मोटा लंड से मेरी चूत और गांड की बुझाई

हेलो दोस्तों में रेखा आप सबके सामने मेरी एक और चुदाई की कहानी लिख रही हूँ. antarvasna antarvassna Indian Sex Kamukta Chudai Hindi Sex में एक २८ साल की बहोत ही ज्यादा चुदक्कड औरत हूँ. और मेरी एज २८ की हे और मेरी शारीर एक दम गोरा हे और कसा हुआ हे. और मेरी चूत गुलाबी कलर की हे और मेरी चूत पर कभी भी बाल नही होते तो अब में अपनी स्टोरी पे आती हूँ ये कहानी आज से करीबन एक महीने पहले की हे एक दिन मेने सोचा की में कही जाके एसे चुदाई करवाऊ ताकि में अपने आप को एक बाजारू औरत के रूप में महसूस कर सकू.

और में फिर रात को नाहा धोकर रेडी हुई और मेने एक डीप गले वाले ब्लाउज पहना जो की पुराना था और काफी टाइट था जिससे मेरे बूब्स ब्लाउज में नही समां रहे थे और आधी चुचिया बहार निकल आई थी और मेने एक पिंक कलर की साड़ी डाल ली और मेकअप किया और रेड कलर की डार्क लिपस्टिक की और बालो का झोडा बना कर उसमे एक फुल लगाया और अपने आप को आईने में देखा तो में बिलकुल कोठे की रंडी की तरह ही लग रही थी. और मन ही मन सोचा की आज तो एक रंडी की तरह ही चुदवाना हे और में अपनी कार लेके निकली घर से और घर से काफी दूर एक सुमसाम सडक पर कार खड़ी की और बहार निकल कर कार के पास खड़ी रही. और अपने पर्स में से एक सिगरेट जलाई और पिने लगी में आप सबको बता दू की में कोई कोई बार ही स्मोकिंग करती हूँ और ड्रिंक भी और फिर में सडक पे से आने जाने वाली कार को देखने लगी और कुछ देर बाद वह से एक कार निकली और उसने थोड़ी आगे जाकर वापिस मूड़ी अपनी कार और मेरे पास आ कर खड़ी कर दी.

और मेने कार में देखा तो उसमे २४ या २५ साल के ३ जवान और हट्टे कट्टे लड़के थे जो की थोड़े अच्छे घर के लग रहे थे और फिर आगे की खिड़की पे एक लड़का बैठा था जो मेरे सामने मुस्कुराया और मेने भी उसके सामने स्माइल कर दी और फिर वो कार में से बहार आया और मेरे पास आ कर खड़ा हुआ और बोला चलती हे क्या तो मेने पूछा कहा पर तो वो बोला मेरे फार्म हाउस पर कोई नही हे तो आज तेरे साथ मजे करेंगे हम तीनो और और तू कितने पेसे लेगी एक रात के ये सब सुनके मुझे कुछ अजीब सा फिल हो रहा था.

और में समज गयी की मुझे वो एक रंडी समज रहा हे और इसी लिए मुझेसे कितने पेसे लेगी एसा पूछ रहा था और हा मन ही मन मुझे डर भी बहोत लग था था. क्यू की मेने चुदाई तो काफी बार करवाई थी पर इस तरह एक अनजानी जगह पर और अंजन लोगो के साथ वो भी रात के करीब १० बज गये थे वेसे तो मुझे पेसो की कोई जरूरत नही थी फिर भी मेने उसे कहा ५००० रूपये लुंगी. नाईट के तो वो खुस हो गया और शायद मेने सोचा की मेने कुछ कम भाव बोला होगा.

पर खेर यहाँ बात पेसो की नही थी. बस अपनी चूत की प्यास बुजाने की थी. तो अब वो बोला ठीक हे आओ कार में बेठो तो मेने कहा नही मेरी कार भी लेनी पड़ेगी. साथ में तो उसने कहा ठीक हे और उसने अपने दोस्त को कहा तुम लोग मेरे फार्म हाउस पे पहोंचो.में इसके साथ इसकी कार में वह पर मिलता हूँ और फिर वो मेरे साथ मेरी कार में बेठ गया और हम उसके फार्म हाउस के लिए निकल गये और रस्ते में उसने मुझे अपना नाम पूछा तो मेने अपना नाम झुटा बताया और मेने कहा मेरा नाम रानी हे. और मेने उसे अपना नाम पूछा उसने अपना नाम मुझे रवि बताया और कुछ देर में हम लोग पहोच गये. और हम सब अन्दर गये और सोफे पर बेठे और वो अन्दर गये और उसके साथ में उसका दोस्त जिसका नाम साहिल था और उसका तीसरा दोस्त मेरे बाजु में आकर मेरे पास बेठ गया जिसका नाम मयूर था कुछ देर बाद रवि और साहिल बाहर आये तो मेने देखा की साहिल के हाथ में एक दारु की बोतल थी और रवि के हाथ में ४ ग्लास और पानी और कुछ खाने का सामान था.

