बुवा की नंगी जिस्म देखकर लंड हुई खड़ा भाग-2

मैं आधी नंगी जाँघो को मसाज कर रहा था और अब antarvasna antarvassna Indian Sex Kamukta Chudai Hindi Sex मैंने और थोड़ा ऊपर हाथ लगाया तो उनकी सफेद पेंटी दिखने लगी और मैं भी कामुक होने लगा. फिर बुआ ने भरी हुई आवाज़ में कहा कि बेटा और थोड़ा ऊपर आ जा जाँघो के बीच से कर ना. तो मैंने उनका गाऊन गांड के ऊपर तक सरका दिया और उनकी नंगी मोटी सेक्सी जांघे रगड़ने लगा तो वो अभी मुहं से हल्की हल्की सिसकियां ले रही थी और फिर मैंने उनसे बिना पूछे उनकी चिकनी गांड पर हाथ रगड़ना शुरू कर दिया और उधर वीडियो में वो लड़का उस मस्त आंटी को अलग अलग पोज़ में चोद रहा था.. उस वीडियो वाली आंटी के साथ बुआ भी सिसक रही थी. फिर गांड और जांघे मसलते हुए बुआ की पेंटी बीच में आ रही थी और अचानक मेरा हाथ उनकी चूत को 4-5 बार पीछे से छू गया और वो पैर फैलाकर सोई थी. तभी उन्होंने पूछा कि बेटा क्या कुछ दिक्कत हो रही है? तो मैंने एकदम धीरे आवाज़ में कहा कि जी हाँ आपकी पेंटी थोड़ा बीच में आ रही है. वो बहुत गरम हो गयी थी और कुछ नहीं बोली.. फिर मैंने उन्हे सीधा सोने को कहा और वो छाती पर लॅपटॉप लेकर सर के नीचे दो तकिये लगाकर लेट गयी. मैंने उनका एक पैर गोद में लिया और मसाज करने लगा..

बुआ का बदन भट्टी की तरह तप रहा था और उन्होंने मेरे सामने ही चूत को पेंटी के ऊपर से एक दो बार रगड़ा.. कभी सिसकियां लेती तो कभी धीरे से बूब्स सहलाती, कभी चूत रगड़ती और वो वीडियो देखकर पागल हो रही थी. फिर उन्होंने कहा कि बेटा मसाज थोड़ा ऊपर करना.. तो मैंने उनका गाऊन पेट तक ऊपर उठा दिया था और उनकी नंगी जांघे देखकर मेरा लंड मेरे कपड़े फाड़े जा रहा था. फिर उन्होंने अपना हाथ मेरे हाथ के ऊपर रखा और कहा कि अरे बाबा ऊपर मतलब इसके बीच में कर. तो मैंने हाथ को चूत और जाँघ के बीच में रखकर हल्का सा दबाया.. मैं पूरा गरम हो गया था और वो भी.. अब मैं जब जाँघ और चूत के बीच रगड़ रहा था. तभी उन्होंने लेपटॉप बंद करके साईड में रखा और आंखे बंद करके सिसकियां ले रही थी. फिर मैंने डरकर एक उंगली पेंटी के अंदर डाली.. बुआ के मुहं से अहह निकली और अपनी मदहोश आँखों से मुझे देखकर मुस्कुराते हुए बोली कि पूरी गीली हो गयी है ना.. निकाल दे. फिर क्या था मैंने उनके पेट पर झुककर किस किया वो मेरे बालों में हाथ डालकर सहलाने लगी और मैंने पेंटी के ऊपर से किस करते करते पेंटी को निकाल दिया और चूत पर होंठ रखकर बुआ की चूत चाटने लगा.. वो पागल हुए जा रही थी और बोल रही थी जिंदगी मैं पहली बार इतना गरम हुई हूँ और पहली बार कोई मेरी चूत चाट रहा है बेटा बहुत चूसना आहह उउउइ गुदग़ुगी होती है अहह थोड़ा धीरे कर ना.

फिर यह कहकर वो गांड उठा उठाकर चूत मेरे मुहं पर रगड़ रही थी और मस्त होकर आवाज़े निकाल रही थी. हाए मार डालेगा क्या मुझे अहह कितना तंग करता है तू आअहह. फिर उन्होंने मेरा हाथ पकड़कर अपने बूब्स रखा और कहा कि थोड़ा इनके साथ भी खेल ले और उन्होंने मेरी मदद की उनका गाऊन और ब्रा निकालने में.. तो मैंने भी अपनी पेंट को उतार दिया. तो बुआ ने मुझे थोड़ा और पास बुलाकर मेरे लंड को मुट्ठी में पकड़ा और एक दो बार हिलाया और मेरी आखों में देखकर बोली कि राजा आज पूरी रात मुझे सोने मत देना. हम दोनों पूरे नंगे थे और उनके दोनों बच्चे भाई के रूम में सो गए थे.. माँ, पापा उनके बेडरूम में थे तो पूरी रात भर हमे किसी के परेशान करने चान्स नहीं था. फिर मैंने बुआ को अपने नज़दीक खींच लिया और उनको बाहों में भर लिया.. दोनों के नंगे बदन की गर्मी एक दूसरे को महसूस हो रही थी.. बुआ की चमड़ी एकदम गोरी और मुलायम थी और फिर मैंने उनके होंठ पर अपने होंठ रखकर चूसना शुरू किया.. वाह उनके मुलायम होंठ और मेरे हाथ उनकी पीठ पर और गांड पर घूम रहे थे और मैं उनके बूब्स दबा रहा था.

