चुदासी भाभी को घर के ड्राईवर और

मेरा नाम नेहा Antarvasna कपूर हे और आज की ये कहानी पूरी तरह सच्ची नहीं हे. लेकिन मैंने एक सच्ची घटना के ऊपर ही उसे लिखा हे. कुछ कुछ जगह पर मसाला हे लेकिन बात एक सत्य घटना पर ही आधारित हे. मेरे पति एक छोटे से टाउन से हे और उनका नॉएडा में अच्छा ख़ासा बिजनेश हे. मेरी शादी 2014 में हुई थी.

मैं अपने पति के साथ नॉएडा में ही रहती हूँ. साल में दो बार हम लोग उन्के होम टाउन जाते थे. मैं नॉएडा में मैं कभी भी साडी और ब्लाउज नहीं पहनती हूँ. लेकिन उन्के होम टाउन में मुझे ट्रेडिशनल इंडियन हाउसवाइफ के जैसे ही कपडे पहनने पड़ते हे. मेरे ससुर वालों की फेमली उस एरिया की सब से पैसेवाली फेमली हे.

लास्ट इयर जब मैं पति के साथ ससुराल गई थी तब की ये बात हे. मैं वहां पर बोर हो रही थी. तो मैंने हमारे फेमली ड्राईवर से कहा की यहाँ आजू बाजू जो अच्छे घुमने के प्लेस हे वहां पर ले चलो मुझे. मेरे ससुर जी ने मेरे और ड्राईवर के साथ एक नौकर को भी भेजा. मेरे पति को कुछ काम था इसलिए उन्होंने आने के लिए मना कर दिया था. हमारा बोकर और ड्राईवर दोनों ही उम्र में मेरे से छोटे थे.

कार में हम तीनो निकल पड़े. टाउन के संकरे रास्तो को छोड़ के कुछ ही देर में हमारी कार बहार की सुनसान सडको पर चलने लगी थी. एक नदी के किनारे ड्राईवर ने गाड़ी रोक दी. वहां पर उतने में कोई भी घर नहीं था. पर वो जगह बड़ी ही खुबसुरत थी. वहां की हवा एकदम खुशनुमा थी. मैं कुछ पिक्स लेना चाहती थी. साडी हवा की वजह से उड़ने लगी थी. मेरा डीप क्लीवेज साफ साफ़ दिखने लगा था. मैंने अंदर स्लीवलेस ब्लाउज पहना हुआ था. मैंने अंदर ब्रा नहीं पहनी थी. ब्लाउज हल्का केसरी रंग का था जिसमे से मेरे निपल्स देखे जा सकते थे.

तभी ड्राईवर ने अंदर जा के लोकल लेंग्वेज में एक मस्त गाना ओन कर दिया. वो गाने के शब्द काफी डबल मिनीग और सेक्सी थे. और फिर वो दोनों ने कहा भाभी आप डांस करो ना इस सोंग के ऊपर. उन्होंने अपने कपडे निकाले और वो नदी में नहाने लगे. और वो लोगो ने मुझे भी कहा की आप भी नाहा लो भाभी. मैंने कहा नहीं मई कपडे ले के नहीं आई हूँ और यहाँ खुले में कैसे नहाऊ.

नोकर ने कहा मेरे पास एक तोवेल हे आप उसे लपेट लीजिये और आप के कपडे गिले नहीं होगे. मैंने कहा लेकिन मैं तुम लोगो के सामने नंगी कैसे हो जाऊ?

नोकर बोला, मालकिन वैसे भी यहाँ कोइ नहीं हे और हम किसी को बताएँगे नहीं की हमने आप को नंगा देखा हे. मैंने कहा नहीं नहीं मैं नहीं करुँगी.

लेकिन वो दोनों नहाते हुए बहार आये और मेरे हाथ पकड के खिंच गए अन्दर और बोले मजा आएगा चलो ना. ड्राईवर ने मेरा पल्लू निचे गिरा दिया और वो दोनों हवस वाली नजरों से मेरे बूब्स देखने लगे. वो दोनों अपनी आँखों से ही मेरे बूब्स की साइज़ और आकार का जायजा ले रहे थे. मुझे शर्म आ रही थी. उन दोनों ने मेरे हाथ पकडे हुए थे. लेकिन सच में वहां हम तीनो को कोई देखने वाला नहीं था.

तभी मेरे पति का कॉल आया तू मैं उनसे बात करने लगी. तभी ड्राईवर ने अपने हाथ को मेरे बूब्स के ऊपर रख दिया और दबाने लगा. मैं उसे देखने लगी. मेरे अन्दर की वासना भी उन्हें अधनंगे देख के जाग चुकी थी. मैंने कॉल कट किया और वो दोनों मेरा हाथ पकड़ के कार में ले गए. कार की पीछे की सिट में मैं बिच में और वो दोनों मेरी अगल बगल बैठे हुए थे. वो दोनों ने मेरे हाथ को अपने अपने कडक लंड के ऊपर रखवा दिया.

