उसने घर बुला के मेरा लंड लिया

हाई दोस्तों मेरा Antarvasna नाम राज हे और ये मेरी पहली सेक्स कहानी हे. पहले कभी लिखा नहीं हे इसलिए कुछ इधर उधर हो तो प्लीज़ माफ़ कर देना. मैं हरयाणा में रहता हूँ और अपने खुद का बिजनेश चलाता हूँ. मेरी उम्र 25 साल हे और हाईट साड़े 5 फिट की हे. दिखने में मेरा रंग गोरा हे और लंड 7 इंच लम्बा और ढाई इंच मोटा हे.

ये कहानी मेरी एक दोस्त के साथ मेरे अफेयर की हे की कैसे मैंने उसे अपना बनाया. ये बात तब की हे जब वो हमारे घर के पास वाले हाउस में रेंट पर रहने के लिए आई. मैं ज्यादातर घर से बहार ही रहता हूँ सुबह से शाम तक इसलिए पहले तो मेरा उस से कोई मिलना नहीं था.

पर एक दिन वो हमारे घर पर कोई काम से आई तो मैं उसे देखता ही रह गया. यारो मेरा तो उसे देखते ही खड़ा हो गया. वो क्या लग रही थी. उसके बूब्स 34 इंच के थे और ऐसे लग रहे थे की जैसे रस भरे आम हो. उसकी कमर पतली थी करीब 28 की और [पिछवाडा 34 का ही होगा.

उसके साथ उसके घर में उसके पेरेंट्स और एक भाई था. अब मैं उसे पाने के लिए बेताब सा हो गया था. मेरा मन अब उसकी चुदाई के लिए बड़ा ही उत्सुक था. मै उसे मिलने के लिए मौका ढूंढने में लगा हुआ था. एक दिन वो छत के ऊपर कपडे सुखाने के लिए आई तो मैंने उसे देखा तो मैं भी छत पर चढ़ गया. मैंने उस से बात करने की पहल की. हाई हल्लो के बाद मैंने उसे कहा की क्या करती हो तुम? उसने बताया की अभी वो पढ़ाई कर रही थी. और फिर हमारी बातों का सिलसिला चालू हो गया. वो मुझे अच्छी लगती थी इसलिए मैं रोज उसके साथ बात के लिए मौका देखता था. उसे भी जैसे मेरे साथ बात करने में मजा आता था. क्यूंकि अब वो बिना किसी काम के भी अपनी छत पर आती थी. एक दिन बात बात में मैंने उसका मोबाइल नम्बर माँगा तो उसने मुझे दे दिया.

अब मैं उसे अपने मोबाइल से मेसेज भेजने लगा. पहले अच्छे अच्छे मेसेज. और फिर कुछ दिन के बाद दो मतलब वाली शायरी और जोक्ज़. और उसके बाद तो मैं सेक्स के मेसेज भी भेजने लगा. फिर मैं धीरे धीरे उसके साथ सेक्स की बातें मोबाइल के ऊपर ही करने लगा. और एक दिन मुझे ऐसा मौका मिला कि उसके करीब जा सकूँ. उस दिन उसके घर वाले बहार जा रहे थे और तब उसने मुझे कहा की मैं रात को उसके घर पर जाऊं. मैं अपनी छत से उसकी छत पर गया. उसने ऊपर का दरवाजा खोल रखा था मेरे लिए.

मैं करीब 10 बजे उसके घर पर गया और वो घर में एकदम अकेली ही थी. मैंने जाते ही पीछे से उसको पकड लिया और उसे किस करने लगा. उसे 5-7 मिनिट किस दी और उसे उस के बेडरूम में लेकर गया और उसे बेड के ऊपर लिटा दिया. फिर मैंने उसके टॉप में हाथ डाल दिया और उसके बूब्स को ब्रा के ऊपर से ही दबाने लगा. उसके बूब्स बड़े ही सोफे थे और मैं उन्हें एकदम जोर जोर से दबाने लगा था. वो मेरा साथ देने लगी थी. फिर मैंने उसके बूब्स को ब्रा से बहार निकाला और निपल्स को अपने फिंगर्स में लेकर मसलने लगा. उसकी हालत खराब हो रही थी. और वो अह्ह्ह अह्ह्ह्ह उफफ्फ्फ्फ़ आह करने लगी थी. फिर मैंने उसके बूब्स को सक करना चालू कर दिया. वो जोर जोर से मोअन करने लगी थी. मैं उसे किस कर रहा था और उसे चूस रहा था. वो बार बाढ़ अह्ह्ह्ह अह्ह्ह सक माय बूब्स ऐसे बोल रही थी.

