नैना की चूत का दीवाना हुआ

हैल्लो दोस्तों, कैसे Antarvasna हो? मेरा नाम बंटी है और मेरी उम्र 24 साल है, दिखने में मैं ठीक-ठाक हूँ और किसी भी आंटी, भाभी और लड़की को सेक्स में पूरी तरह संतुष्ट कर सकता हूँ बाकी के लोगों की तरह मैं नहीं बताऊंगा कि मेरा लंड 9-10 इंच जितना बड़ा है लेकिन उतना है कि जिससे हर कोई भी संतुष्ट हो सकता है मैं नागपुर का रहने वाला हूँ और कामलीला वेबसाइट पर यह मेरी पहली सेक्स कहानी है इसमें अगर कोई गलती हो जाए तो मुझे अभी नया समझकर माफ़ कर देना मेरे प्यारे दोस्तों

तो दोस्तों मेरी कहानी को पढ़ते रहो और सेक्स के सागर में गोते लगाते रहो

आज की कहानी कामलीला पर कुछ इस प्रकार है …

अब आपको ज़्यादा बोर ना करते हुए मैं सीधा कहानी पर पर आता हूँ लड़को से विनती है की वह अपने लंड को संभाल कर रखे और भाभियाँ और लड़कियां अपनी चूत को क्योंकि यह कहानी पढकर पानी तो दोनों का ही जरूर निकल जाएगा आज की कहानी की हिरोइन का नाम नैना है और वह वडोदरा की रहने वाली है उससे मैं फ़ेसबुक के माध्यम से मिला था और वह 22 साल की एक बहुत ही खूबसूरत लड़की है दोस्तों दिखने में वह एकदम पटाखा आइटम थी 36-28-36 का उसका फिगर था जो कि बहुत ही कातिलाना था और जिस राह से भी वह गुज़रती थी वहाँ पर जवान लड़कों को तो छोड़ो बूढ़े आदमी भी अपना लंड भी खड़ा किये रहते थे उसको देखकर कर

मैं घंटों तक देर रात को अपने फ़ोन पर नैना से फेसबुक पर बातें करता रहता था हम अब रोज एक दूसरे के साथ बातें करने लग गये थे ज़्यादा समय एकदूसरे के साथ बिताने लग गये थे हम एक दूसरे के साथ बहुत घुल मिल गये थे

एक दिन मैनें उससे पूछा कि तुम्हारा कोई बॉयफ्रेंड है क्या? तो उसने उस सवाल का कोई जवाब नहीं दिया लेकिन मेरे ज्यादा ज़ोर देने के बाद उसने बताया कि उसका एक बॉयफ्रेंड था लेकिन अब उसके साथ उसका रिश्ता खत्म हो गया था फिर उसने भी मुझसे पूछा कि तुम्हारी भी कोई गर्लफ्रेंड है क्या? तो फिर मैनें भी जवाब में कहा कि नहीं और फिर हम दोनों एक दूसरे को गुड नाइट बोलकर सो गये

वेलेंटाइन-डे नज़दीक आ रहा था तो मैनें उससे बोला कि मुझे तुमसे मिलना है तो वह भी मुझसे मिलने के लिये बेकरार थी तो उसने हाँ कह दिया फिर मैं उसके शहर में उससे मिलने के लिये गया और हम एक कॉफी शॉप पर मिले और घूमे और वहाँ से वापस आते समय मैनें उसको अपने दिल की बात बता दी लेकिन उसने कोई जवाब नहीं दिया और सिर्फ इतना ही कहा कि बाद में बताऊँगी और अपना फ़ोन नंबर मुझे देकर वहाँ से चली गई

रात को मैनें उसे फेसबुक पर मैसेज किया

मैं :- हाय

नैना -: हाय

मैं –: मुझे मेरे सवाल का जवाब अभी तक नहीं मिला है

नैना -: देती हूँ ना बाबा इतनी भी क्या जल्दी है

मैं -: मैं तुमको सच्चा वाला प्यार करता हूँ मेरी जान आई.लव.यू. सो मच नैना

फिर नैना थोड़ी देर तक चुप रहकर सोचने लगी तब तक मेरी धडकने ऊपर-नीचे हो रही थी जब तक उसका कोई जवाब नहीं आया था और फिर उसका जवाब आया जिसे सुनकर तो मैं पागल सा हो गया था

नैना -: आई… आई… आई.लव.यू. टू मच बंटी

उसका जवाब सुनकर मैं बहुत खुश हो गया अब हम हर रोज रात को बातें करने लगे धीरे-धीरे हमारी बातें सेक्स चेट में बदलने लगी

फिर एक रात हम ऐसे बातें कर रहे थे

मैं -: हाय

नैना -: हाय

मैं -: क्या कर रही हो जान

नैना -: बेड पर लेटी हुई हूँ और खुद को थोड़ा बैचेन सा महसूस कर रही हूँ

मैं :- ऐसा क्यों ?

