बहन के जन्मदिन पर दिया चूत में लौड़ा

हाय फ्रेंड्स, मेरा Antarvasna नाम सचिन है मेरी उम्र 27 साल की है और मैं पटना के पास का रहने वाला हूँ. दोस्तों आज मैं आप सभी को अपने सबसे अच्छे सेक्स अनुभव के बारे में बताने जा रहा हूँ यह कहानी मेरी और मेरी दूर की बहिन काजल की है जिसको मैंने एकदम मस्त तरीके से चोदा था।

दोस्तों शुरु से ही किसी भी सुन्दर लड़की को देखकर मेरा लंड खड़ा होने लगता था और मैं उसको देखकर बिल्कुल बेकाबू हो जाता हूँ मुझे उसी समय उस लड़की को पकड़कर उसकी मस्त चुदाई करने की जबरदस्त इच्छा हो जाती है और मेरा मन करता है कि, मैं उसके नरम-नरम गालों को चूम लूँ और उसके रसभरे होठों को चूस लूँ और उसको अपनी बाहों में भरकर मैं उसके बब्स को दबा दूँ और फिर उसके बाद मैं अपने लंड को उसकी चूत में डालकर उसकी जमकर चुदाई भी कर दूँ। दोस्तों मैं दिखने में एकदम अच्छा हूँ मेरी लम्बाई 5.8 फुट की है दिखने में भी मैं काफी स्मार्ट हूँ और मैं शादीशुदा भी हूँ. मेरी शादी को 2 साल हो चुके है. और मैं पिछले कुछ समय से कामलीला डॉट कॉम की सेक्सी कहानियाँ को पढ़कर उनके मज़े लेता आ रहा हूँ. हाँ तो दोस्तों अब मैं अपनी कहानी पर आता हूँ।

दोस्तों मैं पहले काजल के फिगर के बारे में आप सभी को बता दूँ कि, उसका फिगर 30-28-32 का है. मेरी नौकरी दिल्ली में थी और मेरी पत्नी की नौकरी मेरे गाँव में ही थी तो हम दोनों अलग-अलग रहते थे. मैं दिल्ली में अकेला ही रहता था, मैंने अकेले ही कमरा इसलिए भी लिया था कि, अगर कभी चुदाई का मौका मिले तो जगह की दिक्कत नहीं होनी चाहिये और फिर मैंने इस कमरे का इस्तेमाल भी किया और 4-5 लड़कियो को यहाँ पर लेकर आया था और उन्हें जमकर चोदा भी। एक दिन मैं काम पर से घर पर आया था तब मेरी दूर की बहिन काजल का फोन आया और उसने मुझको कहा कि उसको दिल्ली के एक कॉलेज में दाखिला मिल गया है और उसको यहाँ से 6 महीने का एक कोर्स करना है पर उसको हॉस्टल में नहीं रहना है और उसे रहने के लिए एक कमरे की ज़रूरत है. तो फिर मैंने उसको कहा कि मैं घर पर अकेला ही रहता हूँ अगर तुझको कोई दिक्कत नहीं है तो मेरे साथ रहने आजा. तो फिर वह मुझसे बोली कि, भाई मेरा बॉयफ्रेंड कभी-कभी आएगा मिलने के लिए तो आपको कोई दिक्कत तो नहीं होगी ना? दोस्तों मुझको तो पहले से ही पता था कि, उसका बॉयफ्रेंड उसको कई बार चोद चुका था. और फिर मैंने सोचा कि, चलो शायद इसी बहाने से मुझको भी मौका मिल जाएगा अपना लंड साफ़ करने का तो फिर मैंने उसको कहा कि, काजल मुझे कोई दिक्कत नहीं है. तो फिर वह मुझसे बोली कि, ठीक है मैं 2-3 दिन में अपना सामान लेकर आ जाऊँगी. और फिर दो दिन के बाद वह उसके बॉयफ्रेंड के साथ आई और उसने कमरे में अपना सामान रख दिया सही से. दोस्तों एक बेडरूम में तो मैं रहता था और दूसरा मैंने उसको दे दिया था. उसके बॉयफ्रेंड को दूसरे दिन जॉब पर जाना था तो वह सिर्फ़ 1 रात के लिए ही यहाँ पर आया था. मुझे पता था कि, रात को यह दोनों चुदाई जरूर करेंगे तो मैंने जल्दी ही सोने का नाटक किया. और फिर रात को करीब 12 बजे मुझे उसके कमरे से कुछ आवाज़ सुनाई दी तो में समझ गया कि, अब चुदाई चालू हो गई है. और फिर मैं धीरे से उसके बेडरूम के दरवाजे के पास आया और खिड़की के छेद में से मैंने अन्दर देखा तो मेरा नसीब अच्छा था क्योंकि काजल को अँधेरे से डर लगता था तो उन्होंने कम रोशनी वाला बल्ब चालू रखा था. जब मैं उनको देखने के लिए आया था तब तक उनका फॉरप्ले तो खत्म हो चुका था काजल पूरी तरह से नंगी बेड में डॉगी स्टाइल में लेटी हुई थी और उसका बॉयफ्रेंड पीछे से उसको चोद रहा था. मेरी बहिन का नंगा जिस्म देखकर के तो मैं पागल सा हो गया और मैंने वहीं पर अपना लंड निकाला और हिलाने लगा, और मैंने फिर सोचा कि, कुछ भी हो जाए इसे तो चोदना ही है. और फिर उनकी 20 मिनट की चुदाई के बाद उसके बॉयफ्रेंड का पानी निकल गया था पर काजल का पानी नहीं निकला था और फिर उसका बॉयफ्रेंड तो उसको ऐसे ही छोड़कर सो गया था. और फिर मैं अब समझ गया था कि, यह प्यासी है असली लंड की और लम्बी चुदाई की तो फिर मुझको एक आशा की किरण दिखाई थी।