और उसने आकर वो टेबल पर रख्खा तो मेने कहा के में सोडे के साथ पीती हूँ पानी में सराब मुझे अच्छी नहीं लगती. तो रवि अन्दर गया और एक सोडे की बोतल ले आया और फिर मेरी दूसरी बाजू आके बेठ गया अब मेरी एक बाजू रवि और दूसरी बाजू मयूर बता था और साहिल सामने बेठा था. और अब मयूर पेग बनाने लगा और उसने हम चारो के पेग बनाये और हम लोग पिने लगे और थोड़ी देर में ही हमने दो दो पेग पि लिए और अब मुझे नशा हो रहा था और रवि ने मुझे अपनी और खिंचा और मेरे कंधो पे से होते हुए उसका हाथ मेरे बूब्स को सहल;अ रहा था और उधर मयूर मेरी जांगो को सहला रहा था. और साहिल सामने बता ही था अब तक रवि ने मेरा पल्लू हटा दिया और मेरे ब्लाउज के हुक खोल दिए. और मेरा ब्लाउज हटा दिया और मेरी चुचिया उसकी आँखों के सामने थी और वो बोला वह रे रंडी मेरी रानी तेरी चुचिया तो एक दम टाइट और गोरी गोरी हे लगता ही नही के तू एक रंडी हे और वो मेरी चुचियो के साथ खेलने लगा.

उधर मयूर ने मेरी साडी और पेटीकोट को भी निकाल दिया था और में बिलकुल नंगी थी और मयूर ने मेरी चूत देख कर कहा रानी तेरी चूत भी काफी बिलकुल तेरी तरह ही चिकनी और गुलाबी हे और एक भी बाल नही हे इसे तो चोदने और चाटने में बहोत मज़ा आएगा अब में भी थोड़ी गरम हो चुकी थी और मेने अपने हाथ से रवि का शर्ट निकाल दिया तो रवि खड़ा हुआ और उसने अपने पुरे कपडे निकाल दिए और मेने देखा उसका लंड ९ इंच लम्बा और काला था. पर जादा मोटा नहीं था. और वापिस बेठ कर मेरी चुचिया चूसने लगा. और मयूर मेरी चूत चाट रहा था.

और बिच बिच में वो मेरी चूत के दाने को काट रहा था और अब साहिल सामने से खड़ा हुआ और अपने कपडे निकाल दिए और मेने उसका लंड देखा तो वो करीब ८’ का था और काफी मोटा था. अब वो उसने अपने लंड को मेरे मुह के सामने लाकर रख दिया और मेने उसके लंड को बिना पकडे ही चाटना सुरु किया और अपने एक हाथ से रवि का लंड सहला रही थी और दुसरे हाथ से मयूर का मुह मेरी चूत में दबा रही थी.

अब मेने साहिल का लंड मुह में लिया और जोरोसे चूसने लगी और फिर साहिल ने अब मेरे बालो को कास के पकड़ लिया और बोला साली रंडी बहेन की लोदी आज तेरे मुह को चोद चोद के अपने लंड का पानी तेरे मुह को पिलाऊंगा और अब उसने एक पेग बनाया और उसमे अपने लंड को डाल कर पूरा लंड सरब वाला किया और वो पेग मुझे पिला दिया और फिर मेरे मुह को कसकर पकड़ लिया और अपना लंड मेरे मुह में डाल कर अपनी कमर हिलाने लगा और मेरे मुह को चोदने लगा अब मुझसे रहा नही जा रहा था मुझे सरब का और चुदाई का दोनों का नशा चढ़ चूका था और मेरी चूत भी गीली हो गयी थी उधर मयूर भी अब काफी जोर से अपनी जीभ से मेरी बुर को चोद रहा था.और वो कभी मेरी चूत में ऊँगली डालता तो कभी चाटता और रवि मेरी चुचिया को भी कभी चुस्त तो कभी मसलता तो कभी काटता था उसने मेरी चुचियो को चूस चूस कर लाल बना दिया था और करीबन आधे घंटे के बाद में झड गयी और साहिल भी झड गया मेरे मुह में उसने अपना सारा पानी गिरा दिया और में सब पानी पि गयी.

