Hindi Sex Stories परदेशी चूत

मेरी एक गर्ल फ्रेंड थी, जो एक गोरी और मुझसे उम्र में बड़ी और लम्बी थी antarvasna antarvassna Indian Sex Kamukta Chudai Hindi Sex मैं उसके घर में एक रात, पहले भी बिता चुका था! उस रात को मैं उसके ड्राइंग रूम में सो गया था, और अपने बच्चो के सोने के बाद वो मेरे पास आ गयी! रात में हम दोनों ने 2-3 बार रति क्रीडा की और एक दुसरे को बहुत मज़ा दिया!

मैं सुबह करीब 9 बजे उठा, मेरे सामने टेबल पर एक नोट पड़ा था, जिसपर लोरा (मेरी गोरी फ्रेंड का नाम) ने एक मैसेज छोड़ा था कि, नाश्ता माइक्रोवेव में गरम कर लेना! नाश्ता वो तैयार करके चली गयी थी, उसके बच्चे भी स्कूल जा चुके थे! मैं उठा, फ्रेश हुआ और नहाने चला गया! करीब 10 बजे लोरा का फ़ोन आया कि, वो 15 मिनट्स में वापस आ रही है! मेरी ख़ुशी और बढ़ गयी और अब मैं उसका इंतज़ार करने लगा!

लोरा 20 मिनट्स में आ गयी, आते ही हम ने एक दूसरे को टाइट से हग किया, क्यूंकि वो देखने में बहुत ही सेक्सी लग रही थी! उसके गोरे गोरे बदन पे काली लम्बी स्कर्ट, भूरी आँखे, लाल लिपस्टिक, भूरे बाल (वो ब्लोंड है), सुराहीदार गर्दन, सुडोल बदन मुझे लार टपकाने पर मजबूर करने लगा! वो मेरे लिए पास्ता तैयार करने लगी! उसने वो सब डाल दिया, जो वो (गोरे लोग) खाते हैं! मैंने सामने रखा लहसुन लोरा को दिया! वो हसी, और लोरा ने लहसुन पास्ता में डाल दिया! उसकी वो कातिल स्माइल को देखकर मैंने उसे रसोई में पीछे से पकड़ लिया और उसे किस करने लगा! उसे भी मज़ा आ रहा था! मैं उसके स्तनों को दबा रहा था, और किस कर रहा था! फिर हम दोनों ने एक साथ नाश्ता किया! नाश्ता करने के बाद वो, मेरे करीब बैठ गयी! मुझमे तो जैसे आग लगी हुई थी! उस आग को बुझाने के लिया हम दोनों के शरीर का मिलना बहुत जरुरी था!

मैं हरामखोर, अपनी हरामखोरी से कहाँ बाज आने वाला था! हम दोनों एक दुसरे को किस करने लगे! धीरे-धीरे हम एक दुसरे के कपडे उतारने लगे! उसकी लाल ब्रा का साइज़ 44 था, उसकी काली कच्छी उसे और सेक्सी बना रही थी! मैंने पहली बार आज, दिन में, उसका गोरा नंगा शरीर देखा! उसकी चिकनी नंगी टाँगे, नंगी कमर, उठे हुए गोरे और पिंक स्तन देखकर मुझमे अपने आपको रोकने की क्षमता नहीं रही! वो अब मुझे अपने कमरे में ले आयी! अब हम दोनों 11 बजे, दिन में, उसके कमरे में थे जहां हम दोनों एक दुसरे के बदन को स्पर्श करते हुए, एक दुसरे के शरीर की गर्मी का एहसास कर रहे थे! उस समय उस नंगी औरत (लोरा) की चाहत और उसकी नंगी टांगो के बीच की चिकनाहट मुझे पागल कर रही थी!

हम दोनों अब इतने गरम हो चुके थे कि, अब रहा नहीं जा रहा था! उसने मुझे अपने ऊपर आने को कहा! मैं उसके बिस्तर पर खड़ा हुआ तो उसने मुझे चूसना शुरू कर दिया! जब मैं इतना टाइट हो गया कि, मुझसे रहा नहीं गया तो, उसने मुझे पकड़कर अपने अन्दर डाल दिया! हम दोनों 10 मिनट्स तक जुड़े रहे! दिन के 3 बजे तक हम दोनों करीब 6 बार, कभी गुसलखाने (बाथरूम) मे, कभी फर्श (फ़्लॊर) पर, कभी कुर्सी (चेयर) पर, कभी बिस्तर (बेड) पर मैथुन करते रहे! 5 बजे मेरी फ्लाइट थी! उसने मुझे 3:30 पर छोड़ा और ना भूलने वाली वो यादें दे दी!