और फिर अगले दिन उसका बॉयफ्रेंड चला गया. काजल ने उस दिन घर में एक गहरे गले की टी-शर्ट और शॉर्ट्स पहनी हुई थी और उसमें से उसकी क्या मस्त जाँघें दिख रही थी मेरा तो उनको देखकर ही लंड टाइट हो गया था. और फिर उसने मुझसे पूछा कि, भाई आपको कोई दिक्कत तो नहीं है ना अगर मैं इस तरह के ढीले और शॉर्ट कपड़े पहनूँ तो? क्यूंकी मुझको घर में ज़्यादा टाइट कपड़े पहनने की आदत नहीं है उनमें मुझे घुटन होती है. दोस्तों मेरे मन में तो लड्डू फूट रहे थे और मैं मन ही मन सोच रहा था और उससे कह भी रहा था कि, तू तो कपड़े ही ना पहने तो और भी ज़्यादा अच्छा रहेगा. और फिर अपने आपको संभालते हुए मैंने उसको बोला कि, तुम कुछ भी पहन सकती हो. और फिर थोड़े ही दिनों में हम आपस में काफी अच्छी तरह से घुलमिल गये थे. और फिर 2 सप्ताह के बाद उसका जन्मदिन था उस समय पर उसके बॉयफ्रेंड को कुछ जरूरी काम था तो वह आ नहीं सका था. काजल उस दिन थोड़ी सी उदास दिखाई दे रही थी तो मैंने उससे पूछा कि, क्या हुआ? तो वह बोली कि, कुछ नहीं. और फिर मेरे ज़्यादा जोर देने पर उसने बताया कि, उसके बॉयफ्रेंड ने उसको बोला था कि, हम तेरे जन्मदिन पर साथ में बैठकर पार्टी करेंगे. तो फिर मैंने उसको कहा कि, चलो कोई बात नहीं हम पार्टी करते है और फिर उसने मुझको कहा कि, भाई स्पेशल पार्टी करे? तो मैंने उससे पूछा कि, स्पेशल यानि? तो फिर वह मुझसे बोली कि, भाई चलो ना ड्रिंक करते है मुझे भी टेस्ट करना है कि, वह कैसा लगता है? और फिर मैंने उसको ठीक है बोलते हुए अपने एक दोस्त को फ़ोन करके कहीं से एक बोतल विस्की की मँगवाई और बाद में मैं कुछ खाने को भी लेकर आया और साथ में मैं चुपके से एक वियाग्रा की गोली और कंडोम भी लेकर आया था। दोस्तों वह पहली बार पी रही थी तो 2-3 पेग में ही उसे चढ़ गई थी. और फिर वह मुझसे बोली कि, भाई ऐसे मज़ा नहीं आ रहा कुछ खेलते है तो फिर हमलोग सही जवाब और नहीं डरने का खेल खेलने लगे. मैंने पहले ही उसे कह दिया था कि, हारने वाले को जो भी कहा जाएगा करना पड़ेगा और तुम अभी भी सोच लो अगर दूसरा कोई खेल खेलना हो तो, तो फिर उसने मुझको कहा कि, अब तो हम यही खेल खेलेंगे. पहली बारी मेरी तरफ आई तो मैंने सही जवाब को चुना और फिर उसने मुझसे पूछा कि बताओ शादी के पहले आपकी कितनी गर्लफ्रेंड थी? तो फिर मैंने उसे बताया की 5 थी. उसके बाद उसकी बारी आई तो मैंने उससे पूछा कि, तेरे कितने बॉयफ्रेंड थे आज तक? उसने कहा बॉयफ्रेंड तो 2 ही थे पर बॉयफ्रेंड के लिए विकल्प बहुत थे. विस्की का नशा हम दोनों पर चढ़ रहा था।

