गर्लफ्रेंड की सहेली की चूत की आग

हाय फ्रेंड्स, Antarvasna मेरा नाम रोहित है मेरी उम्र 26 साल की है और मैं मुंबई का रहने वाला हूँ. दोस्तों वैसे तो मैं अपनी गर्लफ्रेंड के साथ बहुत ही खुश था और वह भी बहुत ही खूबसूरत और सेक्सी किस्म की लड़की है. हम जब भी एकदूसरे के साथ में होते है तब हमारी कम से कम 4 बार तो चुदाई करनी पक्की ही रहती है, और दोस्तों एक लड़के को अपनी गर्लफ्रेंड से और क्या चाहिए. मेरी गर्लफ्रेंड एक बहुत ही खूबसूरत लड़की है और वह अकेली ही रहती है और मैं उसके ऑफिस की छुट्टी के दिन हमेशा ही उसके साथ सेक्स करता हूँ. समस्या तो सिर्फ़ तब आती जब वह पीरियड में होती है. वैसे तो हमने उस वक़्त भी कई बार सेक्स किया है, लेकिन वह उस समय ज्यादा दर्द होने की वजह से मना कर देती है और उस वक़्त मेरे लिए सेक्स करना बहुत ही कठिन भी हो जाता है और फिर वह सेक्स करने के बाद दर्द की गोली लेकर सोती है. लेकिन वह फिर भी मेरा लंड चूसकर मुझे एक बार तो चुदाई का मज़ा दिला ही देती है।

दोस्तों चलो अब आज की असली कहानी पर आते है. यह बात उन दिनों की है, जब शिल्पा (मेरी गर्लफ्रेंड) पीरियड से थी और मैं चुदाई के पूरे मूड में था. लेकिन शुरू के दिन होने की वजह से दर्द के साथ-साथ दबाव भी कुछ ज़्यादा ही था और वह दर्द की वजह से बिलकुल भी मूड में नहीं थी. और फिर मैंने उससे कहा कि, जानेमन प्लीज़ एक बार कम से कम मेरा लंड चूसकर मुझको मज़ा तो दिला दो. दोस्तों वह लंड चूसने से मना कभी भी नहीं करती थी. और वह मेरे लंड को तो अपना लोलीपॉप समझती थी. और जब भी मैं उसको मेरे लंड को चुसवाता था तो उसको भी बहुत मज़ा आता था, और मेरे लंड का रस पीना उसे बहुत पसन्द है।

शिल्पा ने उसके दर्द की दवाई ले ली थी. जिसका मतलब था कि, वह ज़्यादा देर तक मज़े नहीं लेने वाली थी और वह जल्दी ही सोना चाहती थी, लेकिन मैं बहुत गरम मूड में था. और फिर मैंने उसकी बड़ी-बड़ी चूचियों को दबाना और मसलना शुरू कर दिया था. और मैं यह बात भी जानता था कि, अगर मैंने इसको एकबार गरम कर दिया तो यह मेरा पानी पिए बिना मानेगी भी नहीं. और फिर मैंने बड़े ही प्यार से उसके बब्स के निप्पल को अपने मुहँ में लेकर काट लिया था और फिर मैं उसके गले पर भी किस करने लगा था। और फिर उसके बड़े-बड़े बूब्स को चूस-चूसकर मैंने उसे बहुत गरम कर दिया था. और फिर अब उसने सीधा मुझ पर झपट्टा मारा और फिर मेरे अंडरवियर को उतारकर वह मेरे लंड को अपने हाथ से धीरे-धीरे सहलाने लगी. दोस्तों उसके हाथों में अजीब सी नज़ाकत है. और दोस्तों जिन लड़कों की गर्लफ्रेंड है वह यह बात बहुत अच्छी तरह जानते है कि, चाहे कितना भी मूठ अपने हाथ से मार लो लेकिन जब कोई लड़की लंड को अपने हाथ में लेती है तो उसमें कुछ अलग ही मज़ा आता है।

और फिर मैं भी वह मज़ा लेने लगा और फिर थोड़ी देर तक सहलाने के बाद उसने मेरा लंड अपने मुहँ में ले लिया था. कसम से दोस्तों उस पल तो इतना मज़ा आ रहा था कि, मैं आपको बता भी नहीं सकता. और वह मेरे लंड को किसी लोलीपॉप की तरह चूसती जा रही थी. और फिर मैंने अपना एक हाथ उसके बालों में डाला और फिर मैंने उसके बालों को कसकर पकड़ लिया था और फिर मैं ज़ोर-ज़ोर से धक्के देकर उसके मुहँ को चोदने लग गया था. दोस्तों चूत तो सभी ने चोदी होगी, लेकिन जिन खुश किस्मत वालों ने किसी लड़की के मुहँ को चोदा है वह ही जानते है कि, उसमें क्या मज़ा है. उस समय शिल्पा के सारे बाल बिखर गये थे, और मैं अपने पूरे जोश में धक्के देकर अपने लंड से उसके मुहँ को चोदने में लगा हुआ था. और फिर इन सब के बीच में उसके घर के दरवाजे की घन्टी बजी।