ड्राईवर मेरी जांघो को मसलने लगा था और फिर उसका हाथ मेरे पेट के ऊपर आ गया. और वो मेरे दाहिनी चुन्ची को दबाने लगा. मैंने उसका हाथ निचे खिंचा बिना कुछ कहे. मैं उन दोनों की तरफ देख भी नहीं रही थी. तभी नोकर ने मेरी बायीं चुन्ची को पकड ली और दबाने लगा. मैंने उसे धक्का देना चाहा उतने में ड्राईवर ने मेरी चुन्ची को पकड़ी और मेरी निपल से खेलने लगा. मैंने उन दोनों के हाथो को दूर करना चाहा लेकिन वो दोनों ने मेरे हाथ जकड़ लिए.

मैंने भी अब उन्हें दूर हटाने की कोशिश ही छोड़ दी. क्यूंकि एक तो कोशिश करना बेकार था. और दूसरा के उन्होंने मुझे उत्तेजित कर दिया था. सच में तो मुझे से ही मजा आ रहा था उन दोनों के साथ में. अब वो दोनों खुश थे क्यूंकि मैं छूटने की कोशिश छोड़ दी थी. वो दोनों मुझे एकदम नजदीक आकर किस दे रहे थे और मेरे बदन को अपने हाथ से छू छू के मदमस्त कर रहे थे.

जब वो दोनों ने मेरे ब्लाउज के बटन खोलने चालु किये तो मैंने अपनी आँखों को बंद कर दिया. मेरे दोनों गोल और सेक्सी बूब्स मेरे दो नोकरो के सामने थे. वो दोनों एक एक निपल को अपने मुहं में ले के हलके हलके से सक कर रहे थे. जो नोकर लड़का था वो ड्राईवर से ज्यादा चुदासी लग रहा था. वो बूब को चूस चूस के लिक कर रहा था. ड्राईवर बूब्स को हाथ से ज्यादा फिल कर रहा था. फिर वो दोनों मुझे कार से बहार ले के आये और मेरे बदन के ऊपर से सब कपडे निकाल दिए उन्होंने. और फिर हम तीनो ने साथ में मिल के हग किया. उन्के लंड मेरी चूत और गांड को छू रहे थे.

फिर ड्राईवर ने मुझे कार की खिड़की के ऊपर धक्का दिया. पीछे से मेरी चूत में अपना लंड उसने डाल दिया. मैं पहली बार अपने ड्राईवर के पास चुदवा रही थी. फिर वो मुझे ले के निचे घास पर लेट गया और जोर जोर से चोदने लगा. नोकर ने ड्राईवर को कहा जल्दी से चोद ले तू फिर मुझे भी चोदना हे मालकिन को.

ड्राईवर ने मुझे किस की और जोर जोर से अपने लंड को मेरी चूत में पेलता रहा. मुझे भी उसके लंड से चुदने में बड़ा मजा आ रहा था. मैंने भी हिल हिल के उसका लोडा लेती गई. पांच मिनिट फक फक चोदने के बाद उसके लंड से ढेर सारा वीर्य निकला जो मेरी चूत में ही निकल . तभी नोकर अपने हाथ से मेरे बूब्स को मसलने लगा. फिर ड्राईवर ने मेरी चूत से अपना लंड निकाला और वो कार से खाने का सामान लेने के लिए चला गया.

वो आया उतने में तो मैं नोकर की गोदी में चढ़ के बैठ गई थी. वो निचे से मेरे बूब्स को मसल रहा था और मैं कमर के ऊपर के हिस्से को ऊपर निचे कर के उसके देसी लोडे का मजा लुट रही थी. नोकर अह्ह्ह अह्ह्ह्ह ओह ओह्ह्ह हम्म्म्म कर के मुझे जोर जोर से लंड दे रहा था.

नोकर ने एक केले का छिलका खोला और मुझे खिलाया. फिर वो बोला, मालकिन आप की चुचियों में तो कितना सब दूध हे. मैं पीता हूँ. और फिर वो मेरे बूब्स को मसलने लगा. मैंने उसके लंड को पकड़ के हिलाया तो वो फिर से कडक हो गया. उसने अब अपने लंड को मेरे मुहं में देते हुए कहा, मेरा केला खाओ डार्लिंग.

मैं उसके लंड चूसने लगी और उसके अंडे दबाने लगी. फिर नोकर का भी हो गया और उसने भी मेरी चूत में अपने वीर्य की धार मार दी. मुझे लगा की उन दोनों का हो गया इसलिए वो छोड़ देंगे. लेकिन ड्राईवर ने कहा आप गाडी को पकड़ के घोड़ी बनो मेडम. मैंने वैसे ही किया. वो अब की मुझे डौगी स्टाइल में ठोकने लगा. नोकर ने हमारा सामान सही कर दिया उतनी देर में.

पांच मिनिट और चोद के नोकर ने अब की अपना वीर्य मेरी गांड पर ही छोड़ा. फिर वो और मैं कपडे पहन के खड़े हो गए.

नोकर ने कहा, साली मालकिन की चूत तो बड़ी मस्त हे. कुछ ही दिनों में वो नॉएडा चली जायेगी लेकिन तब तक उसे रोज चोदने का मन हे.

मैंने कहा, हां मुझे भी मजा आ गया तुम दोनों के लंड ले के. मैं सर्वेंट क्वार्टर में रात को आउंगी तुम्हारे लोडे लेने के लिए!