नैना :- तुम्हारी बहुत याद आ रही है जान

मैं :- याद तो मुझे भी तुम्हारी बहुत आ रही है मेरी जान पर हम कर ही क्या सकते हैं ? तुम वहाँ हो और मैं यहाँ हूँ चलो छोड़ो और कुछ बात करते हैं तो बताओ

मैं – तुमने अभी क्या पहना हुआ है?

नैना -: गाउन पहना है पर इसमें मुझे तो बहुत ठंड लग रही है और तुमने

मैं :– शॉर्ट पहना है और तुम्हारे फिगर का साइज़ क्या है?

नैना -: 36-28-36

मैं -: बहुत अच्छे से ख्याल रखती हो अपने फिगर का तो तुम

नैना – हाँ जान तुम्हारे लिए ही तो है

उसके मुहँ से यह बात सुनकर अब मुज़से रहा नहीं जा रहा था मुझे तो बस अब उसको अपना बनाना था तो मैनें मौका देखकर एक दिन नैना को अपने घर बुला लिया, वह अपने घर में अपनी एक सहेली की शादी में जाने का बहाना करके आई थी घर आने के बाद मैं उसको अपने कमरे में ले गया और हम दोनों बेड पर बैठकर बातें करने लगे, एक दूसरे से चिपककर बैठे-बैठे हम बातें कर रहे थे और बीच-बीच में मैं उसके गाल पर किस भी कर लेता था और कभी अपना हाथ उसके कपड़ों के ऊपर से ही उसकी पीठ और जाँघों पर फेर रहा था, जो कि उसे भी पसंद आ रहा था इसलिये उसने भी मुझे ऐसा करने से नहीं रोका

मैं जानता था कि इससे आगे कुछ भी नहीं किया जा सकता था, तो मैनें उसको बोला कि एक किस दो ना, तो उसने एक प्यारी सी मुस्कान देते हुए अपना चेहरा नीचे झुका लिया, और कुछ बोला नहीं, फिर मैनें उसको बोला कि हम एक दूसरे से बहुत प्यार करते हैं ना, तो उसने बोला कि हाँ बहुत पर मुझे यह सब शादी से पहले करते हुए डर लगता है, तो फिर मैं चुप हो गया, मैं तो चुप हो गया पर मेरा लंड तो खड़ा ही रह गया था वह बैठ नहीं रहा था, तो मैनें सोचा कि इसको धीरे-धीरे ही उत्तेजित किया जाए तभी बात बनेगी शायद

थोड़ी देर बाद मैनें उसको गले से लगा लिया और धीरे-धीरे फिर से उसकी पीठ और पूरे शरीर पर हाथ फेरने लगा, क्यूंकी हल्का-हल्का ठंड का मौसम था तो ऐसा करने में उसको भी बड़ा मज़ा आ रहा था, ऐसा करते-करते मैनें अपना एक हाथ उसके पेट पर रख कर फेरने लगा

हाथ फेरते-फेरते वह मचली जिससे उसका टॉप थोड़ा ऊपर हो गया और मैनें धीरे से अपना हाथ उसके टॉप के अंदर डालकर फेरने लगा, थोड़ी ही देर में उसकी आँखों में सेक्स की खुमारी आने लगी तो मैं समझ गया कि यह पूरी तरह से मज़े ले रही है

फिर मैनें मौका देखकर उससे सेक्स के बारे में बात करना शुरू कर किया और पूछा की तुमको अच्छा तो लग रहा है ना जो मैं कर रहा हूँ अगर नहीं लग रहा तो मैं अपना हाथ हटा लेता हूँ और धीरे-धीरे अपना हाथ हटाने लगा तो उसने कुछ नहीं बोला बस मेरे हाथ पर अपना हाथ रख दिया जिसका मतलब मैं समझ गया कि उसे यह सब बहुत अच्छा लग रहा था

फिर मैनें उसके गालों पर बहुत सारे किस किये और फिर धीरे से टॉप के ऊपर से ही मैनें उसके बब्स पर हाथ लगाने की कोशिश की तो उसने मुझे रोक दिया और मुझे कसकर अपने गले से लगा लिया और मेरे कान में धीरे से बोला कि प्लीज़ ऐसा मत करो

मुझे एक बार तो बहुत गुस्सा तो आया पर मैं उससे प्यार करता था तो मैनें उसके चेहरे को ऊपर किया और उसके माथे पर किस करते हुए उसको सॉरी बोला और उसे फिर अपने गले से लगा लिया लेकिन दोस्तों क्या करूँ यह लंड है कि मान ही नहीं रहा था और मैनें सोचा कि एक बार फिर से कोशिश करता हूँ जब तक यह खुद हाँ नहीं करेगी