और फिर मैंने उसको कहा कि, रहने दो मेरी जान तुम तो बस चूसती रहो, बस मैं थोड़ी ही देर में अपना पानी छोड़ दूँगा. लेकिन उसके घर की घन्टी फिर से बजी और फिर वह उठकर दरवाजे की तरफ चल पड़ी थी. और फिर उसने दरवाज़ा खोलकर देखा तो, उसकी सहेली प्रिया वहाँ पर उदास होकर खड़ी थी, लेकिन किस्मत से वहाँ पर कोई और नहीं था. क्योंकि जिस हाल में शिल्पा ने दरवाज़ा खोला था, अगर वहाँ पर कोई और आदमी होता तो उसके बिखरे हुए बाल और कपड़ों को देखकर समझ जाता कि, अन्दर क्या हो रहा है. और फिर प्रिया को अन्दर आने को कहकर शिल्पा ने मेरी तरफ इशारा किया कि, अपने लंड को अन्दर डालो।

दोस्तों मैं तो अपने लंड को अन्दर डालने के मूड में बिल्कुल भी नहीं था, लेकिन क्या करता और इस कमीनी को भी अभी ही आना था. और फिर प्रिया ने बताया कि, उसका उसके बॉयफ्रेंड के साथ झगड़ा हो गया है और उसने उसको रात को ही अपने घर से बाहर निकाल दिया और अगर रात को इस समय पर वह घर पर गई तो घर वाले बहुत सारे सवाल करेंगे, और वह तो घर पर कहकर आई थी कि, आज की रात शिल्पा के यहाँ पर ही गुजारेगी, और अचानक से वापस घर आने की क्या वजह बताती तो फिर उसको कुछ भी नहीं सूझा और वह यहाँ पर चली आई. और फिर जब मैंने उससे पूछा कि, तुम्हारे बीच में झगड़ा क्यों हुआ? तो फिर उसने निजी मामला कहकर बात बताने से मना कर दिया था. और फिर शिल्पा ने कहा कि, प्रिया और वह बेडरूम में सोएंगे और मुझे बाहर दूसरे कमरे में सोना पड़ेगा। और फिर मैंने जब शिल्पा को लंड चूसने का इशारा किया, तो उसने साफ़ मना कर दिया और बोला कि, जाओ और चुप-चाप सो जाओ। और फिर तो मैं भी क्या करता और मैं बाहर के कमरे में आ गया और शिल्पा ने एक और दर्द की गोली लेकर सोने की तैयारी कर ली थी. और फिर उन दोनों को अन्दर गये हुए 30 मिनट के आस-पास हो गये थे, लेकिन मुझे नींद ही नहीं आ रही थी. और फिर मैंने अपना लेपटॉप चालू किया और हेडफोन को कान में लगाकर सेक्सी फिल्म देखने लगा और फिल्म देखने के साथ-साथ मैं अपने लंड को भी सहलाने लगा था. दोस्तों लंड का काम कभी भी आधा नहीं छोड़ा जाता है यह बात सभी लोग जानते है. और फिर मैं अपने लंड से मूठ मारने का मज़ा ले रहा था कि, तभी मेरे खड़े हुए लंड पर किसी ने अपना हाथ रखा. और फिर जब मैंने पीछे मुड़कर देखा तो, प्रिया वहाँ पर खड़ी थी. और फिर मैंने भी उसको देखकर झट से अपना लंड अपनी अंडरवियर के अन्दर डाल लिया था और मुझे पक्का यकीन था कि, उसने बहुत कुछ देख लिया था. और फिर उसने मुझको “सॉरी” कहा. और फिर मैंने भी उसको कहा कि, नहीं यार मेरी तरफ से “सॉरी” क्योंकि तुमने मुझे ऐसे देख लिया है. तो फिर वह मुझसे बोली कि, नहीं मैं इसके लिए “सॉरी” नहीं बोल रही हूँ, मैं तो थोड़ी देर पहले मैंने जो तुम दोनों को बीच में रोक दिया था उसके लिए “सॉरी” बोल रही हूँ।

