बड़े बब्स वाली मामी का रात

हैल्लो दोस्तों, कैसे है Antarvasna आप सब? मेरा नाम सुन्दर है और मैं आसाम का रहने वाला हूँ। मैं कामलीला डॉट कॉम का नियमित पाठक हूँ और मैंने इस वेबसाइट में बहुत अच्छी और मस्त हिन्दी सेक्स कहानियाँ पढ़ी है इसलिए मैंने भी सोचा कि मैं भी आप लोगों को अपनी एक निजी सेक्स कहानी लिखूं। यह मेरे जीवन का पहला सेक्स था। और इसमें मैं आप सभी को बताऊँगा कि, कैसे मेरी मामी ने मुझसे चुदवाया था।

भाभी और आंटियों, मैं आपकी चूत का बहुत बड़ा मुरीद हूँ और यह मेरी पहली सेक्स कहानी है, और मैं इस कहानी के माध्यम से मैं आपकी चूत और लंड से रस निकालने में ज्यादा समय नहीं लगाऊंगा। तो चलिये दोस्तों, भाभियों और आंटियों आपकी चूत में अब ऊँगली करना शुरु कर दो और जवान लड़के तो अपनी पेन्ट की चैन को खोलकर अपने लंड को अपने हाथ से मसलना शुरु कर दो। दोस्तों ये कहानी आप कामलीला डॉट कॉम पर पढ़ रहे है।

दोस्तों यह बात पिछले साल की है जब मैं मेरे मामा के घर पर गया हुआ था सर्दी की छुट्टियों में. मेरे मामा का घर बहुत ही बड़ा और आलिशान था लेकिन उसमें सिर्फ दो ही लोग रहते थे एक तो मेरे मामा और एक मेरी बहुत ही प्यारी मामी, दोस्तों मेरे मामा की शादी को 5 साल हो गये है लेकिन मामी के अभी तक कोई बच्चा नहीं है. और मेरी मामी दिखने में भी बहुत ही मस्त है और उनके मस्त फिगर का साइज़ 34-30-36 का है. हाँ तो दोस्तों जैसा कि, मैंने आपको बताया है कि, मेरे उनके घर पर पहुँचने के बाद मेरी मामी मुझको देखकर बहुत खुश हुई और उन्होंने मुझको अपने गले से लगा लिया था. दोस्तों मैं उस समय 21 साल का था. और उस समय जब मेरी मामी के बब्स मेरे सीने से लगे तो मुझे बहुत ही अच्छा महसूस हुआ था. अरे हाँ दोस्तों मैं यह बात आपको बताना ही भूल गया कि, मैं जब वहाँ गया था तब मेरे मामा घर पर नहीं थे वह अपने किसी काम के सिलसिले में दूसरे शहर में गये थे। तो फिर मेरी मामी ने मुझको चाय-नाश्ता करवाया था. और फिर वह मुझसे इधर-उधर की बातें करने लग गई थी।

और फिर अचानक से मामी ने मुझसे पूछा कि, अरे! तेरी गर्लफ्रेंड कैसी है? तो फिर मैंने एकदम से चौंकते हुए उनसे पूछा कि मेरी गर्लफ्रेंड? मेरी तो कोई गर्लफ्रेंड ही नहीं है. तब मामी ने मुझको बोला कि, चल झूठा। सच-सच बता कि, कितनी गर्लफ्रेंड है तेरी? दोस्तो मैं उनके मुहँ से यह बात सुनकर सच में बहुत चौंक गया था, क्योंकि मामी उस दिन बिल्कुल खुलकर बातें कर रही थी. और फिर मामी ने मुझसे बोला कि, तेरी कोई गर्लफ्रेंड नहीं है तो क्या अभी तक तू हाथ से ही काम चलाता आ रहा है? और फिर इतना बोलकर मामी मेरी तरफ हँस दी, और फिर वह किचन में चली गई थी. और मैंने भी उनको मना नहीं किया और फिर मैं टीवी देखने लग गया था. और फिर रात के खाने के बाद मामी ने मुझको बोला कि, आज तेरे मामा भी घर पर नहीं है तो तू मेरे साथ ही सो जा. तो फिर मैंने भी थोड़ा झिझकते हुए उनको हाँ कर दी थी. और फिर मेरे मन में दोस्तों चुदाई के लड्डू फूटने लग गए थे, और मैं मन ही मन सोच रहा था कि, आज तो मामी भी पूरे मूड में है और इसलिये क्यों ना आज मामी पर चान्स मारा जाए? और फिर हम लोग सोने चले गये और सर्दी का समय था और मामी ने एक ही कम्बल निकाल के रखा हुआ था, तो मैं और मामी एक ही कम्बल में सो रहे थे. और फिर मामी ने मुझको गुड नाइट बोला और फिर वह दूसरी तरफ मुहँ करके सोने लगी थी।

