नई साली को जीजा ने पुराना कर डाला

हाय फ्रेंड्स, मेरा नाम विनोद है Antarvasna मेरी उम्र 27 साल की है, और मैं जमशेदपुर का रहने वाला हूँ. दोस्तों मैं यहाँ पर एक स्टील प्लांट में ऑपरेटर का काम करता हूँ. कामलीला डॉट कॉम पर मैंने काफ़ी सेक्सी कहानियाँ पढ़ी है और मुझको वह सभी बहुत अच्छी भी लगी है, इसलिए मैं इस वेबसाइट का एक नियमित पाठक भी हूँ. और इन्ही कहानियों से प्रेरित होकर मैंने भी अपने साथ हुई एक सच्ची सेक्सी घटना को एक कहानी का रूप दिया है जिसको कि आज मैं आप सभी के सामने लेकर आया हूँ. उससे पहले मैं आप सभी को मेरे बारे में थोड़ा और बता दूँ कि, मैं शादीशुदा भी हूँ। दोस्तों आप ये कहानी कामलीला डॉट कॉम पर पढ़ रहे है।

दोस्तों यह बात एक साल पहले की है. मेरी एक बहुत ही खूबसूरत और सेक्सी सी 20 साल की एक साली है, जो मुझको बहुत पसन्द करती है और मैं भी उसको बहुत पसन्द करता हूँ. या आप यह कह सकते हैं कि मैं उससे प्यार करने लग गया था. दोस्तों मेरी शादी को 2 साल हो गए है और मैं उसको पहले दिन से ही प्यार करने लग गया था. लेकिन तब वह थोड़ी छोटी थी और मैं कभी उससे यह सब कहने की हिम्मत नहीं कर पाया था. क्योंकि मैं यह सोचता था कि, वह मेरे बारे में क्या सोचेगी और मेरी इज़्ज़त का क्या होगा और अगर उसने किसी को बोल दिया तो? लेकिन मेरे मन में उसको एकबार चोदने की बहुत इच्छा होती थी, क्योंकि वो बहुत ही कमाल की थी. और उसके पूरे जिस्म में एक अजीब सा आकर्षण है. और यही बात उसको मुझमें भी लगती थी और वह भी मेरे बारे में ऐसा ही सोचती थी। और अभी 1 साल पहले ही हम दोनों का इज़हारे मोहब्बत हो गया था. और फिर तो वह भी मुझसे बिल्कुल खुल गई थी. और वह मुझसे चुदवाने को भी एकदम तैयार हो गई थी. दोस्तों पहली बार मैंने उसको इस तरह से गरम कर दिया था कि, वो मेरे लंड को अपनी चूत में डलवाने को तड़प उठी थी. लेकिन मैं उस समय सही मौका नहीं होने की वजह से उसको चोद नहीं पाया था. क्या टाइट चूत थी उसकी मेरी ऊँगली भी उसमें बड़ी मुश्किल से जा रही थी. मेरे लंड की साइज़ 7” का है जिसको देखकर वह भी मस्त हो गई थी।

और फिर मैंने उसको कंप्यूटर पर एक सीडी दिखाई तब वो उस सीडी को देखकर सब समझ गई थी और फिर वह भी वैसे ही करने को तैयार भी हो गई थी, लेकिन इतने दिनों से सही मौका ही नहीं मिल पा रहा था. लेकिन उस दिन उसके घर पर हम दोनों अकेले ही थे. और हम दोनों ने पहले ही सारा प्लान बना लिया था कि, उस दिन हम दोनों खूब मज़े लेंगे. और फिर प्लान के हिसाब से मैं उसके घर पर सबके सामने ही चला गया था और वहाँ जाने पर वो लोग मुझे रात में आने नहीं देते थे. लेकिन उस दिन उन लोगों ने मुझे वहीं पर रुकने को कहा क्योंकि, उन सबको उस दिन कहीं जाना था और मेरी साली घर पर अकेली ही रुक रही थी. तो फिर उन्होनें मुझको उसके पास वहीँ पर रोक दिया. और हम दोनों भी मन ही मन यही चाहते थे. और फिर वो लोग चले गये थे, और अब पूरे घर में हम दोनों अकेले ही थे।