और फिर जब मैंने उसको कहा कि नहीं, हम तो कुछ भी तो नहीं कर रहे थे. तो फिर उसने मुझको कहा कि, उसने शिल्पा के बिखरे हुए बाल और उखड़ती हुई सांसो को महसूस कर लिया था. तो फिर मैंने उसको सिर्फ़ ठीक है कहा. और फिर उसने मुझको कहा कि, क्या तुम जानते हो मेरा और मेरे बॉयफ्रेंड का झगड़ा क्यों हुआ था? तो फिर मैंने उसको कहा कि, नहीं जानता और फिर मैंने उससे पूछा कि, तुम ही बता दो कि, क्यों हुआ था? और फिर उसने मुझको कहा कि, वह कमीना मुझसे अपना लंड तो चुसवा लेता है, लेकिन वह मेरी चूत को नहीं चाटता है, और वह कहता है कि, उसको यह करना पसन्द नहीं है. और फिर मैंने उसका लंड चूसकर उसका सारा पानी पिया और जब उससे मैंने अपनी चूत चटवानी चाही तो उसने मुझसे झगड़ा करके मुझे घर से बाहर निकाल दिया था. दोस्तों उसके मुहँ से यह बात सुनकर मेरा तो मुहँ खुला का खुला ही रह गया था, क्योंकि उससे मैं ऐसे शब्दों की उम्मीद नहीं कर रहा था। और फिर उसने एक ही झटके में अपने कपड़ों को पूरा उतार दिया था. और फिर मैंने उससे कहा कि, तुम यह क्या कर रही हो? तो फिर प्रिया ने मुझसे कहा कि, शिल्पा ने मुझे बताया था कि, कि तुम्हे चूत चूसना बहुत पसन्द है और उसने मुझको यह भी कहा था कि, जब तुम उसकी चूत चाटते हुए जोश में आते हो तो तुम उसकी जमकर चुदाई करते हो. और फिर मैंने उससे कहा कि, प्रिया तुम बहुत खूबसूरत हो, लेकिन शिल्पा और मैं गर्लफ्रेंड-बॉयफ्रेंड है और वह इस वक़्त दूसरे कमरे में है इसलिए प्लीज़ तुम अपने कपड़े पहन लो। तो फिर प्रिया ने मुझसे कहा कि, तुम चुपचाप मेरी प्यास को बुझा दो और मैं तुम्हारी प्यास बुझा दूँगी, वरना मैं शोर मचा दूँगी कि, तुमने ज़बरदस्ती मुझे नंगा कर दिया है और तुम मुझको जबरदस्ती चोदने की कोशिश कर रहे हो. और फिर यह कहते ही उसने तुरन्त मेरे लंड को मेरी अंडरवियर से बाहर निकाल लिया और फिर वह उसको मसलने लग गई थी. और फिर मैंने उसको ऐसा करने से साफ़ मना किया तो उसने शिल्पा को एक आवाज़ लगा दी तो मैं डर गया था. और फिर मैंने उसके मुहँ पर अपना हाथ रखा और उससे कहा कि, प्लीज़ ऐसा मत करो और चुप-चाप सो जाओ।

लेकिन वह साली रंडी मानने वाली नहीं थी. और फिर उसने मुझको कहा कि, तुम मुझको चोदते हो या मैं शोर मचा दूँ? और फिर जब मैंने उससे कहा कि, मेरे पास कॉन्डोम नहीं है, क्योंकि शिल्पा पीरियड से है, और मैं उसको चोदने वाला भी नहीं था. तो फिर उसने मुझको कहा कि, चलो ठीक है तो फिर तुम एकबार मेरी चूत को ही चाट लो. और फिर मैंने उसे फिर से समझाने की कोशिश करी, लेकिन उसने फिर से एक आवाज़ लगाई, और मैंने फिर से उसे रोका. और फिर मैं उसकी चूत को चाटने के लिए आगे बढ़ा और फिर मैं जैसे ही झुका और मैंने अपनी ज़ुबान उसकी चूत पर रखी तो उसने तुरन्त ही अपने मोबाइल से एक मेरी उसकी चूत को चाटते हुए की एक फोटो ले ली थी. और फिर मैंने उसको कहा कि, प्रिया तुमने ऐसा क्यों किया? तो प्रिया ने जवाब दिया कि, अब तू मुझको चोदेगा भी सही वरना मैं यह फोटो शिल्पा को दिखा दूँगी और मैं उससे यह बोलूँगी कि, तुम मेरे साथ ज़बरदस्ती कर रहे थे। और फिर मैं समझ गया था कि, अब कोई फायदा नहीं है, यह साली तो एक नम्बर की रंडी है, और क्यों ना आज की रात इसको चोदकर ही मज़ा ले लिया जाए. और फिर मैंने भी अपने कपड़े उतार दिए थे. और फिर मैंने उसको कहा कि, चल आज तुझे मैं एक रंडी की तरह ही चोदूंगा क्योंकि तू एक रंडी ही है. दोस्तों उसको भी मेरा उससे ऐसी भाषा में बात करना और भी ज़्यादा पसन्द आ रहा था. और फिर उसने भी मुझको कहा कि, हाँ चोदो इस रंडी को यह रंडी आज से तुम्हारी ही गुलाम है. और फिर मैंने उसको कहा कि, चल रंडी पहले मेरा लंड चूसकर इसको तैयार कर और फिर मैं तुझको चोदूंगा।

