रंडी मौसी की गांड मारी

पहले मैं आप लोगों को मेरे बारे में थोड़ा बता दू. मैं एक ग्रेजुएट लड़का हूं, मेरी उम्र २० साल है, मैं दिखने में हैंडसम हूं और मेने जिस मौसी की बात शेयर करने वाला हूं उस मौसी के बारे में थोड़ा शॉर्टकट बोलता हूं. उस मौसी का नाम नजुफा है, उम्र ३५ साल होगी, दिखने में सेक्स बोम्ब है. किसी का भी लंड खड़ा कर दे. मौसी शादीशुदा थी. मौसी को एक लड़की भी थी, उसका नाम अमृता था. उस की उम्र १६ साल थी. मेरे मौसाजी इंडियन आर्मी में थे इसीलिए साल में तीन चार बार ही घर आते थे, तो मैं सीधे कहानी पर आता हूं. कि कैसे मैंने जाना कि मेरी मौसी रंडी है और किस तरह से मैने उस को चोदा.

तो यह बात कुछ दिन पहले की है जब मुझे अचानक घर से मौसी के शहर में जाने की जरूरत पड़ी कुछ काम के लिए. तो मैं शहर चला गया तो मैंने अपना काम निपटा कर मौसी के घर में जाने की सोचने लगा. मैंने उनको कॉल भी नहीं किया और बिना बताए मौसी के घर में घुस गया.

तो मैंने देखा दरवाजा अंदर से लॉक नहीं था. तो मैं अंदर घुस गया तो मौसी और मेरी कजिन कहीं दिख नहीं रहे थे. तो मैंने सोचा कहीं गए होंगे. तो मैंने मौसि के बेडरूम से कुछ आवाजें निकल रही थी वह सुनी. तो मैंने सोचा कि यह क्या चल रहा है अंदर? तो जैसे मैं रुम के नजदीक आया तो मेरे होश उड़ गए. तब पूरा चुदाई की आवाज़ आ रही थी और मौसी के मुंह से “चोद मुझे चोद मुझे मादरचोद.. चाट मेरी गांड.. मार दे मेरी चूत”. यह सब सुन रहा था और मेरा लंड खड़ा हो गया. मैंने सोचा अभी दरवाजा खोलना ठीक नहीं होगा तो मैं बाहर बैठ कर इंतजार करने लगा के अंदर कौन मेरी मौसी को चोद रहा है वह देख सकूं.

कुछ देर के बाद दरवाजा खुला तो मौसी ने मुझे देख कर हैरान हो गई और मौसी के पीछे पीछे जो बंदा बाहर आया वह मौसी का खुद का देवर था यानी मौसा जी का छोटा भाई था.. तो वह दोनों मुझे बोलने लगे कि कब आए बेटा कैसा है तू? मैंने भी चालाकी से बोला कि मैं २ मिनट पहले ही आया हूं, बस और मौसी का देवर घर चला गया. घर में सिर्फ मैं और मौसी थे. मौसी ने मुझे हग किया बहुत दिन बाद मिलने के लिए. लेकिन मुझे तो बचपन से ही शौक था मौसी को चोदने का. मैंने मौसी से उनकी बेटी के बारे में पूछा तो वह बोली वह स्कूल की छुट्टी में कहीं घूमने गई है. घर में सिर्फ मौसी अकेली रहती है और बोली तू आया है अब कुछ दिन यहीं रुक जा. मेरे मन में लड्डू फूटने लगे और मैंने भी उसे जोर से हग कर दिया, मौसी को और गाल पर किस करते करते कान पर काट लिया और एक स्माइल दे कर बाथरूम में गया फ्रेश होने के लिए. रात को डिनर करने के बाद मौसी ने बोला मेरे बेडरूम में सो जा एक साथ सोएंगे हम, तो मैंने हां बोल दिया.

