भाभी ने की हर ख्वाहिश पूरी – पार्ट ४

आगे… अगले दिन antarvasna भाभी को यह सरप्राइज़ मिला… और भाभी का रिएक्शन…

भाभी: ओ हीरो ये क्या है?
मैं: मज़े करो और कराओ और क्या…
भाभी: इसमें सिर्फ रस्सियां है… क्या है ये…?
मैं: मैं पहनाऊँ?
भाभी: शट अप…
मैं: कीर्ति एक काम करता हूँ मैं तुजे एक फ़ोटो भेजता हूँ तो पता चलेगा…
भाभी: ठीक है… तेरा भाई पूछेगा तो क्या बताउंगी?
मैं: बोल देना के मैंने दिए थे…
भाभी: तेरा भाई जान से मार देगा…
मैं: बोल देना आज आप के लिए एक नई डिश पेश करती हूँ…

उत्साह उत्साह में कुछ् ज्यादा ही बोल गया… भाभी ने नॉट किया और बोले…

भाभी: एक मिनिट तुजे क्यों इतनी सारी खबर है?
मैं: (मैंने बात को अच्छे से संभाला) क्यों ऐसा नहीं होता क्या? ऐसा तो होना ही चाहिए… एक मिनिट इस का मतलब आप के बिच ये होता है…
भाभी: धत्त… तुम भी ना…
मैं: (तब तक मैंने उनको मेसेज भेज दिया था की ये लिंगरी का करना क्या है) मेसेज चेक कर लेना…
भाभी: ठीक है…

भाभी अपने रूम में चली गई…. और मेसेज चेक किया और रिप्लाय आया।

भाभी: हाय दय्या। इसमें क्या पहनू?
मैं: मदद कर दू?
भाभी: शट अप। फिर वही बात?
मैं: इसमें पहनने जैसा है क्या? इसे सिर्फ लगाना बोलते है।
भाभी: वही तो… तुम तो जितना सोचे थे उससे भी ख़राब हो.. ऐसा ही सब करते हो क्या? फ़ैल का कारन अब पता चला…
मैं: चिल मार और ये सोच के भैया को खुश कैसे करना है…
भाभी: वो तुम मुज पे छोड़ दो…मैं एक्सपर्ट हु…
मैं: वाह वाह… वो तो होना ही चाहिए… एक औरत अगर एक मर्द को अगर खुश नहीं कर सकती तो वो औरत नहीं है…
भाभी: हा… अब बस ओके?
मैं: मैं कुछ् गलत लिखा क्या?
भाभी: हम भले ही फ्रेंड्स है पर एक रिश्ता भी है, छूट दी है तो इस नहीं है की कुछ भी करो…
मैं: भाभी चैट पर तो आप थोडा खुलके बात करो… चलो बोलो मैं क्या कुछ गलत बोला?
भाभी: ह्म्म्म ठीक है… हा तुम सच बोले, ज़माना कुछ भी बोले, पर औरत की इज़्ज़त तब तक ही है जब तक वो एक पुरुष के निचे दबी हुई है…
मैं: वाह…. ये हुई ना बात… मेरी भी यही सोच है…
भाभी: ह्म्म्म, एक पुरुष की तो होगी ही ना…
मैं: पर तब ही तो आपकी इतनी इज़्ज़त मिलती है… भैया भी इतनी इज़्ज़त करते है आपकी? यह सच नहीं?
भाभी: हा सच ही तो है…
मैं: ओके तो आज फिर एक बार तू भाई के निचे दब जाना और अच्छा सम्मान ले लेना, और हा कल रिव्यू ज़रूर देना…
भाभी: बदमाश… मैं तो हर रोज़ तेरे भाई निचे दब ही जाती हूँ ओके?
मैं: हा तो तुजसे शादी करने की एक वजह यह भी तो होगी की तू उसके निचे आये…
भाभी: मेरी भी तो सोच है?
मैं: अच्छा सच सच खुला बोल क्या कहना चाहती है? तू खुश नहीं है क्या?
भाभी: खुश तो मैं हूँ antarvasna मेरी सोच भी यही है… के कोई भी औरत हो… चाहे कितनी भी आगे निकल क्यों ना जाये… पर घर पे राज करना है तो कमरे मैं गुलाम बनके ही रहना चाहिये… कही घुटने अगर ना टिकाने हो तो रात को घुटने टेकने ही चाहिए… कहीं न झुकने वाली औरत को रात को पति जिस तरह झुकाए जुक जाना चाहिए… मर्द का पेट और पेंट अगर औरत ख्याल करती है तो मर्द लट्टू हो ही जाता है और उंगलियों पर नाचता ही है…
मैं: बस बस मेरे पेंट का ख्याल करने वाला कोई नहीं है.. शांत…
भाभी: क्यों बोल रहा था ना के चैट पर छुट लेनी है…
मैं: ओके पर बाद मैं मुकर मत जाना…
भाभी: डील
मैं: ठीक है… तो तेरे को पसन्द क्या सबसे ज्यादा? निचे सोना? घुटने पर बैठना या जुक जाना?
भाभी: ☺ जो भी तेरा भाई जब भी बोले
मैं: एक परफेक्ट औरत
भाभी: जरूर से..

