दर्द हो रहा है. तो मैंने बोला कि चुप रहो, तुम्हे कुछ नहीं होगा और में धीरे धीरे उंगली को अंदर बाहर करने लगा और कुछ देर बाद उसे मज़ा आने लगा और वो ज़ोर ज़ोर से आईईईईई अह्ह्ह्हह्ह उह्ह्ह्हह्ह्ह्ह माँ करके सिसकियाँ लेने लगी. उसने अपनी दोनों आखों को बंद किया हुआ था और वो अपने दोनों पैरों को पूरी तरह फैलाकर पड़ी हुई थी.
मैंने एकदम सही मौका देखकर अपना लंड उसकी चूत के मुहं पर लगाया और सहलाते सहलाते धीरे से चूत के मुहं पर दबाने लगा, लेकिन वो उसमे घुस ही नहीं रहा था. फिर मैंने उठकर थोड़ा सा क्रीम लिया और थोड़ा अपने लंड पर और फिर उसकी चूत पर भी लगाया और फिर मैंने अपने लंड को चूत के मुहं पर रखकर हल्का सा धक्का दिया तो वो एकदम ज़ोर से चिल्ला उठी और रोने लगी और बोली कि प्लीज इसे बाहर निकालो, मुझे बहुत दर्द हो रहा है, प्लीज मुझे छोड़ दो अह्ह्हह्ह्ह्हह् आईईईईइ माँ बचाओ.
मैंने बोला कि तुम्हे कुछ नहीं होगा जानेमन. अभी तुम्हे भी बहुत मज़ा आएगा और फिर में उसे किस करने लगा और कुछ देर के बाद मैंने उसे एक कसकर धक्का लगाया और मेरा आधा लंड उसकी चूत को चीरता हुआ अंदर चला गया और अब उसकी चूत से खून निकलने लगा और वो ज़ोर ज़ोर से चिल्ला रही थी कि प्लीज अह्ह्ह्हह्ह उफ्फ्फ्फफ्फ्फ़ अह्ह्ह्ह छोड़ दो मुझे में मर जाउंगी.
मैंने उसके मुहं पर अपने होंठो को लगाया और उसे ज़ोर ज़ोर से किस करने लगा ताकि उसके मुहं से आवाज़ बाहर नहीं निकले और फिर मैंने एक और जोरदार धक्का दिया और मेरा पूरा का पूरा लंड उसकी चूत की गहराईयों में समा गया, लेकिन वो दर्द से छटपटा रही थी. तो में कुछ देर के लिए उसी तरह एकदम शांत रहा और उसे किस करता रहा और जब वो शांत हुई तो मैंने धीरे धीरे धक्के लगाने शुरू कर दिया और उसके बूब्स को दबाता रहा.
उसे अब भी थोड़ा थोड़ा दर्द हो रहा था, लेकिन उसे अब मज़ा भी आ रहा था और कुछ देर के बाद वो भी मेरा साथ देने लगी. मैंने फिर अपनी चुदाई की स्पीड बड़ा दी और वो भी अपनी चूतड़ को हिलाने लगी और आह्ह्ह्हह उह्ह्हह्ह्ह्ह आईईईईई की आवाज़ निकालने लगी. फिर मैंने पूछा कि क्यों अब मज़ा आ रहा है?
उसने कहा कि हाँ और उसके बाद करीब दस मिनट की चुदाई के बाद उसने मुझे कसकर पकड़ लिया और बोली कि हाँ और ज़ोर से करो ना अह्ह्ह्ह दो और ज़ोर से अऊऊऊउऊ धक्के दो हाँ और ज़ोर से. मैंने फिर से अपनी रफ़्तार बड़ा दी और करीब 5 मिनट के बाद में झड़ने वाला था तो मैंने उससे कहा कि में झड़ने वाला हूँ, तो उसने बोला कि में भी शायद अब होने ही वाली वाली हूँ और कुछ देर के बाद वो बिल्कुल शांत हो गई और वो झड़ चुकी थी. तो मैंने अपने लंड को चूत से बाहर निकाला और बेड पर सारा वीर्य गिरा दिया, वो बहुत खुश दिख रही थी, तो मैंने उससे पूछा कि क्यों मज़ा तो आया ना? तो उसने बोला कि हाँ बहुत मज़ा आया, लेकिन जैसे ही वो बेड से उठी तो उसने बेड पर ढेर सारा खून देखा और डर गई और बोली कि अब क्या होगा? और वो ठीक से खड़ी भी नहीं हो पा रही थी.
मैंने कहा कि में तुम्हे तुम्हारे रूम तक छोड़ देता हूँ और अगर तुम्हारा दर्द ठीक नहीं हुआ तो तुम कल सुबह देर तक सोती रहना और तुमसे कोई पूछे तो तुम उसे बता देना कि तुम्हारी तबीयत खराब है. फिर में तुम्हे कल सुबह दर्द की दवा लाकर दे दूँगा और फिर तुम एकदम ठीक हो जाओगी. तो मैंने उसे अपनी बाहों का सहारा देकर उसे उसके कमरे में ले गया क्योंकि वो उसकी पहली चुदाई थी. जिसकी वजह से वो ठीक तरह से चल भी नहीं पा रही थी और मैंने उसे बेड पर लेटा दिया और उसके माथे पर एक बार चूमा और उससे गुड नाईट बोलकर अपने कमरे में आकर सो गया.