मैंने उसे चूस चूस के एकदम लाल कर दिया था. और फिर मैंने उसकी जींस के बटन को खोला और अपना हाथ निचे ले जाते हुए उसकी चूत पर ले गया. और मैंने देखा की उसकी चूत बिलकुल गीली हो चुकी थी. और मैं उसकी चूत पर ऊँगली घुमाने लगा अपनी. और उसके चूत के दाने को जोर से हिलाने लगा. इस बिच में उसने मेरे को मेरे कान में और लिप्स के उपर बहुत जोर से काटा. और वो अपने हाथ को मेरी पीठ के ऊपर ले जा के वहां अपने नाख़ून से खरोंचने लगी. उसके नेल्स के निशाँ मेरी पीठ के ऊपर बन रहे थे.

फिर मैं उसे चुमते हुए निचे आने लगा और उसकी नाभि के ऊपर किस करने लगा. वो और गरम हो कर बेचें हो गई. मैंने उसे चुमते हुए एक हाथ से उसके बूब्स दबाये और देखा की उसकी चूचियां एकदम टाईट हो गई थी. और वो बार बार मोअन कर रही थी. फिर मैंने उस की पेंटी उतारी और देखकर दंग रह गया. छोटी सी चूत और उसके ऊपर एक भी बाल नहीं था. मैंने उसकी चूत को पहले नाक लगा के सूंघा एयर उसे चूसने लगा. वो जोर जोर से मोअन करने लगी अह्ह्ह अह्ह्ह्ह अह्ह्ह्ह उईई माँ!

मैंने उसकी चूत के दाने को अपने होंठो के अन्दर दबाया और उसे प्यार से जबान से लिक किया. वो बोली, अह्ह्ह आआआआअ मर जाउंगी!

फिर में उसकी चूत में ऊँगली डाल के चोदने लगा. उसकी चूत बड़ी ही टाईट थी और मुश्किल से मेरी मिडल फिंगर जा पा रही थी. फिर मैंने अपने सारे कपडे उतार दिते और मेरा लोडा तो पहले से ही लोहे की रोड बना हुआ था. वो 7 इंच का लंड देख कर डर सी गई थी पर मेरे समझाने के बाद वो मान गई और उसने पहले मेरे लंड को किस किया और फिर अपने नरम होंठो के बिच में लेकर उसे चूसने लगी. मुझे इतना मजा आ रहा था की मैं बता नहीं सकता हूँ. वो मेरे लंड को चूस रही थी. आखिर तक और मैं उसके मुहं में ही डिस्चार्ज हो गया. वो मेरा सारा वीर्य पी गई और बोली, टेस्ट तो बड़ा नमकीन हे.

फिर मैंने भी उसकी चूत को एक और बार चाटना शरु कर दिया. और मैं उसकी चूत को करीब 15 मिनिट तक चाटता रहा. और फिर वो भी मेरे मुहं में ही डिस्चार्ज हो गई. वाकई में उसका पानी भी बड़ा नमकीन ही था. वो फिर से मेरे लंड को चूस कर खड़ा करने लगी. मैंने अपने लंड को उसके बाद उसकी चूत के ऊपर टिकाया और धक्के के लिए बढ़ा. लेकिन उसने मुझे रोक के पहले अपने हाथ से मेरे सुपाडे के ऊपर अपना थूंक लगाया. फिर मैंने एक धक्का दिया तो आधा लंड उसकी चूत में चला गया और वो जोर जोर से चिल्लाने लगी. मैंने उसके होंठो के ऊपर अपने होंठो को लगा दिए. उसकी चूत से खून निकल रहा था. उसकी चिल्लाहट को मैंने अपने होंठो से रोक लिया था. उसके खून से चादर भी गीली हो चुकी थी. मैंने 5 मिनिट ऐसे ही लंड रखने के बाद अपने पुरे लंड को अन्दर करता हुआ एक और धक्का लगा दिया.

उसको बहुत दर्द हुआ और मैं लंड को अन्दर रख के ऐसे ही पड़ा रहा. फिर मैं धीरे धीरे धक्के देने लगा. अब उसे भी मजा आने लगा था और अपनी गांड को हिला हिला कर मेरे लंड का मजा लुटने लगी थी और वो जोर जोर से हिल्ला रही थी, फक मी अह्ह्ह्ह फक मी हार्ड, अह्ह्ह ह्ह्हह्ह्ह्ह.