और फिर मैंने मेरी साली को पीछे से अपनी बाँहों में ले लिया था और उसके 32 साइज़ के बब्स को ज़ोर से मसल दिया था. और फिर मैं उसके होठों को भी चूमने लगा तो वह पूरी की पूरी ही गरम होकर मुझसे बोली कि, “जीजू मेरी पैन्टी गीली हो गई है.” तो मैंने उससे कहा कि, “कितनी गीली हो गई और कितनी देर से गीली है.” तो फिर वह मुझसे बोली कि, “जीजू पैन्टी तो आपको देखकर ही गीली हो गई थी, बस आज अब और मत तड़पावो मुझे अपनी आज पूरी घरवाली बना दो.” तो फिर मैंने उससे पूछा कि, “कैसे बनोगी तुम मेरी पूरी घरवाली जानू?” तो फिर वह मुझसे बोली कि, “अपना लंड निकालकर मेरी चूत को फाड़ डालो और बना दो मुझे साली से घरवाली” तो फिर उसकी बात को सुनकर मेरा लंड पूरा ही खड़ा हो गया था. और फिर मैंने मेरी साली के बब्स को दबाया और मसला तो वह और भी ज़्यादा गरम हो गई थी. और फिर मैंने उसके सारे कपड़े निकालकर उसे बिल्कुल नंगा कर दिया था और फिर उसने भी मेरे सारे कपड़े निकालकर मुझे भी पूरा नंगा कर दिया था. और फिर मैंने उसके पूरे जिस्म पर खूब किस किये और सहलाया तो उसकी चूत से एकबार तो ऐसे ही पानी निकल गया था. और फिर वह मुझसे बोली कि, जीजू मेरा तो बिना चुदे ही काम हो गया है. तो फिर मैंने उससे कहा कि जानेमन, अभी तो मेरा लंड खड़ा हुआ है और तेरा काम तो अब होगा।

और फिर मैंने उसको मेरे लंड को चूसने को कहा. तो उसने कहा कि, जीजू मुझसे नहीं होगा. तो फिर मैंने उसकी चूत को चूसा और कहा कि, मैं भी तो चूस रहा हूँ ना, तो तुम भी तो चूसो ना. तो फिर वह भी मेरे लंड को मस्त तरीके से चूसने लगी और फिर उसने कहा कि, जीजू यह तो बहुत ही टेस्टी है, इसको चूसने में मुझको तो मज़ा ही आ गया. और वह फिर से गरम हो गई थी. और अब उससे रहा नहीं जा रहा था, और उसने मेरा लंड चूसकर मेरी भी हालत खराब कर दी थी. और फिर मैंने उसकी गांड के नीचे एक तकिया लगाया और थोड़ा सा तेल लेकर उसकी चूत और मेरे लंड पर लगाकर उसकी चूत पर अपने लंड को टिकाया तो वह तो एकदम से मस्त हो गई थी। दोस्तों आप ये कहानी कामलीला डॉट कॉम पर पढ़ रहे है।

और फिर मैंने धीरे से उसकी चूत में अपने लंड से एक धक्का लगाया तो वह एकदम से तड़प गई थी. और फिर वह मुझसे बोली कि, जीजू बहुत दर्द हो रहा है. तो फिर मैंने उससे कहा कि, जानेमन थोड़ा सा दर्द तो होगा ही, लेकिन फिर तो मज़ा ही मज़ा है. और फिर अब मैंने भी बिना देर किए ही मेरे लंड की एक और टक्कर उसकी चूत में मारी तो मेरा लंड आधा उसकी चूत में घुस गया था और वह दर्द के मारे चिल्ला पड़ी थी, और उसकी चूत में से खून भी निकल आया था. लेकिन मैं अभी तो उसको अपना पूरा लंड घुसाकर चोदना चाहता था. तो मैंने मेरे आधे लंड को थोड़ा सा बाहर निकाला और फिर वापस से अन्दर डाला और ऐसे एक दो बार और किया तो वह भी मस्त होने लग गई थी. और उसको मज़ा भी बहुत आने लगा तो मैंने फिर से एक जोरदार टक्कर उसकी चूत में मारी तो मेरा लंड अबकी बार तो पूरा ही घुस गया था. और फिर मैंने उसकी पूरी सील को तोड़कर खूब मस्त होकर चोदा था।

और फिर मैं अपने लंड से उसकी चूत में ज़ोर-ज़ोर से धक्के मारने लगा था. और फिर थोड़ी देर आहहह… उफ्फ्फ… करने के बाद उसको भी मज़ा आने लग गया था. और फिर अब तो वह भी अपनी गांड को उठा-उठाकर मेरे लंड के ऊपर धक्के देने लग गई थी. और फिर थोड़ी ही देर के बाद उसकी चूत को मैंने ढीला कर दिया था और फिर वह भी अब मेरे लंड के साथ सेट हो गई थी. दोस्तों मुझे उसकी टाइट चूत में लंड पेलने में बहुत ही मज़ा आ रहा था और वह भी मेरे लंड को अपनी चूत में आराम से ले रही थी और कह रही थी की जीजू आज तो तुमने मुझे जन्नत दिखा दी।

और फिर करीब 30 मिनट तक उसको मैंने अलग-अलग पोजीशन में जमकर चोदा था. और इस बीच वह भी दो बार और झड़ गई थी. लेकिग मैंने उसको पूरी रात में लगभग 4-5 बार चोदा था जिससे वह अब मेरे लंड की इतनी दीवानी हो गई है कि, अब तो मुझको जब भी मौका मिलता है तो मैं उसको जमकर चोदता हूँ और वह भी पूरे मजे के साथ मुझसे चुदती है।

धन्यवाद कामलीला के प्यारे पाठकों !!