मामा की बेटी को चोदकर गांड फाड़ी

हैल्लो दोस्तों, Antarvasna मेरा नाम राहुल है और मेरी उम्र 26 साल है मैं हिमाचल प्रदेश का रहने वाला हूँ। मैं एक कॉलेज में अपनी तीसरे साल की पढ़ाई कर रहा हूँ। दोस्तों मैं आज आप सभी कामलीला डॉट कॉम के पढ़ने वालों के लिए अपनी ही एक सच्ची घटना लेकर आया हूँ और वैसे मैं भी आप सभी की तरह सेक्सी कहानियों को पढ़कर उनके मज़े लेता हूँ। मुझे ऐसा करने में बहुत मज़ा आता है। फिर एक बार मेरे भी मन में अपनी इस कहानी को लिखकर आप तक पहुँचाने का विचार आ गया और मैंने उसको लिखना शुरू किया। यह कहानी मेरी और मेरे मामा की बेटी के बीच हुई उस पहली मज़ेदार चुदाई की घटना है, जिसमे मैंने उसको अपनी चुदाई से पूरी तरह से खुश करके संतुष्ट किया और उसने भी मेरा पूरा-पूरा साथ दिया और अब आप सभी को ज्यादा बोर ना करते हुए मैं सीधा अपनी कहानी पर आता हूँ।

हाँ तो दोस्तों बात उस समय की है जब मैं बड़े दिनों की छुट्टियों में अपने मामा के घर गया था मेरे मामा का परिवार बहुत बड़ा है वहाँ सब लोग एक साथ ही रहते है मामा का खुद का कारोबार है और साथ में उनका बेटा भी उनके काम में उनका हाथ बटाता है. और घर पर केवल मेरी मामी और उनकी 2 बेटियां सोनी और मोनी और नाना-नानी ही रह जाते थे सोनी की उम्र 20 साल और मोनी की उम्र 17 साल की थी मोनी की चूचियों का साइज़ सोनी की चूचियों के साइज़ से कम था सोनी का फिगर होगा करीब 34-28-36 का। बड़े-बड़े बब्स पतली कमर और मोटी गांड ये सब मैनें उसको जब नंगी देखा था तब पता चला था पर मैं उन दोनों को कभी ग़लत नज़र से नहीं देखता था एक दिन की बात है मामी और मोनी कुछ खरीददारी करने बाज़ार गये थे और सोनी को कह गये थे कि तुम राहुल का ख़याल रखना नाना-नानी नीचे सो रहे है सोनी अपने स्कूल के काम में लगी थी और मैं अकेला बोर हो रहा था तो मैं ऊपर वाले कमरे में चला गया कुछ गाने वगेरह सुनने तब सोनी भी ऊपर वाले कमरे में आई अपनी कुछ किताबें लेकर और मुझसे कुछ पूछने लगी। उस समय उसने हल्के रंग की सलवार कमीज़ पहन रखी थी और दरवाज़ा बंद करके मेरे पास पलंग पर बैठ गई और मैं उसको देखता ही रह गया क्या लग रही थी वह आज इतने करीब से मैनें उसको पहली बार देखा था इतने में वो बोली…

सोनी :- भैया मुझे कुछ पूछना है?

मैं :- हाँ पूछो

सोनी :- इसका उत्तर नहीं मिल रहा है?

कुछ दिखाते हुए वह किताब को पलंग पर रखकर आगे की ओर झुकी तो उसका कुर्ता ढीला होने के कारण उसकी मोटे-मोटे बब्स का उभार मुझे दिखने लगा था मैं देखता ही रह गया मुझे कुछ समझ नहीं आ रहा था मेरा मन तो चाह रहा था कि उनको पकड़ लूं और दबा दूँ. फिर वो मुझको हिलाते हुए बोली कि भैया मैं कुछ कह रही हूँ मैनें कहा की कल बता दूँगा आज सिर में दर्द हो रहा है तो उसने कहा कि लाओ मैं मालिश कर देती हूँ. मैनें मना किया तो वह ज़बरदस्ती मेरे सिर को दबाने लगी।

फिर मेरे दिमाग़ में एक तरकीब आई मैनें उसको कहा कि तुम सामने बैठकर पढ़ो और मैं आईने की तरफ पीठ करके बैठ गया और अपनी जेब में से मोबाईल निकालकर उसमें एक सेक्सी फिल्म चला दी और इस तरह बैठ गया कि पीछे से आईने में उसको दिख सके और मोबाईल की आवाज भी बंद कर दी थी फिर मैनें चुपके से सोनी की तरफ देखा तो वह आईने की तरफ ही देख रही थी. तभी सोनी बोली भैया मोबाइल में क्या कर रहे हो? मुझे भी दिखाओ वीडियो मैनें कहा तुम अभी छोटी हो यह बड़े लोग देखते है। तो सोनी कहने लगी कि मुझे दिख नहीं रहा क्या हो रहा है वीडियो में फिर पास आकर बैठ गई फिर मैनें मोबाईल की थोड़ी आवाज खोल दी और उसमे गांड मारने वाला सीन चला दिया वो कहने लगी कि भैया ऐसी वीडियो क्यों देखते हो मैनें कहा कि मज़े के लिए तो वो कहने लगी इसमें क्या मज़ा आता है उसमें तो लड़की रो रही है दर्द से और तुम्हें मजा आ रहा है. मैनें कहा नहीं पगली लड़की को भी जब मज़ा आता है तभी वो ऐसा करती है तो सोनी कहने लगी कि अब इसके बच्चा हो जाएगा मैनें कहा गांड मारने से बच्चा नहीं होता है।