और रात में मैंने अचानक हिम्मत करके मौसी को बोल दिया तुम दोनों डोर लोक कर के क्या कर रहे थे? तो मौसी ने सीधा बोल दिया तेरे मौसाजी आते ही नहीं और मैं बचपन से ही चुदाई की प्यासी हूं, तो तू बोल मैं कैसे रह सकती हूं इसलिए जब भी मौका मिलता है किसी ना किसी से चुदवा लेती हूं. यह सब सुन कर मेरा लंड खड़ा हो गया, तो मैंने मौसी को बोला मौसी मैं आपको बचपन से ही चोदना चाहता हूं. मैं आपकी गांड और चूत के छेद में जीभ डालना चाहता हूं क्या आप मुझसे चुदवायेंगे? तो मौसी ने बोला किसी को बोलना मत मैं तुझसे रोज चुदूंगी और तू मेरा चूत, नाक, कान, गांड सब सक करेगा बोल मंजूर है? यह सुनकर मैंने डायरेक्ट मौसी की नाक के छेद में जीभ घुसा दी और चूसने लगा.

वाह क्या टेस्ट था कसम से? फिर दोनों हाथ से मौसी के सनी लियोन जैसे बड़े बड़े बुब्स दबाने लगा, उस दिन मुझे ऐसा मजा आया मानो में स्वर्ग में उड़ रहा हूं, आधा घंटा नाक चाटने के बाद मौसी की थूक मेने खाई. उसके बाद मौसी ने मेरा हतोडे जैसा लंड को मुंह में लेकर रंडी की तरह चूसने लगी, तो मैंने बोला रंडी मौसी तुझे मैं प्रेग्नेंट बनाऊंगा. तुझे मैं शादी करूंगा, तुझे मैं हर रोज चोदूंगा. मौसी ने बोला मादरचोद तेरा लंड खा जाऊंगी, आज तू मेरा सब कुछ खा, मैं तेरा सब कुछ खाऊंगी.

ब्लोजॉब के बाद मैंने डायरेक्ट पैंटी उतार दी मौसीजी की और मेने जीभ गांड में घुसा दिया, तो मौसी बोली चुस रंडी की गांड चुस,. मैंने पूरा चूसा एक अलग ही टेस्ट मिला मुझे, फिर चूत भी सक किया, लास्ट में मुझसे रहा नहीं गया तो लंड चूत के छेद में रख के जोर का झटका लगाया तो मौसी के मुंह से आह निकल गया. तो मैंने मौसी की नाक को फिर से चाटने लगा और चुदाई स्टार्ट कर दी, एक घंटा चुदाई के बाद मौसी की गांड भी मारी. ३ घंटा चुदाई करने के बाद हम दोनों रात में चार बार बार सेक्स किए और अभी करते हैं. इस सेक्स के बाद मौसी के बूब्स मुंह में लेकर सोके बातें करने लगा, तो मैंने पूछा कि आप को किस किस ने चोदा हे? तो वह बोली उनके देवर ने, और मकान मालिक ने, मकान मालिक के बेटे ने, और मौसा जी के हर एक दोस्त ने. सबसे ज्यादा मजा तो मुझे तुझ से चुदवाने में मिला.

यह सुनते ही मेरी जीभ मौसी के बगल में चली गई और चाटने लगा और नाक के छेद में भी चाटने लगा. ऐसा करते करते फिर से खड़ा हो गया इस बार मैंने कुछ अलग ही किया. इस बार मैंने मौसी को घर के बाहर ले गया और बाहर खुले में चोदने लगा. बहोत रात हो गई थी तो रास्ते पर कोई नहीं था, तो सारा रोड पर मैंने मौसी की चुदाई की. अचानक एक बुड्ढे ने देख लिया तो वह दौड़ कर आया और मुझे वहां से हटा दिया. और वह भी मौसी को चोदने लगा चोदने के बाद बुड्ढा चला गया. मैंने फिर से चुदाई स्टार्ट कर दिया.