और फिर अगली बारी उसकी आई वापस उसने निर्डरता को पसंद किया तो मैंने उसको हुक्म दिया कि, अपने टॉप और शॉर्ट को उतार दो. और फिर उसने अपने टॉप और शॉर्ट को निकाल दिया. और अब वह मेरे सामने सिर्फ़ ब्रा और पैन्टी में थी. और फिर अगली बारी मेरी आई तो उसने मुझे हुक्म दिया कि, मुझको किस करो. तो फिर मैंने उसे कमर से पकड़ा और 1 मस्त सा फ्रेंच किस दे डाला था. और फिर हम दोनों करीब 3 मिनट तक किस कर रहे थे और उसके बाद उसने किस तोड़ा और फिर वह मुझसे बोली कि, अब आगे खेलें. और फिर मेरी बारी आई तो उसने मुझको कहा कि, अपने कपड़े उतार. और फिर मैंने अपने कपड़े निकाल दिए. उसको ब्रा-पैन्टी में देखकर के और वियाग्रा की गोली के असर से मेरा लंड जो कि 7 इंच का है पहले से ही खड़ा था और फिर वह उसे गौर से देख रही थी. और फिर मैंने उसको कहा कि, आगे खेले या बन्द करना है? तो फिर वह मुझसे बोली कि, आगे खेलते है. और फिर उसके बाद उसकी बारी आई तो मैंने उसको कहा कि, मेरे लंड को चूसो. और फिर वह तो जैसे उसी बात का इन्तजार कर रही थी. और फिर उसने मुझको कहा कि, आप लेट जाओ और फिर मैं वहीं पर लेट गया और उसकी तरफ देख रहा था उसने मेरा लंड अपने हाथ में लिया उसके इतने मस्त और कोमल हाथ थे जिससे मुझको तो लगा कि, साला मेरा तो ऐसे ही निकल ना जाए।