और उसके लंड को चाट के साफ़ कर दिया. फिर साहिल बोला क्यू रंडी केसा लगा. मेरा पानी तो में उसके सामने हसी और उधर मयूर मेरी चूत का सारा रस चाट गया और खड़ा हुआ और बोला साली मादरचोद भोसड़ी की रानी तेरा चूत का रस तो बहोत गरम था अब मुझसे रहा नही जा रहा था तो मेने मयूर को कहा मेरी चूत में अपना लंड डाल दो और चोदो मुझे अब और सहन नही हो रहा हे. मुझसे और अब रवि भी खड़ा हुआ और साहिल वहा बेठा और मेरी चुचियो को चूसने लगा और रवि ने अपने अंडकोस को मेरे मुह पर रख दी. में उसे चूसने लगी और वह पर मयूर ने अपना लंड मेरी चूत के मुह पर रख्खा और एक ही झटके में पूरा के पूरा लंड अंदर डाल दिया. मेरी चूत गीली थी तो उसका लंड आराम से चला गया पर मुझे थोडा दर्द हुआ और में चिल्लाई आआह्ह्ह्ह्ह्ह्ह् आह्ह्ह्हह्ह अह्ह्ह्हह अह्ह्ह्हह्ह आआअह्ह्ह्ह्ह्ह्ह् आआह्ह्ह अह्ह्हाह्ह्हा आआह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह् आआऔऊउ आऊऊउ आआआऔउ ऊऊऊऊफ़्फ़फ़्फ़फ़्फ़फ़्फ़फ़ ऊउफ़्फ़फ़्फ़फ़्फ़फ़ उफ़ुफ़ुफ़्फ़ुफ़ूफ़ उफुफुफुफ्फुफ़ उफुफुफुफुफ्फ़ थोडा प्यार से और फिर रवि ने अपने लंड को मेरे मुह में धकेल दिया जिससे में और चिल्ला ना सकू.

उधर अब मेरी चूत फाड़ रहा था और कुछ ही देर में उसने अपनी स्पीड काफी तेज कर दी और मेरी चूत को चोदने लगा अब मुझे बड़ा ही मज़ा आ रहा था और साहिल भी मेरी चूची को एसे चूस रहा था जेसे कोई बच्चा अपनी माँ का दूध पि रहा हो और उधर रबी मेरे मुह को चूत समज कर चोद रहा था और इसकी वजह से मेरी आँखों से पानी निकल रहा था और कुछ देर में ही वो मेरी चूत में खद गया और अपना सारा माल मेरी चूत में डाल दिया और इसके ठीक ७ या ८ मिनट बाद ही रवि भी मेरे मुह में अपने लंड का पानी गिरा दिया.

और में भी अब तक जड चुकी थी. और मेरी चूत मेरे और मयूर के पानी से पूरी भर गयी थी और अब हम सब वापिस बेठे और पिने लगे और करीब १५ मिनट बाद मयूर ने तेल लिया और मेरे पास आया और मेरे चुत्ताडों को फेलाया और मेरी गांड के छेद को चाटने लगा और रवि आकर मेरे मुह में लंड डाल दिया और पास में ही साहिल था.

अब में दोनों के लंड को बारी बारी चूसने लगी उधर मयूर मेरी चूत में थूक डाल कर अपनी ऊँगली डाल कर हिला रहा था. और थोड़ी देर में रवि और साहिल दोनों के लंड खड़े हो गये और अब रवि ने मुझे बेड पर ले जाके खुद लेट गया और मुझे अपने उपर बिठाया और मेने उसके लंड को पकड़ कर मेरी चूत के छेद पर रख्खा और उसने एक ही झटके में अपना लंड मेरी चूत में डाल दिया और चोदने लगा अब मुझे बहोत मजा आ रहा था और अब साहिल पीछे से आया और मेरी गांड के पास अपना लंड लाया और मेने अपने हाथो से अपने चुत्ताड़ो को फेलाया फेलाया और साहिल ने मेरी गांड के छेड़ पर अपना लंड रख्खा और एक ही झटके में आधा लंड मेरी गांड में घुसा दिया और में जोर से चिल्लाई तो मयूर ने आके मेरे मुह में अपना लंड डाल दिया और में अब चिल्ला भी नही पा रही थी. और मुझे दर्द भी बहोत हो रहा था अब मेरी गांड और चूत एक साथ चुद रहे थे और साथ में मेरे मुह की भी चुदाई हो रही थी अब मुझे बहोत मजा आ रहा था.

और में सातवे आसमान में पहोच गयी थी. और में चुदाई का पूरा मजा ले रही थी और अपनी गांड और चूत दोनों साथ में बहोत मस्ती से चुदवा रही थी. और दोनों ने स्पीड भी काफी तेज कर दी थी और मुझे एक रंडी समज कर जानवरों की तरह चोद रहे थे और कुछ ही देर में मयूर मेरे मुह में झड गया. इस दौरान में दो बार झड गयी थी. और फिर रवि भी झड गया और साहिल ने भी मेरी गांड में सारा पानी निकाल दिया. अब में काफी थक गयी थी और एसे ही नंगी लेटी रही. और वो तीनो वापिस सरब पिने लगे और थोड़ी देर के बाद मयूर आया और मेरी गांड में लंड घुसा दिया और मेरी गांड मारने लगा में एसे ही उलटी लेटी थी और मेने कहा साले मादरचोद अब तो बस कर वो नही माना और मेरी गांड काफी स्पीड में चोदने लगा. तो अब में भी मस्ती में आ गयी. और उसका साथ देने लगी. और कहा चोद साले मार मेरी गांड और फाड़ दे और मेरी गांड को गुफा बना दे. और वो जल्द ही झड गया और इस बार उसका पानी भी कम निकला.