मैं उसे चोद रहा था अह्ह्ह्ह औःह्ह्ह्हह और फिर वो मुझे गालियाँदेने लगी की कुत्ते मेरी चूत को फाड़ दे मुहे चोद साले मेरी चूत का भोसड़ा बना दे, औऊउ अह्ह्ह्हह अह्ह्ह्ह कमीने मार अपने लोडे को अन्दर.

मैंने उसे और भी स्पीड से चोदने लगा था. और मैंने उसे कहा साली कुतिया मेरा लंड तेरी चूत का भोसड़ा ही बना देगा. तेरी माँ की चूत फाडून्गा.

वो मजे से चुदती रही मेरे लंड से. मैंने उसे 4-5 अलग अलग पोजीशन में करीब 35-40 मिनिट तक चोदा और भी इस दौरान 3 बार झड़ गई थी. और उसे अब सहन नहीं हो रहा था. फिर मैं तेज तेज धक्के देने लगा और उसकी चूत में ही झड़ गया. फिर मैं उसके ऊपर ऐसे ही लेट गया और उसे बहुत मजा आया और मैं उसके बदन को सहलाता रहा. उसने मुझे कहा की उसको बहुत मजा आया और मैंने भी उसे किस किया और बाथरूम में फ्रेश होने के लिए चला गया.

वो भी मेरे पीछे पीछे फ्रेश होने के लिए आई गई. और उसने मेरे साथ ही बाथ करना शरु किया. उसकी चूत से मूत की धार निकली जिसके अन्दर मेरे स्पेर्म्स भी आ रहे थे बहार. बाथरूम में हम दोनों ने गले से लिपट के फिर से एक दुसरे को सहलाना चालू कर दिया.

मैंने कहा, गांड मारने का मूड बन रहा हे. वो बोली, तुम को रोका किसने हे.

मैंने उसको वही घोड़ी बना दिया और उसके मुहं में अपने लंड को दे दिया. फिर मैंने अपने हाथ में साबुन का झाग बनाया और उसकी गांड के छेद पर उसे लगाया. गांड के छेद पर साबुन का मस्त झाग बना के फिर मैंने अपने लंड को उसके ऊपर लगा दिया.

वो पीछे को हुई और मस्त घोड़ी बनी. उसकी गांड का छेद पूरा खुला हुआ था मेरे सामने. अब मैंने थोडा साबुन अपने लंड के ऊपर लगा के उसकी गांड में डाल दिया. वो एक अह्ह्ह्ह कर गई और मेरा लंड आधा गांड में घुसा. उसकी साँसे रुक गई और वो बोली, साले कुत्ते बहार निकाल इसे फाड़ दी मेरी तूने.

मैंने उसके बाल पकडे और उसके बूब्स को दबाये. और फिर एक और धक्का दिया. मेरा लंड पूरा गांड में फिट सा हो गया था. मुझे खुद को इतना गरम लग रहा था फिर उसकी तो माँ ही चुद गई गई होगी! मैंने एक मिनीट तक गांड में लंड को पार्क कर रखा. और फिर जैसे ही एक धक्का मारा तो उसकी अंतड़िया टच सी हो गई मुझे. मैंने उसके बालों को पकड़ा और जैसे घुड़सवारी कर रहा था वैसे उसकी गांड को खूब चोदा. वो कुछ देर तक मुझे बेन्चोद, मादरचोद, हरामी, कुत्ता कह के लंड निकालने को कहती रही.

लेकिन फिर उसे भी गांड मरवाने की मजा आ गई तो वो अह्ह्ह अह्ह्ह येअयाआअहाआ यस्सस कर के अपनी गांड हिलाने लगी.

10 मिनिट गांड चोदने के बाद मैंने माल उसके कूल्हों पर ही छोड़ दिया. फिर हमने साथ में नाहा लिया. वो मुझे बोली आज रात यही रुक जाओ तुम.

मैंने कहा मैं घर पर एक चक्कर लगा के आता हूँ. वो बोली ठीक हे. मैं अपने घर वालो को अपनी शकल दिखा के आ गया फिर से उसके घर पर. सुबह होते तक हमने सिर्फ और सिर्फ चुदाई ही की!