मेरे बॉस की खूबसूरत बीवी की जबरदस्त चुदाई

हाय फ्रेंड्स, मेरा नाम नीलेश है, Antarvasna और मेरी उम्र 29 साल की है. दोस्तों मैं पटना का रहने वाला हूँ. और मैं यहाँ की एक बड़ी प्राइवेट कम्पनी में काम करता हूँ. मेरे लंड का साइज़ 6.5’’ लम्बा और 3’’ मोटा है, और मेरी लम्बाई भी 5.7 फुट है, और मेरा शरीर भी कसरती है. मैं दिखने में स्मार्ट हूँ, और मेरा रंग भी थोड़ा सा गेहुँवा सा है।

हाँ तो दोस्तों मेरी यह कहानी आज से 3 साल पहले की है जब मैं अपनी पढ़ाई पूरी करके एक छोटी सी कम्पनी में नौकरी करता था, और मैं आप सभी से उम्मीद करता हूँ कि आपको मेरी यह कहानी बहुत अच्छी लगेगी. आप यह कहानी कामलीला डॉट कॉम पर पढ़ रहे है।

दोस्तों मैं सबसे पहले जिस कम्पनी में काम करता था वहाँ पर मेरा एक बॉस था जिसका नाम रंजन मित्रा था, और उसकी उम्र करीब 45 साल के करीब थी। और वह बहुत ही गरम स्वभाव के थे, इस कारण उनके सामने बोलने की किसी की हिम्मत नहीं होती थी. और मुझको भी करीब 3 महीनें ही हुए थे वहाँ काम पर लगे हुए. और फिर एक दिन मैं दोपहर में 2-3 बजे के आस-पास अपने कैबिन में बैठा हुआ था कि तभी मेरे बॉस मेरे पास आए और फिर उन्होनें मुझको एक फ़ाइल देते हुए बोला कि यह एक बहुत जरूरी फाइल है, और इसके ऊपर मेरी पत्नी का साइन करवाना है. इसलिये तुम जल्दी से मेरे घर जाकर इस फ़ाइल के ऊपर मेरी पत्नी का साइन करवाकर वापस ले आओ।

दोस्तों मैं उस दिन से पहले कभी भी उनके घर पर नहीं गया था, इसलिये मेरे बॉस ने मुझको उनके घर का पता दिया था और फिर मैं मेरे बॉस की कार लेकर निकल गया. और फिर मैंने उनके घर पर जाकर दरवाजे की घन्टी बजाई थोड़ी देर तक वहाँ खड़ा रहा तो कोई भी बाहर नहीं आया, तो फिर जैसे ही मैं दूसरी बार घन्टी बजाने के लिये आगे बढ़ा तो दरवाजा एकदम से खुला और फिर जैसे ही मैंने बॉस की पत्नी को देखा तो मैं उनको देखता ही रह गया था. वह एक बहुत ही खूबसूरत औरत थी जिसकी उम्र करीब 38-40 साल के आस-पास की तो होगी ही लेकिन वह दिखने में 30-32 साल की लगती थी।

उसने उस समय एक गाऊन पहना हुआ था, और उसका फिगर 34-23-36 का दिखाई दे रहा था. और फिर मैंने अपने-आप को संभाला और फिर उनसे कहा कि मेम इस फ़ाइल के ऊपर आपके साइन करवाने है, और सर ने मुझको यहाँ भेजा है. तो फिर उसने मुझको घर के अन्दर बुलाया और फिर वह मेरे लिए ठंडा पानी लेकर आई. और फिर जैसे ही वह साइन करने के लिये नीचे झुकी तो मेरा ध्यान सीधा ही उनके बब्स पर पड़ा और उस नजारे को देखकर मेरा लंड कड़क होने लगा था।

और मेरी नज़र उनके बब्स के ऊपर से हट ही नहीं रही थी. और फिर इस बात पर उन्होनें भी गौर किया. और फिर मैं वहाँ से उठकर आने लगा तो मेम ने मुझसे कहा कि क्या तुम भी ऑफिस में ही काम करते हो? तो मैंने उनसे कहा कि हाँ. तो फिर उन्होंने फिर से मुझसे कहा कि तुम्हारा नाम क्या है? तो मैंने उनको अपना नाम बता दिया. और फिर मैंने भी उनसे उनका नाम पूछा तो उन्होनें अपना नाम शीतल बताया।

