मैं बना मेरी बीवी का ग़ुलाम 2

हमारे ट्रैवलिंग एजेंट antarvasna ने हमारे लिए गाइड को बुला दिया | उसका नाम इरफ़ान था,उसकी बॉडी पूरी तरह फिट थी,हाइट 6 फ़ीट की होगी,दिखने में पूरी तरह मॉडल लग रहा था | उसने बड़े ही अदब से हमे सलाम किया | मैंने नोटिस किया उसको देख कर मेरी बीवी की आँखों में चमक आ गयी,मुझे भी इरफ़ान का शरीर देख कर उससे जलन महसूस होने लेगी | परन्तु मैं चुप रहा और हम अपने टूर के अनुसार जैसलमेर से निकल गए | मैं और इरफ़ान आगे बैठ गए जबकि मेरी बीवी बच्चे को लेकर पीछे बैठ गयी | तब तक मैं अपने ऊपर आने वाली मुश्किल से बिलकुल अनजान था,मैं मन ही मन नए सपने संजोये आगे बढ़ रहा था | इरफ़ान कार में बैठा बार बार पीछे शीशे से मेरी बीवी को निहार रहा था | मैं उसकी इस हरकत को लगातार नोटिस कर रहा था | मैं उसको रोकना चाहता था पर पता नहीं क्यों उसे रोक नहीं पा रहा था | मन ही मन मैं उसके गठीले बदन,रोबदार व्यक्तित्व से डर रहा था,मैं खुद को उसके सामने बहुत कमजोर महसूस कर रहा था,दब्बू बना बैठा मैं उसको अपनी बीवी को निहारता,ललचाई नजरो से देखता, देखकर न चाहते हुए भी बर्दाश्त कर रहा था | तभी वो हुआ जिसकी मैंने कल्पना भी नहीं की थी,शायद उसने भी मेरी बीवी की नजरो को ताड़ लिया था | तभी इरफ़ान बोला,साहब एक बात बोलू,बिना मेरा जवाब सुने उसने बोलना जारी रखा, साहब आपकी बीवी बहुत सूंदर है,बिलकुल फ़िल्मी हेरोइन के माफिक,क्यों सहाब क्या कहते हो,मैंने कुछ गलत तो नहीं बोला,मैं असहाय सा कुछ नहीं बोल पाया,बस अपना सर हिला दिया | तभी वो पीछे मुड़ा और मेरी बीवी को देख कर बोला,भाभी जी आप रियल में कमाल लग रही हो,क्या नाम है आपका भाभी जी,
शिल्पा,मेरी बीवी आगे से मुस्करा कर जवाब दिया और उसे थैंक्स बोली,
तभी एक और धमाका हुआ,इरफ़ान बोला साहब,सुंदर तो आप भी बहुत बिल्कुल लड़कियों की तरह,बहुत ही सुंदर कोमल सा बदन पाया है आपने,मैं सन्न रह गया,अभी कुछ बोल पता के मेरी बीवी के खिल खिला कर हंसने की आवाज आयी,मैं निरुत्तर हो गया,मैं अभी सोच ही रहा था की ,इरफ़ान की मुंह फिर खुला और बोला साहब आप हमारी भाभी को खुश तो कर देते हो या ये भी नहीं होता | मेरा बदन एकदम से तपने लगा पता नहीं मुझमें शक्ति किधर से आयी | मैं इरफ़ान की तरफ गुस्से से देखा और बोला,चुप रहो,बकवास करने की जरूरत नहीं है,दुबारा ऐसी हरकत की तो देख लेना |
तभी इरफ़ान जो अभी तक बहुत ही प्यार से बोल रहा था,एकदम से उसके तेवर बदल गए और मेरे गर्दन को पीछे से पकड़ते हुए बोला, मैं सब जानता हूँ तुम नामर्दो को,तुम लोग कुछ नहीं कर सकते,और मैंने इस रांड को भी कार में बैठते ही इसकी आँखों में प्यास देख ली थी,देख बे गांडू ज्यादा बोला तो यही नंगा करके तेरी गांड पहले मारुंगा,और इस रंडी को बाद में चोदुँगा,तभी इरफ़ान ने मेरे गाल पर जोर से एक थपड़ मारा मेरा एकदम से बीच में ही सुसु निकल गया,मैं बहुत डर गया था और साथ ही साथ खुद को शर्मिंदा महसूस कर रहा था | मैंने बेबस होकर पीछे अपनी बीवी की तरफ देखा वो मेरी आशा के विपरीत वो मंद मंद मुस्करा रही थी,मुझे कुछ भी समझ नहीं आ रहा था,तभी मेरी बीवी बोली,इरफ़ान जी छोड़ दो इसे,बहुत कमजोर से है बेचारे और हंसने लगी | अब तक चुप बैठी मेरी बीवी सीधा इरफ़ान जी पर आ गयी |इरफ़ान बोला तुम कहती जो मेरी शिल्पा रंडी तो इसे छोड़ देता हूँ | वो भी सीधा भाभी जी से शिल्पा रंडी पर आ गया, मैं उनकी बातें सुनकर हैरान रह गया | तभी मेरी बीवी मेरी तरफ देख कर बोली मेरे पतिदेव अगर कुछ कर नहीं सकते तो चुप रहा करो,सच ही तो कहा है इरफ़ान जी ने,जैसे एक मिनट में तेरा सुसु निकल गया वैसे ही तेरी छोटी सी लुल्ली इक मिनट में पानी छोड़ देती है,मैं बिल्कुल निरुतर हो गया,मेरे सरे सपने चकनाचूर हो रहे थे | इरफ़ान ने अब पीछे मेरी बीवी के साथ छेड़छाड़ करनी शुरू कर दी | इतने में इरफ़ान फिर बोला,ओये गांडू गाड़ी साइड पर लगा अब वो मुझे गांडू कह कर ही बुला रहा था | गाड़ी साइड पर लगा,मैं मेरी छमिया के साथ पीछे बैठुंगा | और फिर इरफ़ान पीछे वाली सीट पर बैठ गया,बेबी को उन्होंने उस से पीछे वाली सीट पर सुला दिया,मैं चुपचाप ड्राइवर की तरह गाड़ी ड्राइव करने लगा और पीछे वाली सीट पर इरफ़ान और मेरी बीवी का असली खेल शुरू हो गया |
कहानी जारी रहेगी,अगले पार्ट में