भाभी की बड़ी बहिन की चुदाई करी

हाय फ्रेंड्स, मेरा नाम राज Antarvasna है और मैं नासिक का रहने वाला हूँ. आप सभी मुझको बहुत ही अच्छी तरह से जानते है, मैंने इससे पहले भी कामलीला डॉट कॉम पर और भी कहानियाँ भेजी है. और आज भी मैं आप सभी के लिए मेरे साथ घटी एक और सेक्सी घटना को कहानी का रूप देकर लाया हूँ।

दोस्तों आज से 2 महीने पहले मैं एक शादी में गया हुआ था. वह मेरे एक दोस्त की शादी थी वहाँ पर बहुत सारे लोग आए हुए थे. मैं उस शादी में 2-3 दिन पहले ही चला गया था क्योंकि वह मेरे बहुत ही ख़ास दोस्त की शादी थी. दोस्तों वह शादी एक बहुत बड़े होटल में थी. शादी में बहुत सारे प्रोग्राम होते है तो ऐसे ही एक दिन महिला संगीत के प्रोग्राम वाले दिन सभी लोग तैयार होकर नीचे होटल के गार्डन में आ रहे थे और मैं भी अपने कमरे से तैयार होकर आ रहा था कि, एक औरत अचानक से गिर गई थी और किस्मत से मैं भी उसके पास ही में था, तो फिर मैंने उनको उठाया और पूछा कि, आपको कही पर चोट तो नहीं लगी ना? तो उन्होनें बताया कि, उसकी कमर में काफ़ी दर्द हो रहा था।

फिर मैंने उनसे पूछा आपका कमरा नम्बर क्या है? तो फिर उन्होनें बताया कि, मेरा कमरा नम्बर 217 है. और फिर मैंने लिफ्ट से अपने कंधे का सहारा देते हुए उनको उनके कमरे में पहुँचाया. दोस्तों उस औरत की उम्र लगभग 30-32 के आस-पास की लग रही थी. और उसके बब्स 34” के थे और उसकी गांड का उभार 36” का था और कमर भी 30” के आस-पास थी और उसका रंग एकदम गोरा था और वह बहुत ही खूबसूरत लग रही थी. और फिर मैंने उनको उनके कमरे में ले जाकर बेड पर लेटा दिया था. और फिर मैंने उनको बोला कि, आप आराम करो और मैं अब जाता हूँ. और फिर मुझको पता लगा कि, वह तो मेरे दोस्त के बड़े भाई की पत्नी की बड़ी बहिन थी. तो फिर उन्होनें मुझसे कहा कि, मेरी कमर में बहुत दर्द हो रहा है, प्लीज़… आप थोड़ा मेरी कमर को दबा दो. तो फिर मैंने उनको कहा कि, हम दोनों इस कमरे में अकेले है कोई आ जाएगा तो वह कुछ गलत समझ लेगा. तो फिर उन्होनें मुझसे कहा कि, तुम गेट बन्द कर दो और फिर उन्होनें कहा कि, मेरे बैग में मूव क्रीम की ट्यूब रखी है तुम उससे मेरी कमर की मालिश कर दो. फिर मैंने उनका बैग खोला और मूव क्रीम निकालकर उनके बगल में बैठ गया था. और फिर वह बेड पर उल्टा लेट गई थी और मुझको उनकी पूरी पीठ साफ़ दिखाई दे रही थी. और फिर मैंने उनकी मालिश चालू कर दी थी. तो फिर उन्होनें मुझसे कहा कि, थोड़ा नीचे मालिश करो. तो मैंने उनसे कहा कि, भाभी आपकी साड़ी को थोड़ा नीचे करना पड़ेगा, मुझको मालिश करने में दिक्कत हो रही है. तो उन्होनें मुझसे कहा कि, तुम मेरी साड़ी को उतार दो. तो फिर मैंने वैसा ही किया और फिर अब वह मेरे सामने पेटीकोट और ब्लाउज में लेटी हुई थी।