और फिर मैं वहाँ से वापस ऑफिस में आ गया और फिर कुछ दिन तो ऐसे ही बीत गये. और फिर एकबार मेरी साप्ताहिक छुट्टी के दिन एक अनजान नम्बर से मेरे फोन पर फोन आया. और फिर जैसे ही मैंने उसको उठाया तो दूसरी तरफ से आवाज़ आई कि, कैसे हो? तो मैंने भी जवाब में कहा कि मैं तो ठीक हूँ, लेकिन आप कौन बोल रही हो? तो फिर उसने मुझको बताया कि इतनी जल्दी भूल गये क्या? तो फिर मैंने उनसे कहा कि नहीं ऐसी बात नहीं है लेकिन मैंने आज से पहले आपकी आवाज़ कभी नहीं सुनी थी ना इसलिए. और फिर उसने मुझको बताया कि मैं शीतल बोल रही हूँ. तो फिर मैंने उनसे कहा कि, जी मेम बोलिए आज आपने मुझको कैसे याद किया?

तो फिर उसने मुझको बताया कि मेरा लेपटॉप खराब हो गया है, तो मैंने आपके सर को बोला था, लेकिन तुम्हारे सर 2-3 दिन के लिये कहीं बाहर गए हुए है. तो फिर उन्होंने ही मुझको तुम्हारा नम्बर दिया और कहा कि तुम इस नम्बर पर बात करके उसको बुला लो तो इसीलिये मैंने आपको फोन किया था, क्या आप अभी मेरे घर पर आ सकते हो? तो फिर मैंने उनसे कहा कि हाँ बस 30 मिनट में मैं आपके घर पर आ रहा हूँ. और फिर मैं उनके पर घर चला गया, और वहाँ जाकर मैंने देखा कि मेम आज तो कुछ अलग ही मूड में लग रही है. और उसने एक काले रंग का पारदर्शी गाऊन पहना हुआ था. और उसमें से उनकी उसी रंग की ब्रा और पैन्टी साफ नज़र आ रही थी, और उस समय वह बहुत ही सेक्सी लग रही थी।

और फिर मैंने उनसे कहा कि आपके लेपटॉप में क्या हुआ है? तो फिर उसने मुझसे कहा कि वह तो चालू ही नहीं हो रहा है. तो फिर मैं उसको चेक करने लगा, लेकिन मेरी नज़र तो उनके बब्स के ऊपर ही थी. तो फिर उसने मुझसे बातें करते हुए कहा कि तुम्हारी कोई गर्लफ्रेंड है? तो मैंने उनसे कहा कि नहीं, लेकिन आप ऐसा क्यों पूछ रही हो? तो फिर उसने मुझसे कहा कि क्यों नहीं है? तो फिर मैंने उनसे कहा कि अभी तक मुझको कोई अच्छी लड़की मिली ही नहीं है, जैसी मुझको चाहिए थी. तो फिर उसने मुझसे पूछा कि तुमको कैसी लड़की चाहिए?

तो फिर मैंने उनसे कहा कि आपके जैसी खूबसूरत और सेक्सी. तो फिर उसने मुझसे कहा कि सच में क्या मैं इतनी खूबसूरत और सेक्सी हूँ? तो फिर मैंने उनसे कहा कि हाँ.

तो फिर उसने मुझसे कहा कि तुमने कभी सेक्स किया है?

तो मैंने उनसे कहा कि नहीं तो, कभी नहीं किया।

और फिर उसने मुझसे कहा कि क्या तुम मेरे साथ सेक्स करना चाहोगे?

तो फिर मैं उसके मुहँ से यह बात सुनकर एकदम से चौंक गया था, और थोड़ी देर तक चुप रहा, और फिर अचानक से उनके होठों पर किस करने लगा।

और फिर मैंने उनके बब्स को भी दबाना शुरू कर दिया था. और उसने भी मेरे लंड को मेरी पेन्ट के ऊपर से ही सहलाना शुरू कर दिया था. और फिर मैंने उनके गाऊन को उतार दिया था. और फिर वह मेरे सामने सिर्फ़ अपनी ब्रा और पैन्टी में ही थी. और फिर मैंने उनकी ब्रा को भी खोल दिया था और फिर ज़ोर-ज़ोर से उनके बब्स को अपने मुहँ में लेकर चूसने लगा था और बीच-बीच में कभी-कभी उनके बब्स को काट भी लेता था. और वह भी जोश में आ रही थी, और उसने भी मेरे कपड़े उतार दिए थे. और फिर वह मेरे लंड को हाथ में पकड़कर के सहलाने लगी।

