ऑटो में मिली हसीना की चूत का निकाला

हाय फ्रेंड्स, मैं Antarvasna सुरक्षा की द्रष्टि से आपको अपना परिचय नहीं दूँगा, और मैं आप सभी से केवल इतना ही कहूँगा कि, मैं भी आप सभी की तरह ही कामलीला डॉट कॉम का एक नियमित पाठक हूँ. दोस्तों मैं भी आज आप सभी को मेरे साथ घटी कुछ महीने पहले की घटना को एक कहानी के रूप में बता रहा हूँ।

दोस्तों ये अभी कुछ समय पहले कि ही बात है उस समय मेरी बाइक खराब हो गई थी, और मुझको जल्दी से कहीं जाना था तो मैंने अपने एक दोस्त को फोन करके अपनी बाइक खराब होने की बात कही और उससे यह भी कहा कि, तुम मेरी बाइक को मेरे घर पर छोड़ देना. और फिर मैं ऑटो से चला गया था. और फिर कुछ दूर चलने के बाद उस ऑटो मैं एक बहुत ही खूबसूरत सी भाभी भी बैठ गई थी, उसकी उम्र यही कोई 27-28 साल की होगी. और मैं भी उसके एकदम बगल में चिपककर बैठा हुआ था. उसकी टाँगें मेरी टाँगों से एकदम चिपकी हुई थी. और मैं मन ही मन में सोच रहा था कि, क्या मस्त टाँगे है इसकी यार। और वह भी अपनी टाँगों को बार-बार मेरी टाँगों से लगा रही थी. और फिर हमारे उतरने की जगह आते ही हम लोग उतर गये थे. और फिर मैं पैसे देकर बाजू में लगी पान की दुकान पर आकर मसाला खाने लग गया था. और तभी मैंने देखा कि, वह ऑटो वाला और वह भाभी आपस में झगड़ रहे थे. वह भाभी अपना पर्स लाना भूल गई थी, और वह उस ऑटो वाले से कह रही थी कि, मेरा घर यहीं पास में ही है, आप मेरे घर तक चलो मैं वहाँ पर आपके पैसे दे दे दूँगी. पर वह ऑटो वाला नहीं मान रहा था। और फिर मैंने उनके पास जाकर उस भाभी के भी पैसे ऑटो वाले को दे दिए थे. और फिर वह ऑटो वाला वहाँ से चला गया था।

और फिर उस भाभी ने मुझसे कहा कि, आप चलो मेरे घर पर, मैं आपको पैसे दे देती हूँ. पहले तो मैंने उनको मना किया कि, रहने दीजिए. लेकिन वह तो जैसे मुझको अपने घर ले जाने के लिए पागल सी हो रही थी. और फिर उसने मुझको बहुत कहा तो मैं उसके घर पर उसके साथ चला गया. घर पर जाकर उसने मुझको बैठाया और फिर वह मेरे लिए कुछ ठण्डा लाई. दोस्तों उस समय उसके घर पर कोई भी नहीं था, और फिर मैंने उससे पूछा कि, आप इस घर में अकेली ही रहती है, आपके पति कहाँ है?

और फिर वह मुझसे बोली कि, मेरे पति यहाँ पर नहीं है।

आपके पति क्या करते है?

वह बोली वह कनाडा में है और हम लोगों की शादी को अभी 5 साल ही हुए है, और शादी के 1 साल के बाद ही वह चले गये थे, अब उनका फोन ही आता है।

मैं :- ठीक है तो अब मैं चलता हूँ।

और फिर वह मुझसे बोली कि, अभी तो आप आए ही हो आप कुछ खाकर ही जाना। उसके बहुत कहने पर मैं रुक गया. और फिर उसके बाद वह मुझसे बोलकर अन्दर अपने कपड़े बदलने लग गई थी। जब वह कपड़े बदलकर के आई तो मैं उसे देखता ही रह गया, वह बहुत पतली सी एक नाईटी पहनकर आई थी, जिसमें से उसकी ब्रा और पैन्टी एकदम साफ दिख रही थी।

वह बोली क्या देख रहे हो आप? मैं तो एकदम से चौंक गया था. और फिर वह मुझसे बोली कि, अरे! आप तो शरमा गये.. किसी की जवानी को देखना कोई बुरी बात थोड़ी है। और फिर मैं उसका इरादा समझ गया था कि, लगता है इसकी चूत बहुत दीनों से चुदवाने के लिए मचल रही है। और फिर मैं उससे बोला कि, आप अपना घर मुझको दिखाओगी? और फिर उसने मुझको अपना घर दिखाया और फिर उसने मुझको अपने बेडरूम में जाकर बैठा दिया था. और फिर वह मुझसे बोली कि, आप कुछ और पीओगे? तो फिर मैं उससे बोला कि हाँ अगर है तो ले आओ। और फिर वह दो गिलास शराब लेकर आ गई थी और फिर हम लोग बैठकर पीने लगे, और फिर पीने के बाद मुझसे बिलकुल भी रहा नहीं गया था. वह मेरे सामने खड़ी होकर अलमारी में से कुछ निकाल रही थी और उसकी पैन्टी मुझको एकदम साफ दिखाई दे रही थी. और फिर मैंने उसको उसके पीछे से जाकर उसकी कमर से पकड़ लिया था। और फिर वह मुझसे बोली कि, अरे आप यह क्या कर रहे हो?