तो वो मेरे पास आकर मेरे लंड को पकड़कर मुझसे कहने लगी कि फिर तो तुम मेरी भी गांड मारो भैया फिर मैनें उसको कहा कि ऐसे ही थोड़ी ना घुस जाता है पहले इसे गीला करना पड़ता है तो उसने पूछा कि इसको गीला कैसे करते हैं? मैनें उसको बताया कि इसको अपने मुहँ में लेकर आगे-पीछे करके अपने थूक से गीला करो फिर सोनी बोली नहीं छी मैं नहीं कर सकती वह तो गन्दा काम है फिर मेरे बहुत समझाने पर वह मान गई और मेरी पैंट की ज़िप खोलकर लंड बाहर निकाला और मुहँ में भर लिया दोस्तो कसम ख़ाके कहता हूँ क्या मज़ा आ रहा था और मैनें कहा रूको अभी पहले देख लो कोई है तो नहीं फिर वो बाहर गई और देखा सब सो रहे हैं फिर वह वापस कमरे में आई और दरवाजा अंदर से बंद कर दिया और मैनें उसे अपनी बाँहों में भरकर उसके होंठ अपने होठों में भरकर उसका कुर्ता उतार दिया और सलवार का नाडा भी खोलकर उसे भी नीचे गिरा दिया।

सोनी अब अपने घुटनों पर बैठकर मेरी पैंट नीचे करके मेरे लंड को पकड़कर अपने मुहँ में लेकर चूसने लगी थी तब तक मैनें उसकी ब्रा खोल दी थी आहह.. दोस्तों वह पूरा लंड अपने मुहँ में लेकर चूस रही थी मैनें उसको पकड़कर खड़ा किया और उसके होठों को चूसते हुए उसको पलंग पर लेटा दिया और उसकी दोनों चूचीयों को पकड़ लिया और उनको चूसने लगा और निप्पल को मुहँ में लेकर चूस रहा था और वह आह भैया चूसो आह उईईइ.. माआ.. मज़ा आ रहा है कह रही थी. मैनें नीचे आकर उसकी नाभि पर किस किया और अपनी जीभ उसमे डालकर उसको जीभ से चोदने लग गया था सोनी मेरे बालों में अपने हाथ घुमाते हुए आहह.. करे जा रही थी फिर मैनें थोड़ा नीचे आकर उसकी पैन्टी को फाड़ दिया और दोनों पैरों को फैलाकर उसकी चूत में एक उंगली डालकर अंदर-बाहर करने लगा और साथ-साथ चूसने भी लगा वो आहह.. हाँ भैया चूसो प्लीज़ आह आह आह हाए आह कर रही थी और फिर वह मेरे सर को तेजी से अपनी चूत पर दबाते हुए मेरे मुहँ में ही झड़ गई अब मैनें उसको कहा अब क्या करूं तो बोलने लगी चूत में लंड मत डालना. तो मैनें पूछा कि तो अब मेरा क्या होगा? तो वह बोली कि मेरी गांड में डाल लो मैनें कहा ठीक है। दोस्तों ये कहानी आप कामलीला डॉट कॉम पर पढ़ रहे है।

और फिर उसको पलंग से उठाकर नीचे जमीन पर उल्टा लेटाकर घोड़ी बनने को कहा और वह बन गई तब मैंने पीछे से आकर उसकी गांड के गुलाबी छेद को फैलाया और उसने कहा कि पलंग के बॉक्स में तेल है तो मैनें तेल निकालकर कुछ अपने लंड पर लगाया और बाकी उसकी गांड के छेद पर भी लगाया और गांड को फैलाने के लिए बोला उसने अपनी गांड दोनों हाथों से फैला दी तब मैनें अपने 7 इंच के लंड का अगला हिस्सा उसकी गुलाबी गांड पर टिका कर हल्क़ा सा दबाया लंड 2 इंच ही अंदर गया था कि वो ज़ोर से चीखी मरररर गईइई मैनें पीछे से हाथ आगे करके उनका मुहँ दबा दिया उसकी चीख दब गई। फिर मैनें थोड़ी देर रुकने के बाद जब वह नॉर्मल हो गई तब पीछे से एक हाथ से उसका मुहँ दबा दिया और दूसरे हाथ से उसकी चूची को भींचकर एक जोरदार झटका मारा तो मेरा पूरा लंड उसकी गांड में समा गया और थोड़ा खून निकल गया था और उसकी आँख से आँसू भी आ गये और ऐसे मैं हिला तक नहीं फिर उसने मेरा हाथ अपने हाथ से हटाकर बोली भैया चोदो अपनी बहन की गांड मारो मुझे रंडी बनाकर चोदो. तब मैनें धीरे-धीरे झटके मारते हुए अपनी स्पीड बड़ा दी मुझे जन्नत का मज़ा मिल रहा था एक-एक झटके में अलग ही एहसास था मैनें अपनी स्पीड और तेज कर दी और मेरे साथ सोनी भी अब अपनी गांड को आगे-पीछे करके चुदाई का पूरा मज़ा ले रही थी अब मैनें उसकी गांड में ही पूरा पानी निकाल दिया और उससे चिपककर सो गया और फिर कुछ देर बाद किसी के आने की आहट सुनकर हमने अपने कपड़े पहने और सोनी मुझे मेरे होठों पर किस करके इस चुदाई के लिये मुझे धन्यवाद देकर नीचे चली गई।

धन्यवाद कामलीला के प्यारे पाठकों !!