और बोलने लगी कि मैंने कभी इतना बड़ा लंड नहीं देखा है. तुम्हारे बॉस तो ठीक से मेरी चुदाई कर भी नहीं पाते है, इसलिये मैंने जब से तुमको देखा है तब से मैं तुमसे अपनी चुदाई करवाना चाहती थी. और फिर मैंने भी उनको पूरा ही नंगा कर दिया था. और हम दोनों ही 69 की पोज़िशन में आ गये थे. दोस्तों उनकी चूत का टेस्ट मुझको बहुत ही कमाल का लग रहा था, और वह भी मेरे लंड को बड़े ही प्यार से चूस रही थी. और फिर करीब 10-15 मिनट के बाद उसने मुझसे कहा कि, अब मुझसे और नहीं रहा जाता. तो फिर मैंने उनकी दोनों टाँगों के बीच में बैठकर, उनकी चूत के मुहँ पर अपना लंड रखा और 5 मिनट तक उनकी चूत को अपने लंड से सहलाने के बाद एक ज़ोर का शॉट मारा तो मेरा आधा लंड उनकी चूत में चला गया था. और वह चिल्लाने लगी और मुझसे कहने लगी कि थोड़ा धीरे-धीरे करो मेरी चूत में बहुत दर्द हो रहा है. और फिर मैं थोड़ी देर तक धीरे-धीरे शॉट मारने लगा और साथ ही उनके बब्स को भी दबाने लगा था।

और फिर अब तो उनको भी मज़ा आने लगा तो वह भी ऊपर-नीचे होने लगी थी तो मैं समझ गया था कि, वह अब चुदाई के पूरे मूड में आ चुकी है. तो फिर मैंने फिर से जोर-ज़ोर से शॉट मारे तो मेरा पूरा 6.5” का लंड उनकी चूत में चला गया था. और फिर वह आहहह… इसस्स्… उहहह… करके सिसकियाँ लेने लग गई थी. और साथ ही नीचे से अपनी कमर को उछाल-उछालकर अपनी चुदाई करवाने लग गई थी. और फिर करीब 15-20 मिनट के बाद मैं नीचे आया और उसने मेरे ऊपर आकर अपनी चूत में मेरा लंड लिया. और वह मेरे लंड के ऊपर उछलने लगी, और मैं भी उनके बब्स को बड़े ही मज़े के साथ दबाने लगा।

और फिर करीब 10-15 मिनट के बाद जब वह थक गई तो फिर मैंने उनको डॉगी पोज़िशन में किया और पीछे से उनकी चूत में अपना लंड डालने लगा, और फिर ज़ोर-ज़ोर से धक्के मारने लगा, और जिससे वह ज़ोर-ज़ोर से आहें भरने लगी और उस पूरे कमरे में उनकी आहों की आवाज़ गूँज रही थी. और मैं ज़ोर-ज़ोर से उनको चोदता जा रहा था।

और फिर करीब 15-20 मिनट की चुदाई के बाद वह 2 बार झड़ चुकी थी. और फिर मैंने उनको कहा कि अब मेरा भी निकलने वाला है, तो फिर उसने मुझसे कहा कि मेरी चूत के अन्दर ही डाल दो, तो फिर मैंने और भी ज़ोर लगाया और फिर मैंने अपना सारा माल उनकी चूत में ही छोड़ दिया था. और फिर मैं भी ज़ोर से आहें भरते हुए झड़ने लगा।

और फिर थोड़ी देर तक उनके ऊपर ही लेटे रहने के बाद उनके बगल में लेट गया. और फिर वह मेरे ऊपर आकर मुझको किस करने लगी. और फिर उसने मेरे लंड को चूस-चूसकर अच्छी तरह से साफ कर दिया था. और फिर मैं अपने कपड़े पहनकर और उनको एक किस करके अपने घर पर आ गया था।

और फिर तो मैं उनका दीवाना ही हो गया था, और फिर तो जब भी हमको मौका मिलता था तो हम दोनों ही खूब मज़े करते थे।

धन्यवाद कामलीला के प्यारे पाठकों !!