फिर बुआ भी एकदम से पूरी गर्म हो गयी थी और मेरा लंड हाथ में पकड़कर सहला रही थी. फिर मैं उनकी गर्दन को किस करते हुए बूब्स तक पहुंचा.. उनके सीधे बूब्स के निप्पल पर अपनी जीभ रख दी और चाटने लगा.. बुआ सिसकियां लेने लगी उह्ह्ह आअहह. तो मैंने उसी निप्पल को हाथ में पकड़कर मसल दिया.. तो बुआ कहने लगी कि आआहह थोड़ा धीरे कर राजा दर्द होता है फिर दूसरे बूब्स को थोड़ा मसला और निप्पल को दांत में पकड़कर खींचा.. वो कहने लगी कि आअहह मस्त मज़ा आ रहा था और मैं दोनों बूब्स के बीच मैं अपनी जीभ घुमा रहा था तो बुआ पागल हो गयी और मेरा सर बूब्स पर दबाने लगी अह्ह्ह मेरे राजा कितना मस्त हॉट है रे तू.. चूस और चूस इन बूब्स को आअहह मज़ा आ रहा है.. खा जा इनको.. दूध निकाल दे इनका.. ज़ोर से दबा आहह जानू. फिर मैंने उनके पेट पर किस करना शुरू किया और थोड़ा नीचे झुककर चूत पर एक किस किया और गांड के छेद को किस करने लगा.

तो उन्होंने मना किया और फिर भी गांड के एक दो किस करने के बाद उन्होंने मेरा लंड हाथ में लेकर मुझे उनके दोनों पैरों के बीच में बैठने को कहा और मेरा लंड लेकर अपनी चूत के मुहं पर रगड़ने लगी और अपनी दोनों आखें बंद करके मज़े लेने लगी. तो मैंने उनका हाथ हटाया और लंड को चूत के ऊपर सेट किया और लंड एक झटके में चूत के अंदर डाला और मेरा लंड लगभग 6 इंच का है और ठीक ठाक साईज़ का मोटा है. फिर बुआ मस्त हुई और मैं धीरे धीरे धक्के देकर उन्हे चोद रहा था और अब बुआ भी मस्ती में आ गई थी. फिर मैं कभी नीचे झुककर उन्हे क़िस करता तो कभी उनके बूब्स मसल देता, तो कभी उनकी गांड दबा देता और फिर थोड़ी देर रुककर फिर से शुरू हो जाता. आहह मुझे बहुत मजा आ रहा था. तो बुआ कहने लगी कि आहह राजा कितना मज़ा आ रहा है रे उउह्ह्ह आहह और थोड़ा तेज कर ना आहह मसल दे यह बूब्स.. साले मिटा दे मेरी चूत की खुजली आहह और ज़ोर से चोद ना राजा आहह सस्स्सस्स थोड़ा और ज़ोर से कर.. मैं झड़ने वाली हूँ में आह्ह्ह गई राजा आहह.

फिर मैं उन्हे चोदने लगा. फिर मेरा भी वीर्य निकलने वाला था और चूत पूरी गीली थी आहह ऊफफफ्फ़ और मैं उनको और तेज तेज चोदते चोदते ही उनकी चूत के अंदर ही झड़ गया और उन्हे कसकर पकड़ लिया. फिर दो मिनट हम वैसे ही पड़े रहे और एक लंबा लिप किस किया और दोनों साथ में बाथरूम में गये. बुआ ने मुझसे चूत साफ करवाई और मेरा लंड उन्होंने चाटकर साफ किया. फिर लंड और चूत धोकर हम बेड पर आए और एक दूसरे की बाहों में नंगे सो गये. उस रात हमने दो बार और सेक्स किया और सुबह 5 बजे सोए. दोस्तों इस तरह मैंने मेरी बुआ की चूत की आग और उनके जिस्म को ठंडा किया.. लेकिन हमारी चुदाई यहीं पर ही खत्म नहीं हुई. अब मुझे और बुआ को चुदाई का बहाना चाहिए था. उनको मेरा लंड चाहिए और मुझे उनकी चूत ..