मैनें फिर से उसके टॉप के अंदर पेट पर हाथ फेरना शुरू किया और वह शांत होकर फिर से मज़े करने लगी और थोड़ी देर में उसने अपनी आँखे बंद कर ली, फिर मैनें उससे बोला कि आराम से लेट जाओ, और फिर हम दोनों एक दूसरे से चिपककर लेट गये

तभी अचानक वह मेरी तरफ अपनी पीठ करके लेट गई और खुद ने ही मेरा हाथ खींचकर अपने टॉप के अंदर अपने पेट पर रख लिया अब मैं उसके पीछे लेटा था और मेरा लंड उसकी गांड के ठीक बीच में लगा हुआ था

हम दोनों को इस पोजीशन में खूब मजा आ रहा था उसके पेट पर हाथ फेरते हुए मैनें धीरे से अपना हाथ कमर के ठीक नीचे उसकी जीन्स के अंदर डालने की कोशिश की लेकिन जीन्स बहुत टाइट होने की वजह से मेरा हाथ वहाँ फस गया जो कि पूरा अंदर नहीं जा पाया

नैना के चेहरे की तरफ देख कर मुझे ऐसा लगा कि वह सो रही है अगर मैनें अपना हाथ ज्यादा ज़ोर से घुसाने की कोशिश की तो कहीं वह उठ ना जाए और मैनें अपना हाथ बाहर निकाल लिया और फिर से उसके पेट पर ही फेरने लगा

मैनें सोचा कि दुबारा कोशिश करता हूँ इस बार जब मैनें कोशिश की तो मेरा हाथ सीधा अंदर चला गया और उसकी पैन्टी के ऊपर उसकी चूत पर जाकर रुक गया और मैं चौंक गया कि उसकी इतनी टाईट जीन्स में मेरा हाथ कैसे इतनी आसानी से चला गया फिर मैनें देखा तो उसकी जीन्स का बटन और चेन खुली हुई थी तो फिर मैं समझ गया कि यह सब नैना ने खुद ही खोले हैं और वह भी मज़े लेना चाहती है

फिर मैनें धीरे-धीरे पैन्टी के ऊपर से ही नैना की चूत को रगड़ना शुरू किया तो 10 मिनट के बाद ही उसकी पैन्टी बहुत गीली हो गई थी, फिर मैनें भी अपने लंड को पूरा उसकी गांड के पीछे चिपका लिया था और अपने एक हाथ से उसकी गीली चूत को सहला रहा था

उसने तभी मेरा हाथ पकड़ कर अपनी पैन्टी के अंदर सरका दिया और मैं तो जैसे जन्नत में पहुँच गया था मैनें अब यह महसूस किया कि उसकी चूत पर एक भी बाल नहीं था पूरी तरह से साफ़ थी एकदम मुलायम और मैं उसकी चूत के बीच में उंगली फेरने लगा जो कि पूरी तरह से गीली थी और उसकी साँसे भी बहुत तेज़ चल रही थी अब मैनें उसके पीछे लेटे-लेटे ही अपना दूसरा हाथ उसकी गर्दन के नीचे से निकालकर सामने की तरफ लाया और टॉप के ऊपर से ही उसके बब्स को धीरे-धीरे दबाने लगा

और उसका मुहँ अब अपनी तरफ करके मैनें उसके टॉप को उतार दिया और उसकी ब्रा को भी खोल दिया और उसके बब्स को अपने मुहँ में लेकर धीरे-धीरे उनपर अपनी जीभ फेरने लगा और कुछ देर बाद पूरे बब्स को ही अपने मुहँ में लेकर जोर-जोर से चूसने लगा जिससे वह अब और भी ज्यादा उत्तेजित हो गई थी

फिर मैनें अपनी एक उंगली उसकी चूत में डाल दी तो वह उछल पड़ी और अब मैं उसकी चूत में ऊँगली को अंदर बाहर करने लगा फिर एक ऊँगली और भी डाल दी अब ज़ोर ज़ोर से उसकी चूत को ऊँगली से चोदने लगा

अब वह लंड लेने के लिये मछली की तरह तड़पने लगी और कहने लगी अब तो डाल भी दो मुझे और मत तड़पाओ मेरी जान तो मैनें उससे पूछा कि क्या डाल दो ? तो वह शरमाते हुए बोली कि अपना लंड तो फिर मैनें जल्दी से हम दोनों के कपड़े उतारे और मैं फिर उसकी दोनों टांगों के बीच आया और अपना लंड उसकी चूत पर रखा और उसकी चूत को रगड़ने लगा तो वह उछल-उछलकर मेरे लंड को अपनी चूत के अंदर लेने की कोशिश कर रही थी