तो फिर मैं उससे बोला कि, आप किसी अनजाने को अपने घर पर बुलाकर उसके सामने ऐसे कपड़े पहनकर उसको दारू पीला रही हो. उसका मतलब मैं समझ नहीं पाऊँ इतना तो मैं भी पागल नहीं हूँ। और फिर वह भी मेरे मुहँ से यह सब सुनकर हँस पड़ी थी और फिर वह बोली कि, तो फिर अब देर किस बात की है, तो फिर आज तुम मेरी बरसों की प्यास को बुझा दो ना। और फिर उसके मुहँ से यह सुनते ही मैंने उसकी नाईटी को उतार दिया था. और अब वह मेरे सामने ब्रा और पैन्टी में ही थी. उसका बदन बहुत गोरा था. इतना गोरा की मैंने कभी इतना गोरा किसी और का देखा नहीं था। और फिर कुछ देर मैं मैंने उसकी ब्रा और पैन्टी को भी उतार दिया था और अब वह मेरे सामने बेड पर एकदम नंगी पड़ी थी, और फिर मैं अपनी जीभ से उसकी चूत को चाटने लगा. और वह मेरी इस हरकत से एकदम पागल सी होने लगी थी. और फिर वह मुझसे कहने लगी कि, आज तुम मेरी कस के चुदाई कर दो.. मेरी बरसो की प्यास को बुझा दो प्लीज़…

और फिर मैं उसको किस करने लगा. मेरी हरकतों से वह एकदम से मदहोश होकर पागल सी होने लगी थी. और फिर उसने मेरा लंड पकड़कर अपने मुहँ में डाल दिया था और फिर वह खूब मस्ती से मेरे लंड को चूसने लगी थी. और फिर उसके बाद मैंने अपने हाथ से उसकी चूत फैला दी और अपना लंड उसकी चूत में रखकर एक ज़ोरदार धक्का मारा. मेरा पूरा लंड उसकी चूत में समा गया था, और वह एकदम से चीख पड़ी और आहहह… ओहहह… मर गई उहहह… करने लगी. और फिर कुछ मिनट में उसे भी मज़ा आने लगा और वह आहहह… उफ्फ्फ… ओ यसस यसस इस्सस… करने लगी. अब मैंने उसकी ज़ोर-ज़ोर से चुदाई शुरू कर दी. उसकी चूत बहुत टाइट थी और उसकी चूत से हल्का सा खून भी निकलने लगा था लेकिन मैं चुदाई में एकदम मगन था. दोस्तों ये कहानी आप कामलीला डॉट कॉम पर पढ़ रहे है।

फिर वह बोली और कसके चोदो कसके. और मैं अपने पूरे दम से उसकी चूत की की चुदाई कर रहा था और वह मस्ती में आकर मादक आवाजें निकाल रही थी आहहह… इस्सस… उफ्फ्फ…. और फिर कुछ ही पलों में उसकी चूत से पानी निकलने लगा और ऐसा लग रहा था कि, कुछ नहीं तो वह पूरा दो साल के बाद चुदाई करवा रही हो. और फिर मैं समझ गया था कि, अब यह झड़ने वाली है तो फिर मैं उसे और कसके धक्के मार रहा था. और फिर वह समय भी आ गया जब हम दोनों ही एकसाथ झड़ गये थे. दोस्तों वह इतना तेज़ी से झड़ी थी कि, उसकी चूत का सारा रस उसके बिस्तर पर फ़ैल गया था. और फिर हम दोनों थककर लेट गये थे, और मैं कुछ देर तक उसके ऊपर ही निढ़ाल होकर पड़ा रहा और मैं अपने लंड के पानी की अंतिम बूँद तक को उसकी चूत में छोड़ रहा था और फिर अब वह भी एकदम शान्त हो गई थी।

और फिर मैंने उससे पूछा कि, क्या आपको मजा आया?

तो फिर वह मुझसे बोली कि, मेरी जान मैं तो इतनी मस्त चुदाई के लिए कब से तड़प रही थी. और फिर उसके बाद मैंने उसकी फिर से चुदाई करी थी और इसबार तो मैंने उसकी गांड भी मारी थी. और फिर यह सब होने के बाद मैं उसको किस करके अपने काम पर चला गया था. और जाते समय वह मुझसे बोली कि, कभी-कभी रात को भी आ जाया करो.. तो मेरी प्यास और भी अच्छे तरीके से बुझ जाया करेगी।

तो फिर मैंने हँसकर दिया उनको फिर आने का वादा कर दिया था. और मैं अभी भी कभी-कभी उसकी चुदाई करने जाता हूँ। और हम दोनों चुदाई के खूब मज़े लुटते है।

धन्यवाद कामलीला के प्यारे पाठकों !!