सेक्सी कामवाली ने लंड हिलाते हुए देखा

हेल्लो दोस्तों मेरा Antarvasna नाम वैभव पटेल हे और मैं गुजरात के वापी का हूँ. आज का ये अनुभव मेरा और मेरी सेक्सी कामवाली का हे. मैं 19 साल का हूँ और मेरी हाईट 5 फिट 10 इंच हे. कलर मीडियम हे और बॉडी मेरी एवरेज ही हे. मेरे लंड की लम्बाई साड़े 6 इंच हे और मेरा सेक्स स्टेमिना बहुत ही ज्यादा हे. अब मैं आप को नैना से मिलवाऊं वो 35 साल की हे और हाईट करीब साड़े 5 फिट की हे उसकी. उसके बदन का सब से सेक्सी अंग हे उसके 36d साइज़ के सेक्सी बड़े बूब्स. उसका टमी यानी की पेट भी एकदम सेक्सी हे. जब वो साडी पहनती हे तो मैं उसके नाभि के बटन को देख के लंड सहला देता हु. उसका पति पियक्कड़ हे एक नम्बर का. और उसके दो बच्चे भी हे.

शायद अब उसका पति नैना को चोदता नहीं हे इसलिए वो खुद भी प्यासी ही थी! जब भी मुझे चांस मिलता और वो फ्लोर क्लीन करती थी तो मैं उसके मस्त क्लीवेज को देखता था और उसकी बड़ी गांड को भी. और फिर वो सिन को याद कर के अकेले में मुठ मारता था.

मेरे एक्साम्स करिव्ब थे और उन दिनों ही मेरे मम्मी पापा को मेरी बुआ के वहां शादी में मुंबई जाना हुआ. मैंने कहा मेरी परीक्षा हे इसलिए मैं नहीं आऊंगा. वो लोग मुझे घर पर अकेला छोड़ के चले गए. मैं उस वक्त सुबह के करीब 9 बजे पढ़ाई ही कर रहा था जब नैना अपनी गांड मटकाते हुए आई. उसने बेल बजाई और मैंने जा के दरवाजा खोला. उसकी नीली साड़ी के अन्दर उसके भरे हुए यौवन को देख के मैं एक पल के लिए खो सा गया और उसे ही देखता रहा. उसके ब्लाउज इतने टाईट थे की लगता था की बूब्स को सजा दे के जकड़ लिए गए हो उनके अन्दर. उसको देख के ही मेरा तो खड़ा हो गया था.

वो अन्दर आई और अपने काम में लग गई. मैंने अब उसे ऐसे देख लिया था तो लंड हिलाना मेरे लिए जरुरु हो गया था. वरना पूरा दिन उसका ब्लाउज ही किताबों के अन्दर घूमता. मैं बेडरूम में गया और एक टिश्यू के टुकड़े को लंड के पास रख के उसे हिलाने लगा. मुझे लगा की नैना किचन में हे और बर्तन मांज रही हे. मैंने सोचा की उसे कम से कम 20 मिनिट तो लगेगी ही बर्तन साफ़ करने में.

मैं लंड को हिला रहा था और मुहं से नैना नैना भी बोल रहा था. तभी वो कमरे में आ गई कुछ पूछने के लिए. और उसने मुझे देख लिया और उसने मेरा नाम लिया. मैं डर गया और फट से अपने लंड को पेंट में डाला. वो हंस रही थी. मैं उसके पास गया और कहा, नैना आंटी प्लीज़ किसी को बताना मत.

वो बोली, मैं तो मालकिन को बोल दूंगी.

मैं प्लीज़ प्लीज़ करने लगा और उसे लालच भी देने लगा.

वो बोली, एक बार अपना फिर से दिखाओ मुझे तो नहीं बताउंगी किसी को.

मैने कहा, क्या?

वो बोली, अपना लंड मुझे दिखाओ.

मैंने जैसे ही अपने लंड को बहार निकाला वो बोली, बहुत बड़ा हे तुम्हारा तो.