और फिर भाभी ने ही उनके पेटीकोट का नाडा भी ढीला कर दिया था. दोस्तों उनके पेटीकोट के ढीला होते ही मुझको पता चला कि, भाभी ने उसके नीचे पैन्टी नहीं पहनी हुई थी तो फिर उनके पूरे गोरे-गोरे उभरे हुए कूल्हे मेरी आँखों के सामने आ गए थे और फिर मैं धीरे-धीरे उनको सहला रहा था और मेरा लंड भी अब खड़ा हो गया था 15-20 मिनट तक मालिश करने के बाद उन्होनें मुझसे कहा कि, मेरी पीठ के ऊपर वाले हिस्से में भी थोड़ी मालिश कर दो तुम मालिश बहुत अच्छा करते हो. दोस्तों शायद वह अब गरम हो रही थी. और फिर भाभी ने उनका ब्लाउज भी खोला दिया था और अब वह मेरे सामने खाली ब्रा में ही थी और उनका पेटीकोट भी उनके घुटनों तक ही था. और जब मैं उनकी मालिश कर रहा था तो बार-बार उनकी ब्रा की हुक वाली पट्टी बीच में आ रही थी. तो फिर उन्होनें मुझसे कहा कि, तुम मेरी ब्रा के हुक को खोल दो, तो फिर मैंने उनकी ब्रा का हुक भी खोल दिया था. और अब तो मुझसे भी सब्र नहीं हो रहा था, तो मैंने अपना लंड भी चेन खोलकर बाहर निकाल लिया था. और अब एक हाथ से मैं अपने लंड को भी सहला रहा था और दूसरे हाथ से भाभी की मालिश कर रहा था. और तभी उन्होनें उठकर अपनी ब्रा को उतार के नीचे गिरा दिया था और फिर उनके नंगे बब्स मेरे सामने आ गए थे. दोस्तों कसम से क्या मस्त बब्स थे उनके और उनकी निप्पल का तो कोई जवाब ही नहीं था. वह एकदम खड़े हो गए थे. और फिर उन्होनें अपने पेटीकोट को भी हटा दिया था और अब वह मेरे सामने सीधा होकर लेट गई थी।

और फिर उन्होनें मेरे लंड को भी देख लिया था जिसको मैंने छुपाने की बहुत कोशिश करी थी लेकिन उन्होनें फिर भी उसको देख ही लिया था. और फिर उन्होनें मेरे लंड को अपने हाथ में लेकर सहलाना शुरू किया तो फिर तो क्या था. उन्होनें मुझसे कहा कि, तुमने पहले कभी सेक्स किया है? तो मैंने उनसे कहा कि हाँ, 3 बार किया है. तो फिर उन्होनें मेरे ऐसा कहते ही मुझको अपने ऊपर खीँच लिया था और फिर वह मुझको किस करने लग गई थी और पागलों की तरह किस कर रही थी. और फिर भाभी ने उठकर मेरे सारे कपड़े उतार दिए थे और फिर भाभी की बड़ी बहिन मेरे लंड को चूसने लगी और वह लगभग 15 मिनट तक मेरे लंड को चूसती रही. और फिर जब मेरा पानी निकलने वाला था तो मैंने उनसे कहा कि मेरा अब निकलने वाला है तो वह मेरे लंड को और ज़ोर से चूसने लग गई थी।

और फिर वह मेरा सारा माल पी गई थी. और फिर मैंने थोड़ी देर तक उनके बब्स दबाए और उनकी चूत में ऊँगली करी तो भाभी की बहिन की चूत भी अब गीली हो चुकी थी. तो फिर हम दोनों ही अब 69 की पोज़िशन में आ गये थे और 15 मिनट तक एक-दूसरे के अंगों को चूसते रहे. और तब उन्होनें मुझसे कहा कि, अब और बर्दाशत नहीं होता, अब तो मेरी चूत में अपना लंड घुसा ही दो. और फिर मैंने थोड़ी देर तक उनको और तरसाया और फिर उसके बाद मैंने उनकी चुदाई चालू कर दी थी और फिर मैं उनको करीब 25-30 मिनट तक अलग-अलग पोजीशन में चोदता रहा, और वह इस बीच 3 बार झड़ चुकी थी और जोर-जोर से चिल्ला भी रही थी ऊहहह… आहहह… और फिर मेरा भी अब दूसरीबार निकलने वाला था तो मैंने उनको पूछा कि, भाभी मैं अब कहाँ पर निकालूँ? तो उन्होंने मुझसे कहा कि, मेरे मुहँ में ही निकाल दो. और फिर वह किसी भूखी शेरनी की तरह मेरे लंड को अपने मुहँ में लेकर जोर-जोर से चूसने लग गई थी. और फिर मैं उनके मुहँ में ही झड़ गया था. और वह मेरा सारा माल गटक गई थी. और फिर उन्होंने मुझसे मेरा फ़ोन नम्बर लिया और बोला कि, जब कभी भी मुझको टाइम मिलेगा मैं तुमको फ़ोन कर दूँगी और तुम आ जाना और उसने यह भी कहा कि, इतना मज़ा तो मेरे पति ने भी मुझे कभी नहीं दिया जितना मज़ा तुमने मुझे आज दिया है और फिर उसने मुझको आई.लव.यू. कहा और फिर हम लोग शादी से निपटकर वापस अपने-अपने घर आ गए थे. और उसके बाद उन भाभी ने मुझको 2-3 बार फ़ोन करके बुलाया भी सही और हमने कभी होटल में तो कभी उनके घर में खूब जमकर चुदाई करी थी और वह आज तक भी चालू है।

धन्यवाद कामलीला के प्यारे पाठकों !!