और फिर मैंने प्रिया से कहा कि, चल आज मैं तुझको जन्नत दिखा देता हूँ और फिर मैंने उसको 69 की पोज़िशन में ले लिया और उसकी चूत एकदम साफ़ बिना बालों वाली और एकदम गुलाबी थी. और फिर मैंने प्रिया की चूत पर जैसे ही अपनी ज़ुबान लगाई तो वह रांड़ साली नागिन की तरह इधर-उधर होने लगी और हँसने भी लगी थी, शायद पहली बार किसी ने उसकी चूत को चाटा था. दोस्तों मुझको चूत चाटना बहुत पसन्द है. और फिर वह उत्तेजना में आकर सातवें आसमान पर पहुँच गई थी. और मैंने उसकी चूत को करीब 10 मिनट तक इतनी ज़ोर-ज़ोर से चाटा था कि, उसकी चूत का सारा पानी ही निकल गया था, और वह एकदम ऐसे ठण्डी पड़ गई थी कि, जैसे उसके जिस्म से जान ही निकल गई हो।

और फिर मैंने उसको कहा कि, क्यों बे रंडी मज़ा आया ना. और फिर उसने सिर्फ़ हाँ में अपना सिर हिला दिया था, क्योंकि उसमे तो जान ही नहीं बची थी. मैंने उसकी चूत का पानी निकाला और फिर मैं उसके ऊपर चढ़ा और फिर मैं उसके बड़े-बड़े बब्स को मसलने लगा, क्योंकि मैं उस रंडी को पूरी तरह से गरम करके चोदना चाहता था. और फिर मैंने उसके एक बब्स को अपने मुहँ में लिया और हल्का सा काट भी लिया था. और इससे पहले कि, वह कोई आवाज़ करती मैंने उसका मुहँ अपने हाथ से बन्द कर दिया था. और फिर मैं ज़ोर-ज़ोर से उसके बब्स को चूस रहा था तो वह साली रांड़ भी दर्द से तड़पने लग गई थी. और फिर मैंने उसके मुहँ से अपना हाथ हटाया और फिर मैंने उसको कहा कि, चल रंडी अब तू चुदेगी, लेकिन उससे पहले तू अपने मालिक का लंड चूस. और फिर उसने मेरा लंड अपने मुहँ में लिया और फिर उसने मेरे लंड को चूस-चूसकर बहुत गीला कर दिया था। और फिर जब मुझसे भी रहा नहीं जा रहा था तो फिर मैंने उसकी तड़पती हुई चूत में अपना लंड डाल ही दिया था. लेकिन दोस्तों उसकी चूत बहुत ही टाइट थी, और मुझको उस समय लग रहा था कि, उसका बॉयफ्रेंड शायद नामर्द था, क्योंकि इतने समय तक साथ रहने के बावजूद भी उसकी इतनी टाइट चूत थी. इसका मतलब तो यह है कि, उसका या तो बहुत ही छोटा लंड था। और फिर मैंने प्रिया को बहुत ज़ोर-ज़ोर से उसकी चूत में धक्के दे-देकर बड़े ही जबरदस्त तरीके से चोदा था और मैंने उसको बहुत सारे किस भी दिए थे. और फिर जब मैं झड़ने वाला था तो फिर मैंने उसको कहा कि, प्रिया मेरा अब निकलने वाला है तो मैं अब क्या करूँ? तो फिर उस रंडी ने मुझसे कहा कि, तुम डरो मत और अपना सारा पानी मेरी इस प्यासी चूत के अन्दर ही डाल दो। दोस्तों ये कहानी आप कामलीला डॉट कॉम पर पढ़ रहे है।

और फिर मैंने उसको कहा कि, नहीं मैं अभी कोई बच्चा नहीं चाहता हूँ. और फिर उस रंडी ने अपने दोनों पैरों को साँप की तरह मेरी कमर से जकड़ लिए था और उसने मुझको मेरे लंड को बाहर नहीं निकालने दिया था. और फिर उसने मेरा सारा का सारा सब्र का बाँध उसकी चूत के अन्दर ही टूट गया था. और फिर जब हम दोनों की चुदाई पूरी हुई तब उसने मुझसे कहा कि, वह कल सुबह गर्भ-निरोधक गोली ले लेगी।

दोस्तों फिर तो हमने उस रात में 3 बार और भी चुदाई करी थी, और हमारी किस्मत से शिल्पा को उस गोली ने नींद से उठने नहीं दिया था और हम बिना किसी डर के अपनी चुदाई में लगे रहे थे।