और फिर उसने मेरे लंड को अपने हाथ में पकड़ते हुए कहा, आज तो मैं इसे ले ही लुंगी क्यूंकि तुम मेरे बारे में सोच के ही इसे हिला रहे थे.

और ऐसे कह के वो मेरे लंड को अपने हाथो से स्ट्रोक देने लगी. मेरी आँखे बंद हो गई और चुदास चढ़ गई. मैंने उसे लिपट के उसके होंठो के ऊपर किस दे दी. वो भी मेरी किस का जवाब अपने होंठो से मस्त दे रही थी. किस करते करते मेरे हाथ उसके टाईट ब्लाउज के ऊपर चले गए और मैं हाथ से उसे सहलाने लगा. वो भी मस्तियाँ चुकी थी और आह्ह्ह्ह अह्ह्ह्हह करने लगी थी. फिर मैंने उसकी साड़ी निकाल दी और उसके बूब्स को ब्लाउज के ऊपर से ही चाटने लगा. नैना ने अपने बटन खोल के ब्लाउज और ब्रा को निकाल दिया. उसके बूब्स मस्त थे और निपल्स डार्क ब्लेक और एकदम बड़ी साइज़ के थे. मैं उसके सेक्सी बूब्स देख के क्रेजी हो गया और उन्हें जोर जोर से चूसने लगा. नैना ने अब मेरी बनियान और चड्डी उतार दी.

फिर उसने मुझे अपनी तरफ खिंच के मेरे से चिपक गई. उसकी चूचियां मुझे टच होती थी तो दिल के अन्दर जैसे घंटी सी बज जाती थी. वो मेरे लंड को अपने हाथ में पकड के मसल रही थी और मैं सिसकियाँ ले रहा था. हम दोनों ने फिर से किस करना चालू कर दिया. और किस करते करते वो मेरे लंड को मर्दन दे रही थी.

अब मैंने उसे कहा, आप मेरा लंड चुसोगी?

वो बोली, सौक से!

मैंने कहा हम दोनों एक दुसरे को चूसते हे.

फिर वो अपने पेटीकोट को खोल के बिस्तर के ऊपर लेट गई. उसकी चूत पर छोटे छोटे से घुंघराले बाल थे और गर्म होने की वजह से अन्दर से पानी छुट चूका था. वो बोली, लाओ लंड.

मैंने अपने लंड को उसके मुहं में दिया और मैं उसकी चूत की तरफ अपने मुहं को कर के उसके ऊपर लेट गया. नैना ने अपने दोनों हाथ से मेरी जांघ को सहलाया जिस से मुझे गुदगुदी सी होने लगी थी. फिर वो मेरे लंड को ऐसे चूसने लगी की जैसे कोई केला खा रही हो. लंड चूसते हुए वो बड़ा मोअन कर रही थी, अह्ह्ह्ह अह्ह्ह्हह अम्मम्म अह्ह्मम्म्म्म अह्म्म्मम्म्म्म और मैं उसकी चूत की फांको को अपने होंठो से दबा के अन्दर जबान को घुसेड के चूत की दीवारों को हिला रहा था. वो शायद इस मस्त चूत लिकिंग की वजह से ही मोअन कर रही थी.

वो मेरे लंड को हिला हिला के मस्ती से चुसे जा रही थी. मैंने 5 मिनिट तक उसकी चूत को चूसा और तब मेरा डिस्चार्ज हो गया नैना के मुहं में ही. वो सब मुठ पी गई. मैं अब भी उसकी चूत को चाट रहा था. उसने लंड को चाट चाट के साफ़ कर दिया और बोली, तुम्हारा तो फूस हो गया.

मैंने कहा, बहुत दिनों के बाद इसे प्यार मिला हे इसलिए. अभी रुको तुम्हारी बुर फाड़ दूंगा!