भैया तब ही आ गए… और भाभी उनकी सेवा में लग गए… मैं अब रेकॉर्डिंग् नहीं करता था और आज कुछ नया था तो पूरा कमरा बंध था तो कुछ दिखाई नहीं दिया… दूसरे दिन

मैं: भाभी बहोत चमक रही हो…
भाभी: (हँसके) मेसेज में बात करेंगे…

ये तो पता चल गया था के भाभी अब मुझसे कंफरटेबल तो होती थी पर मेसेज में… ताकि नज़रे मिलाने न पड़े… खैर आगे…

भाभी: हाई…
मैं: हा तो जवाब दो…बहोत चमक रही हो…
भाभी: बर्तन घिस घिस कर ही उजले होते है…
मैं: हा हा हा हा क्या आप बर्तन हो?
भाभी: हा हा हा.. पर क्या बोलुं इससे आगे?
मैं: ठीक है… कैसा लगा भैया को?
भाभी: बहोत अच्छा। पागल हो गए थे कल… पूरी रात वही पहनाये रख्खे…
मैं: हा तो पहनने के लिए तो थे…
भाभी: हा… ओके तुम नहीं समजोगे…
मैं: मममम ओके ओके भाई ने सोने नही दिया था हम? क्या किस्मत है सके की…
भाभी: अच्छा सुन कल के लिए थेंक्स.. और तेरे भैया कह रहे थे के मुझे ऑनलाइन और शॉपिंग करनी चाहिये…
मैं: ह्म्म्म्म तो सीधा सीधा बोलो ना के आर्डर कर दूँ? मेरी चीज़ों को इस्तेमाल करके आप भैया को खुश करते है, और भैया आपको इस्तेमाल करके आपको खुश करते है… मेरा क्या?
भाभी: बच्चू तेरी भी शादी होगी टेंशन मत ले… और हा… इस्तमाल मतलब?
मैं: मतलब आप यूज़्ड हो…
भाभी: तो मैं क्या पुरानी हु?
मैं: अरे ओये… तू बुलवा मत मुझसे…
भाभी: बोल मुझे सुनना है…
मैं: ठीक है तेरी मर्जी… तू सील पैक नही है.. तू यूज़्ड है… औरत जितनी यूज़्ड बार बार होती है उतनी ही दमक बढ़ती जाती है… जितना ज्यादा यूज़्ड होती है उतनी ही और निखरती है… पोर्नस्टार देखे है ना?
भाभी: ह्म्म्म तो तू मुझे ये नज़र से भी देखता है?
मैं: हा। पर हम इससे आगे नहीं बढ़ेंगे बातचीत में जैसा तय हुआ था…

अब मैं यह चाहता था के नियम वो तोड़े…

भाभी: ठीक ही है…
मैं: मुझे सोच समज कर कोई गिफ्ट दे देना… मेहनताना है… मैं कल एक और लिंगरी ऑर्डर करूँगा तू बैठना मेरे साथ वही मेरा इनाम है…
भाभी: ओके डील….

दूसरे दिन भैया के जाने के बाद…

मैं: चल आजा… आज एक और चीज़ दिखाता हु जो देख कर भैया और खुश हो जाएंगे
भाभी: आई पांच मिनिट में

और अब हम साथ बैठ कर सर्च कर रहे थे… मेरा पेंट तो वैसे ही बड़ा होते जा रहा था लैपटॉप गोदी में होने की वजह से ऊपर निचे हो रहा था पर हम दोनों ने इग्नोर किया और एक मस्त लिंगरी फाइनल की जो पहले भाभी तैयार नही थी पर फिर मान गई… वो में पोस्ट करता हूँ