स्विमिंग पूल में चोदा पडोसी अंकल ने

मेने सोच लिया था कि मैं बबिता वो सब करने को कहूँगा Hindi Sex Stories Antarvasna Kamukta Sex Kahani Indian Sex Chudai जो वो नही करना चाहती. अगर उसने ना कही तो में शर्त जीत जाउन्गा. पार्टी के दिन में ऑफीस में यही सोचता रहा और शाम तक मेने सब कुछ सोच लिया था कि मुझे क्या करना है.

बबिता के ख्यालो में खोए हुए जब में शाम को घर पहुँचा तो मेरा लंड पूरा खंबे की जैसे तना हुआ था. प्रीति ने मुस्कुराते हुए दरवाज़ा खोला और मुझे बाहों मे भर चूम लिया. मेरा लंड उसकी चूत पे ठोकर मार रहा था. प्रीति ने दरवाज़ा बंद किया और घुटनो के बल बैठते हुए मेरी पॅंट के बटन खोलने लगी.

में दीवार का सहारा ले खड़ा हो गया और प्रीति मेरे लंड को बाहर निकाल चूसने लगी. वो मुझे ज़ोर ज़ोर से चूस रही थी और में उसके बालों को पकड़ अपने लंड पर उसके मुँह का दबा रहा था. थोड़ी देर मैने मेरे लंड उसके मुँह मे वीर्य छोड़ दिया जिससे वो सारा गटक गयी.

अपने होठों पे लगे मेरे वीर्य को अपनी जीभ से साफ करते हुए वो बोली, “राज जानते हो आज में बाज़ार से क्या लेकर आई हूँ?” इतना कह वो मुझे घसीट कर बेडरूम मे ले गयी. बेडरूम मे पहुँच मेने देखा कि बिस्तर पर एक बहोत ही काले रंग का 9 इंच लंबा और 3 इंच मोटा डिल्डो पड़ा था.

प्रीति ने बताया कि वो ये डिल्डो बबिता के साथ बाज़ार से लाई है. ये बॅटरी से चलता है. प्रीति इसे आजमाना चाहती थी, मेने ड्रॉयर से बॅटरी निकाल उसमे लगा दी. प्रीति बिस्तर पर लेट गयी और अपने गाउन को कमर तक उठा दिया और अपनी चूत को फैला दिया.

मेने देखा कि कई दीनो से प्रीति ने पॅंटी पहनना छोड़ दिया था. “में चाहती हू कि तुम इसे मेरी चूत में डालकर मुझे इससे चोदो.” कहकर प्रीति ने डिल्डो मेरे हाथों मे पकड़ा दिया. मेने पहले उसकी सफ़ा चट चूत को चूमा फिर डिल्डो को उसकी चूत के मुहाने पे रख दिया. डिल्डो मेरे लंड से भी मोटा था और में सोच रहा था कि वो प्रीति की चूत में कहाँ तक जाएगा.

में डिल्डो उसकी चूत पे रख अंदर घुसाने लगा. प्रीति अपनी टाँगे हवा में उठाए हुए थी. थोड़ी देर मैने ही पूरा डिल्डो उसकी चूत मे घुसा दिया. उसका ऑन का स्विच ऑन कर दिया. अब वो प्रीति को मज़े दे रहा था और उसके मुँह से सिसकारी निकल रही थी, “ओह अहह.”

इतने में ही फोन की घंटी बज़ी. प्रीति झट से बिस्तर पर से उठ फोन सुनने लगी. फोन पर उसकी फ्रेंड थी जो थोड़ी देर मे हमारे घर आ रही थी. प्रीति ने अपने कपड़े दुरुस्त किए और डिल्डो को बेड के साइड ड्रॉयर मे रख दिया. दरवाज़े की घंटी बज़ी और प्रीति अपने फ्रेंड को रिसीव करने चली गयी.

मेने भी रात के कार्यक्रम को अंजाम देने की लिए बबिता का फोन मिलाया. उसने पहली घंटी पर ही फोन उठाया और हंसते हुए पूछा, “प्रीति को अपना नया खिलोना कैसा लगा?” मेने उसकी बातों को नज़रअंदाज़ कर दिया. मेने उसे बताया कि उसे रात की पार्टी में टाइट ब्लॅक ड्रेस पहन कर आनी थी और उसे नीचे कुछ भी नही पहनना था. ना ही किसी तरह की ब्रा और ना ही पॅंटी. और साथ ही संडले भी एक दम हाइ हील की होनी चाहिए. उसने बताया कि ऐसी ही एक ड्रेस उसके पास है. बबिता ने पूछा कि उनके कुछ दोस्त उनके साथ रहने के लिए आ रहे है, क्या वो उन्हे साथ में पार्टी में ला सकती है. में उसे हाँ कर दी.

सब से पहले पहुँचने वालों में प्रशांत और बबिता ही थे, वी करीब 7.00 बजे पहुँच गये थे. उनके साथ उनके दोस्त अविनाश और मिनी थे. दोनो की जोड़ी खूब जाँच रही थी. अविनाश जिसे सब प्यार से अवी कहते थे थ्री पीस सूट में काफ़ी हॅंडसम लग रहा था. और मिनी का तो कहना ही क्या, उसने काले रंग की डीप कट ड्रेस पहन रखी थी जो उसके घुटनो तक आ रही थी. गोरा रंग, पतली कमर और सुडौल टाँगे. मिनी काफ़ी सुन्दर दिखाई दे रही थी.