मैं भी सफर की वजह से थका हुआ था तो मुझको भी झट से नींद आ गई थी. और फिर जब रात को मेरी नींद खुली तो मैंने देखा कि, मेरी मामी मुझसे बिल्कुल चिपकी हुई थी और उनकी एक टांग मेरे ऊपर थी. और उस समय मेरी तो धड़कनें तेज होने लग गई थी. और उस समय मेरी मामी के बब्स मेरे चेहरे के बिल्कुल सामने थे और वह जैसे मुझसे बोल रहे थे कि, आ जाओ और हमको मज़े से चूस लो. दोस्तों मेरा मन तो कर रहा था कि, अभी उनको दबा-दबाकर उनका रस निकाल दूँ, लेकिन डर भी लग रहा था कि, कहीं मामी जाग ना जाए? तो फिर मैंने धीरे से अपना चेहरा मामी के दोनों बब्स के बीच में रखा और फिर मैं सोने का झूँठा नाटक करने लगा, तब भी मामी ने कोई प्रतिक्रिया नहीं करी तो मेरी हिम्मत थोड़ी और बढ़ गई थी. और फिर मैं धीरे-धीरे मामी के कूल्हों को भी दबाने लग गया था, फिर भी मामी ने कोई प्रतिक्रिया नहीं करी तो फिर मुझसे बिलकुल भी रहा नहीं गया. और फिर मैंने ज़ोर से मामी को अपने गले से लगा लिया था. और फिर उसी समय मामी ने भी मुझे उनको गले लगाने का जवाब दिया और फिर उन्होनें भी मुझे अपनी बाहों में कसकर पकड़ लिया था. और बस फिर तो क्या था मेरे लिए तो उनकी तरफ से यह खुली छूट थी. और फिर तो मैंने मामी के बब्स को दबाना शुरू कर दिया था. और मामी ने उस समय नाईटी पहनी हुई थी तो फिर मैंने उसको भी उतार दिया था. और फिर मैं उनको देखता ही रह गया था क्योंकि मामी ने उनकी नाईटी के नीचे ब्रा और पैन्टी नहीं पहन रखी थी।

और फिर वह मेरे सामने बिल्कुल नंगी लेटी हुई थी, और उस समय मेरी तो हालत ऐसी हो गई थी कि, जैसे कोई भूखा शेर शिकार के लिए तड़प रहा हो. और फिर मामी ने मुझसे बोला कि, ऐ! मेरे राजा ऐसे क्या देख रहे हो? तुमने आज से पहले कभी कोई नंगी लड़की नहीं देखी क्या? तो फिर मैंने उनसे बोला कि, देखी तो है, लेकिन आपके जैसी खूबसूरत और कोई नहीं देखी। आप तो एकदम कमाल की लग रही हो. हाय… मामी आज तो मैं तुमको इतना चोदूंगा कि, तुम्हारी चूत का भोसड़ा बना दूंगा। तो फिर मामी ने कहा, तो फिर आ ना देर क्यों कर रहा है? मेरे भोसडे के लंड, मैंने तो तुझे दिन में ही इशारा कर दिया था लेकिन तू है कि, जो कुछ समझ ही नहीं पाया था। ओह… मामी मुझको तो दिन से ज्यादा रात में चोदने का मन ज्यादा करता है। आज तो मैं तुमको जी भरकर के चोदूंगा।

