नज़रे उठी इज़हार हुआ बस में

बात 1990 की है, जब मैं कॉलेज में फर्स्ट ईयर में अपनी पढाई कर रहा था Hindi Sex Stories Antarvasna Kamukta Sex Kahani Indian Sex Chudai antarvasna1 मैंने कॉलेज में NCC भी ज्वाइन कर ली थी! अपने शरारती स्वभाव, अपनी अदाकारी और अपनी आवाज़ के जादू से मैं NCC और कॉलेज में बहुत प्रसिद्ध (फेमस) था! NCC मैं किसी भी काम को करने में हम पांच लोगो का ग्रुप सबसे आगे रहता था! और यही एक कारण था कि, हर काम में सबसे पहले मुझे ही प्राथमिकता (preference) दी जाती थी!

एक बार हमारा एक दिन का NCC शूटिंग कैंप लगा, जिसमे हमें अपने शहर से रूड़की जाना था! हम कैडेट्स सुबह 6 बजे रूड़की के लिए रवाना हुए और शूटिंग रेंज पर 8 बजे एकत्रित हुए! हम कैडेट्स को अलग-अलग तरह की राइफल्स जिसमे लाइट मशीन गन (LMG), मीडियम मशीन गन (MMG), सेल्फ लोडिंग राइफल (SLR), पिस्टल .32 बोर और मशीन गन शूटिंग के लिए दी गयी! हमारे JCOs ने हमे अलग-अलग तरह से गन्स को चलाने की ट्रेनिंग दी! जो हर किसी को अच्छी लगी!

लेकिन हममे से कुछ NCC कैडेट्स का तो कन्धा (shoulder) लाइट मशीन गन चलाने से छिल गया! उनका कन्धा लाल पड़ गया था, फिर उन्हें प्राथमिक चिकित्सा (First Aid) दी गयी, और उन्हें शूटिंग रेंज से बाहर ले गये! मैंने भी उस दिन खूब फायर्स किये! मशीन गन चलाने में मुझे बहुत मजा आया! अब शाम के 4 बज चुके थे, और हम कैडेट्स को अपने शहर वापस आना था! तो, रूड़की बस स्टैंड से सभी कैडेट्स एक बस में सवार हो गये!

सभी कैडेट्स ने बस में अपनी अपनी सीट ले ली! मैं सबसे बाद में चढ़ा, तो देखता हूँ कि पूरी बस में एक ही सीट खाली थी, जिसपर दो लोग बैठ सकते थे! लेकिन वहाँ उस पर एक लड़की बैठी हुई थी! कोई भी कैडेट उस लड़की के पास नहीं बैठा! मैं आया और उस लड़की के बाजू में बैठ गया! वो लड़की अपने बायोलॉजी के नोट्स पढ़ रही थी! मैंने भी बायोलॉजी 10th तक पढ़ी है, इसलिए आज मुझे उसकी किताब में देखकर पढना अच्छा लगा रहा था! मुझे उसकी लिखावट (hand writing) बहुत अच्छी लगी! और अब हम दोनों उसके नोट्स पढ़ रहे थे!

आजू बाजू क्या चल रहा था, मुझे कुछ नहीं पता! सारे कैडेट्स मेरी मजाक बना रहे थे (जो मुझे बाद में मेरे दोस्तों ने बताया). कंडक्टर आया और उसने टिकट के लिये कहा लेकिन मैं उस लड़की के नोट्स में इतना मशगूल था कि, मुझे कुछ पाता ही नहीं चला! फिर उस लड़की ने मेरे कंधे पर हाथ रखकर कंडक्टर की और इशारा करके टिकट लेने को कहा!

मैंने अभी तक उस लड़की का चेहरा नहीं देखा था, उसके कंधे पर हाथ रखते हि, मेरी नज़रे उसकी नज़रों से टकराई, मैंने सॉरी कह कर इज़हार किया और फिर बस का टिकट कटवा लिया! अब मैंने उस लड़की से पुछा की वो क्या करती है? उसने बताया कि, वो मेरठ यूनिवर्सिटी में बायोलॉजी की स्टूडेंट है! फिर हम दोनों कुछ समय तक बात करते रहे! वो लड़की देखने में सुन्दर नहीं थी लेकिन अच्छी थी! मेरा शहर आने वाला था! और अब मेरा उससे विदाई लेने का समय भी नजदीक आ रहा था! मैंने उसे एक कागज पर अपना पता (home address) दिया, जवाब में उसने भी मुझे अपने मेरठ गर्ल्स हॉस्टल का पता दे दिया!

हम लोगो का कुछ समय तक पत्राचार चलता रहा! लेकिन कुछ समय के बाद वो भी बंद हो गया, और मेरी अपनी ज़िन्दगी की किताब में एक और अध्याय जुड़ गया!