वह बुरी तरह से तड़प रही थी लंड लेने के लिए और मैनें फिर उससे पूछा कि डाल दूँ तो उसने तुरंत हाँ कहा और मैनें फिर उसकी चूत पर निशाना लगाया और लंड सीधा अंदर तक डाल दिया लंड उसकी चूत के अंदर जाते ही उसके मुहँ से एक बहुत जोर की चीख निकली तो मैनें उसके होठों पर अपने होंठ रखकर उसकी आवाज को बंद किया और उसे किस करना शुरू कर दिया फिर वह थोड़ी शांत हुई तो उसने अपने दोनों पैर मेरी पीठ के पीछे मोड़ लिए और मुझे जोर से अपने गले लगाकर किस करने लगी अब मैं धीरे-धीरे उसको चोद रहा था और वह भी अपनी आँखे बंद करके मज़े ले रही थी अपनी चुदाई का

अब मैं धीरे-धीरे अपनी स्पीड को बढ़ा रहा था और वह भी उतनी ही स्पीड से ऊह्ह-आह्ह कर रही थी फिर अचानक से मैनें तुरंत उसे पलटा और अपने लंड पर बैठा लिया और नीचे से उसको चोदने लगा वो भी उछल-उछल कर चुद रही थी और कहे जा रही थी ओह यस बेबी और तेज-और तेज करो फाड़ दो मेरी इस चूत को इसने मुझे बहुत तडपाया है आह्ह्हह ओह्ह्ह यस जान फक मी…

फिर करीब 10 -15 मिनट के बाद मेरा वीर्य निकलने वाला था तो मैनें उसे फिर नीचे किया और ज़ोर-ज़ोर से चोदने लगा तब उसका भी कामरस निकलने वाला था बहुत ज़ोर-ज़ोर से वो चीख रही थी फिर अचानक से मेरा पानी निकल गया और वो भी मेरे साथ ही झड़ गई और एक अनोखे सुख का एहसास हुआ था उस दिन हम दोनों को और फिर हम दोनों एक-दूसरे कि बाँहों में लगभग 30 मिनट तक ऐसे ही लिपटकर सोते रहे

फिर थोड़ी देर तक हम दोनों नें आराम किया फिर थोड़ी ही देर बाद मेरे लंड में हरकत होने लगी अब मैं उसके बोब्स को फिर से सहलाने लगा और वह मेरे लंड को धीरे-धीरे मसलने लगी कुछ ही देर में मेरा लंड पूरी तरह से अपनी औकात में आ गया अब हम दोनों 69 की पोजीशन में आ गये वह मेरे लंड को अपने मुहँ में लेकर चूसने लगी और मैं भी अपने मुहँ से उसकी चूत को चाटने लगा और उसकी गांड के छेद पर भी थूक लगाकर उसमें ऊँगली घुसाने लगा उसकी गांड का छेद बहुत टाईट था मेरे ऊँगली घुसाते ही वह उछल पड़ी फिर मैनें धीरे-धीरे उसकी गांड के छेद को ऊँगली से चोद चोदकर खोल दिया

वह भी अब मेरे सर को अपनी टांगों के बीच में दबाने लगी थी और चुदने के लिये तडप रही थी फिर मैनें उसे घोड़ी बनाकर अपना लंड उसकी गांड के छेद पर सेट किया और एक जोरदार झटके के साथ अपना लंड उसकी गांड में आधा घुसा दिया उसके मुहँ से एक जोर की चीख निकली और वह मुझसे लंड बाहर निकालने को कहने लगी लेकिन मैनें उसकी बात को सुना नहीं और एक और तेज धक्के के साथ पूरा लंड उसकी गांड में उतार दिया और फिर थोड़ी देर वैसे ही रुका रहा फिर मैनें उसे चोदना शुरू कर दिया और अब वह भी मेरा साथ देने लग गई थी लगभग 20 मिनट की जबरदस्त चुदाई के बाद मैनें अपना पानी उसकी गांड में ही छोड़ दिया और उसके ऊपर ही लेट गया फिर जब मेरा लंड उसकी गांड में से सिकुडकर बाहर निकला तो देखा की उसकी गांड में से मेरा वीर्य और उसकी गांड फटने से निकला खून दोनों बाहर निकल रहे थे जब वह उठकर बाथरूम में जाने लगी तो दर्द के कारण उससे चला भी नहीं जा रहा था तो मैं उसको अपनी गोद में उठाकर बाथरूम तक ले गया और वहाँ से वापस आकर मैनें उसे दर्द की गोली लाकर दी और उसके होठों पर एक जोरदार किस दिया और कहा जान आई. लव. यू….

चुदाई का यह सिलसिला एक बार फिर से चल पड़ा मैनें उसे उस दिन 2 बार और चोदा उसे खूब किस किया जब तक जी नहीं भरा

धन्यवाद कामलीला के प्यारे पाठकों !!