और फिर उसने मेरी तरफ देखा और फिर उसने उसके होंठ मेरे लंड पर रख दिए और फिर धीरे से उसने मेरा पूरा लंड अपने मुहँ में ले लिया था. दोस्तों क्या गरम मुहँ था उसका कसम से और फिर मैंने उसे मेरे ऊपर खींच लिया और फिर हम दोनों किस करने लगे थे और किस करते-करते ही मैंने उसकी ब्रा भी निकाल दी थी और फिर मैं पीछे से उसकी गांड पर अपना हाथ घुमाने लगा था. उसकी गांड पर हाथ रखने से मेरा लंड और भी टाइट हो गया था और फिर हम 69 की पोज़िशन में आ गये थे. अब मैंने उसकी पैन्टी भी निकाल दी थी कसम से क्या मस्त चिकनी चूत थी उसके ऊपर एक भी बाल नहीं था. और फिर मैंने उसको कहा कि, बहिन तेरी चूत तो बहुत मस्त है. तो फिर उसने मुझको कहा कि, आज के लिए यह आपकी ही है इसका कुछ भी करो आप. और फिर मैंने सोचा कि, अगर आज इसे अच्छी तरह से चोदता हूँ तो पूरी जिंदगी चोदने का मौका मिलेगा. और फिर मैंने अपनी जीभ उसकी चूत के अन्दर रख दी तो उसने भी एक सिसकारी ली आहह… उसकी सिसकारी ने मुझे और भी उत्तेजित कर दिया था. और फिर मैं धीरे-धीरे अपनी जीभ को उसकी चूत में अन्दर-बाहर करने लग गया था. और फिर 10 मिनट में उसका पानी निकल गया था और मैं उस पानी को पी गया था और फिर उसे बेड पर लेटाकर के उसकी चूत में मैंने अपनी 2 उँगलियाँ घुसा दी थी और साथ ही मैं उसके बब्स को भी चूसने लग गया था और वह मादक सी सिसकारियां ले रही थी आह्ह… भाई, मुझे तो कसम से इतना मज़ा पहले कभी नहीं आया था और ज़ोर से करो आअहह… और फिर थोड़ी ही देर में उसकी चूत फिर से गीली हो गई थी. और फिर उसने मुझको कहा कि, भाई अब और रहा नहीं जा रहा प्लीज़ अपना लंड मेरी चूत में डाल दो. उसके मुहँ से यह गंदी-गंदी बातें सुनकर मुझे बहुत मज़ा आ रहा था और मुझको भी जल्दी तो बहुत थी पर मुझको मेरा उसकी चुदाई का भविष्य जो सुरक्षित करना था उसके साथ. और फिर मैंने उसको कहा कि, 1 शर्त पर मैं जो भी कहूँगा और माँगूंगा कभी भी वो मानोगी. वो इतनी प्यासी लग रही थी वो बोली भाई आप जो भी बोलोगे में सब करूँगी प्लीज़ लंड डाल दो मेरी चूत में. मैंने उससे फिर से पूछा तो वह इतनी उत्तेजित थी की सब कुछ भूल गई थी और फिर वह मुझसे बोली कि, भाई मैं अपनी दीदी को भी आपसे चुदवा दूँगी पर प्लीज़ अभी मेरी प्यास बुझा दो. मैं तो यह सुनकर ही खुश हो गया कि, चलो यहाँ पर तो 1 के साथ 1 फ्री मिलेगी।

और फिर मैं अपना लंड धीरे से उसकी चूत पर रगड़ने लगा. और वह भी धीरे-धीरे सिसकारियां ले रही थी.. आहह.. अया… और फिर मैंने 1 झटके में अपना लंड उसकी चूत में डाल दिया था उसने यह सोचा भी नहीं था और फिर उसकी एक चीख निकल गई थी उसके मुहँ पर दर्द दिखाई दे रहा था. और फिर मैंने देखा तो अभी भी 2 इंच जितना मेरा लंड बाहर था. मैंने उसके होंठ पर अपने होंठ रखे और वापस 1 झटका मारा अबकी बार पूरा लंड अन्दर चला गया था. इतनी गरम चूत मैंने आज तक मारी नहीं थी. थोड़ी सी टाइट भी थी उसकी चूत तो मैं समझ गया था कि, उसका बॉयफ्रेंड ज़्यादा कुछ कर नहीं पाता होगा. और फिर मैंने लंड ऐसे ही उसकी चूत के अन्दर रखा और फिर वह थोड़ी देर के बाद सामान्य हो गई थी. और अब मैंने धीरे-धीरे धक्के लगाने चालू किए और वह भी अपनी गांड को हिलाकर के मजे ले रही थी. और फिर मैंने सोचा कि, इससे पूरी हक़ीकत निकलवाने का यह अच्छा मौका है तो मैंने चोदते-चोदते ही उससे पूछा कि, तुम्हारा बॉयफ्रेंड ज़्यादा चोदता नहीं है क्या? तो उसने मुझसे कहा कि, भाई 10 मिनट में उसका पानी निकल जाता है तो फिर मैं उससे अपनी चूत को चुसवाकर ही अपने आपको शान्त करती हूँ. और फिर मैंने उससे पूछा कि, आज तक किसी बॉयफ्रेंड ने प्यास नहीं बुझाई तेरी? तो वह बोली कि, मैंने 5 लोगों का लिया था पर किसी में आपके लंड जितना मज़ा नहीं आया और फिर यह सुनके मैं और ज़ोर से धक्के लगाने लगा और फिर 25 मिनट के बाद उसका पानी निकल गया. मेरा अभी भी पानी निकला नहीं था तो वह बोली कि, भाई अब मुझे ऊपर आने दो. मैं नीचे लेट गया और वह मेरे ऊपर आ गई थी उसने अपनी चूत सेट करी मेरे लंड पर और फिर वह मेरे लंड पर उछलने लगी। दोस्तों ये कहानी आप कामलीला डॉट कॉम पर पढ़ रहे है।