वो कुछ नहीं बोली और मैं उसे सहलाते हुए उसकी चूत को चूसने लगा. फिर मैंने अपन दो ऊँगली को कामवाली की चूत में डाल के फिंगर फकिंग किया. उसकी चूत से भी बहुत सब पानी छुट पड़ा.

उसने मेरे लंड को अपने हाथ में ले के हिलाना चालू कर दिया. सोये हुए लंड के अन्दर फिर से सेक्स चढ़ने लगा था और एक मिनिट के अन्दर तो वो फिर से मोटा हो गया. नैना ने फिर से उसे थोड़ा चूसा. और फिर वो बोली, चलो अब जल्दी से मेरी चूत में डाल दो इसे.

मैंने नैना को निचे लिटा के उसकी टाँगे पूरी खोल दी. उसकी चूत का और मूत का दोनों छेद दिख रहे थे. मैंने चूत वाले छेद में लंड डाला और लंड बिना किसी परेशानी के अन्दर घुस गया. मेरी कामवाली की चूत बड़ी ही गरम थी. मैंने उसे बाँहों में भर लिया और अपने लंड को कस कस के ठोकने लगा. नैना फिर से सेक्सी आवाज में मोअन करने लगी, अह्ह्ह्हम्म्म्म अह्ह्ह्हह अह्ह्ह्हह्हं अह्ह्ह्हह मजाआआआ आआआअ गयाआअ अह्ह्ह्ह अह्ह्ह्हम्म्म्म!

मैंने उसके बड़े बूब्स हाथ में पकड के उन्हें दुखने तक दबाया. और उसकी निपल्स को अपने दांतों से काटने लगा. उसके बड़े बड़े निपल्स को काटने में बड़ा मजा आ रहा था मुझे. वो भी कमर को ऊपर उठा के मुझे सेक्स का सुख दे रही थी.

अब मैंने उसे कहा, चलो घोड़ी बन जाओ नैना.

वो बोली नहीं पीछे नहीं करना हे!

मैंने कहा: अरे मुझे भी लंड पर गू नहीं लेना हे तुम्हारा, मैं चूत में ही डालूँगा.

वो अपने दोनों हाथ और पैरो के ऊपर घोड़ी बन गई. मैंने पीछे से उसकी कमर को को पकड़ के उसकी चूत को खोला. मैंने देखा की उसकी चूत पानी पानी हो चुकी थी. मैंने लंड को थोडा घिसा और फिर एक ही धक्के में पूरा अन्दर पेल दिया. उसके मुहं से एक जोर की दर्द भरी चीख निकल पड़ी क्यूंकि लंड पूरा अन्दर घुस चूका था. वो अह्ह्ह्हह्ह अह्ह्ह्हह करने लगी थी. और मैंने उसके कंधे को पकड के उसे अपनी तरफ खिंच के पेलना चालू रखा.

कुछ देर में उसका पेन भी मजे में बदल गया. और वो भी अपनी गांड को आगे पीछे कर के मेरे लंड से चुदने लगी. मैंने 10 मिनिट तक उसकी बजाई और फिर पानी निकलने को था तो मैंने कहा अन्दर निकालूं मेरे कीटाणु!

वो बोली, नहीं नहीं मेरा पति नहीं चोदता हे मुझे.

मैंने लंड को बहार निकाल के हिलाया और उसकी बम्स के ऊपर पानी निकाला. आज पहली बार मेरा इतना सब पानी निकला था.

मम्मी पापा दो दिन तक आनेवाले नहीं थे. मैंने नैना को कहा हो सकें तो यही रुक जाओ हम ब्लू फिल्म देख के चोदेंगे. वो बोली ठीक हे मैं मेरे पति को कह देती हूँ की मालकिन के वहां बहुत काम हे.

और उसने कहा. लेकिन मैं यही खाना बना के अपने बच्चे और पति के लिए दे आउंगी अपने घर पर.

मैंने कहा मर्जी में आये वो करो दो दिन तुम ही इस घर की मालकिन हो, बस मुझे चूत देती रहना