और फिर मैं एक भूखे शेर की तरह मामी के बब्स पर टूट पड़ा था. और फिर मैं उनको चूसने लग गया था. और फिर तो मामी भी सिसकारियाँ लेने लग गई थी आहहह… इस्सस… और ज़ोर से चूसो मेरे राजा तेरे मामा में तो अब दम ही नहीं रहा है, इसलिये तू ही आज मेरे तन-बदन में लगी इस आग को बुझा दे। और फिर 10-15 मिनट तक उनके बब्स को चूसने के बाद मामी मेरे ऊपर आ गई थी. और फिर वह मेरे मोटे लंड को निकालकर और मेरे लंड को पकड़कर अपने मुहँ में लेकर चूसने लग गई थी, और मैं भी उस समय मामी की चूत को चाट रहा था. और मामी उस समय मेरे लंड को क्या मस्त तरीके से चूस रही थी दोस्तों, मैं तो 10 मिनट में ही ढीला पड़ गया था. और फिर मैंने अपना सारा वीर्य मामी के मुहँ में ही छोड़ दिया था. और फिर मामी भी मेरे सारे वीर्य को बड़े ही चाव के साथ घटक गई थी. और फिर उन्होंने मेरे लंड को अपने मुहँ में ही रखा और उन्होंने उसको वापस से चूसना शुरु कर दिया था. और फिर थोड़ी देर के बाद उनकी मस्त जवानी को देखकर मेरा लंड वापस से खड़ा हो गया था. लेकिन फिर मामी ने मुझको बोला कि, अब बस कर डाल भी दे अन्दर अब मुझसे बिलकुल भी रहा नहीं जाता. तो फिर मैंने मामी को मिशनरी पोजीशन में किया, और फिर मैंने अपने लंड को उनकी चूत पर सेट करके एक ज़ोरदार धक्का मारा तो मेरा पूरा लंड एक ही बार में फचाक की आवाज़ के साथ उनकी चूत के अन्दर चला गया था. और मामी के मुहँ से आहहह… उई माँ मर गई की एक तेज आवाज़ आई। दोस्तों ये कहानी आप कामलीला डॉट कॉम पर पढ़ रहे है।

और फिर मैंने उनकी चूत में धीरे-धीरे से धक्के लगाने चालू किए और मामी आहहह… उहहह… उफ्फ़फ… इस्सस… बहुत मज़ा आ रहा है प्लीज ज़ोर से करो ना और ज़ोर से करने को बोल रही थी. तो फिर मुझे भी उनकी आवाज को सुनकर ओर जोश आ गया था. और फिर मैं अपनी पूरी स्पीड के साथ मामी को चोदने लग गया था और फिर 10 मिनट की चुदाई के बाद ही मामी का शरीर अकड़ने लगा और फिर वह जोर से चिल्लाने लगी और ज़ोर से आहहह… मैं झड़ रही हूँ उहहह… और फिर मामी झड़ गई थी. लेकिन मैं अभी तक नहीं झड़ा था. तो फिर मैंने उनकी चूत में फिर से धक्के लगाना लगातार चालू रखा और फिर 15 मिनट की लगातार ताबड़तोड़ चुदाई के बाद जब मैं भी झड़ने वाला था तो मामी ने मुझको बोला कि, मुझे तुम्हारा पानी पीना है? तो फिर मैंने उनकी चूत में से अपना लंड बाहर निकालकर उनके मुहँ में दे दिया था. और फिर मैं उनके मुहँ को जोर-जोर से चोदने लगा था. और फिर मेरे लंड से एक तेज पिचकारी निकली, जिसके अहसास से मामी ने अपनी आँखे बंद करके उसका भरपूर आनंद लिया। और फिर मैं उनके ऊपर ही लेटा रहा. और फिर थोड़ी देर के बाद मैं मामी के बगल में लेट गया था. और फिर हम दोनों बेड पर नंगे ही एकदूसरे से चिपककर सो गये थे. और फिर सुबह जब मेरी नींद खुली तो मामी बिस्तर पर नहीं थी, तो फिर मैं अपने कपड़े पहनकर बाहर आया तो मैंने देखा कि, मामी किचन में चाय बना रही थी, और फिर हम दोनों ने एक साथ बैठकर चाय पी थी।

और फिर मामी ने मुझसे बोला कि, कल रात को हमारे बीच जो भी हुआ वह किसी को पता नहीं चलना चाहिये. तो फिर मैंने भी उनको कहा कि, मामी मैं किसी को भी नहीं बताऊंगा कि, मैंने आपकी चूत की जमकर चुदाई करी है, लेकिन मुझको एकबार आपकी गांड भी मारनी है. तो फिर मामी ने मुझको बोला कि, तेरे मामाजी शहर से 3-4 दिन के बाद आएँगे और तब तक मैं तेरी ही हूँ, अब तू जो चाहे वह मेरे साथ कर सकता है। और फिर मामी के मुहँ से यह बात सुनकर तो मेरा लंड वापस से खड़ा हो गया था. और फिर हमने फिर से एक बार और चुदाई का जमकर मज़ा लिया और फिर हम दोनों एक साथ नहाने चले गये थे, और मैंने बाथरूम में ही मामी की खूब जमकर गांड चुदाई भी करी थी. और मुझसे चुदकर मामी को भी बहुत मज़ा आया था।

दोस्तों अब तो जब भी मैं मामा के घर पर जाता हूँ तो मामी मुझको बड़ी ही लालची निगाहों से देखती है और हम दोनों मिलकर चुदाई के खूब मज़े लेते है।

धन्यवाद कामलीला के प्यार पाठकों !!