और फिर 15 मिनट के बाद उसका फिर से पानी निकल गया, और मुझे भी ऐसा लगा कि, मेरा भी निकलने वाला है तो मैंने उसको कहा कि, चल अब डॉगी स्टाइल में आजा. तो फिर वह बेड पर उसी पोज़िशन में आ गई थी और फिर मैं धीरे से उसकी गांड पर हाथ रखकर के घूमने लगा तो उसे लगा कि, मैं उसकी गांड मारने वाला हूँ तो वह बोली कि, भाई आज गांड मत मारना मैंने आजतक किसी से गांड नहीं मरवाई है. तो मैंने उसको कहा कि, अब तो मुझे तुम्हारी गांड मारनी ही है. तो फिर वह बोली कि, भाई आज नहीं मैं यह आपको किसी स्पेशल मौके पर गिफ्ट करूँगी. तो फिर मैंने सोचा कि, चलो कोई बात नहीं और फिर मैंने उसकी चूत में लंड डाल दिया था. और फिर मैंने ज़ोर से धक्के लगाने चालू कर दिए. और वह आहह… उइई मररर गई किए जा रही थी और फिर मैंने उसको कहा कि, क्या गरम चूत है तेरी अब तो मैं बहनचोद बन गया तुझे चोदकर अब तो मैं रोज़ चोदुंगा तो उसने भी कहा कि, आहहह… मेरे बहनचोद भाई आहहह… तुम बहुत अच्छी तरह से चोदते हो अगर ऐसा पहले पता होता तो किसी और के पास जाती ही नहीं आहह… और ज़ोर से चोदो भाई… अया… आआआह…

और फिर 20 मिनट के बाद मेरा भी पानी निकलने वाला था तो मैंने उससे पूछा कि, कहाँ पर निकालूँ? तो उसने कहा कि, भाई आज तो तुम इसको मेरी चूत में ही छोड़ दो बाद में मैं आई. पिल खा लूँगी. और फिर मैंने अपनी और स्पीड बढ़ा दी और फिर 5 मिनट में मेरे पानी से मैंने उसकी चूत भर दी. उसने अपनी चूत से मेरा लंड बाहर निकाला और फिर अपने मुहँ में लेकर साफ किया. उस रात उसको 3 बार और चोदा था मैंने. और फिर थोड़े दिनों के बाद मेरा जन्मदिन था तब मैंने उसकी गांड भी मारी थी. मैंने 6 महीनें तक तकरीबन रोज ही उसे खूब चोदा. सेक्स करते-करते मैं उससे अन्दर की बातें भी पूछता था और उसने मुझे यह भी बताया कि, उसकी मम्मी का मेरे दोस्त के पापा के साथ चक्कर है और जब पापा घर पर नहीं होते तब वह अंकल रात को आते है और मम्मी को जमकर चोदते है. उसकी मम्मी भी मस्त माल है मैंने उससे कहा कि, मेरा कुछ जुगाड़ कर ना तो वह बोली कि, अभी दीदी का जन्मदिन आ रही है उस दिन मैं आपको दीदी की चूत भी दिलवाऊँगी और फिर बाद में मम्मी का भी कुछ करेंगे।

धन्यवाद कामलीला के प्यारे पाठकों !!