बहन को क्सक्सक्स दिखा के गांड मारी

सिखा के कमरे Antarvasna में आने से ठीक पहले मैंने अपने मोबाइल के अन्दर क्सक्सक्स क्लिप लगा के उसे पॉज कर दिया. और फिर मैं तोवेल ले के नहाने के बहाने से बाथरूम में घुस गया. मैं जानता था की वो आते ही मेरे मोबाइल में आँखे डालेगी. कितने दिनों से वो तो अपनी तरफ से मुझे पूरी लाइन दे रही थी. पर मैं था की बस वेट में था.

आज सही मौका हाथ में लगा था क्यूंकि आज घर पर मम्मी पापा नहीं थे. सिखा स्कर्ट और टॉप में थी और उसके मम्मे मैंने देखे तो मेरा लंड खड़ा हो गया. बाथरूम के दरवाजे को मैंने लोक नहीं किया था अन्दर से. और चिपके से अपनी बहन की हिलचाल के ऊपर मेरी बाज नजर थी. सिखा ने जैसे मैंने सोचा था वैसे अपने फोन उठाया.

जैसे ही उसने लोक की पेटर्न के ऊपर उंगलिया घुमाई उसके सामने वो देसी लंड और तमिल आंटी की चुदाई की क्सक्सक्स क्लिप आ गई. उसने इधर उधर देखा. और फिर मूवी को प्ले की. वो चुनी हुई ब्ल्यू फिल्म थी मेरी, जिसे देख के किसी के भी बदन की गर्मी उभर जाए. फिर मेरी बहाना क्या चीज थी. उसने जब उस क्लिप को देखा तो वो टॉप पर से ही अपने बूब्स दबाने लगी.

मेरे लंड के अंदर भी एकदम से उबाल आ चूका था. मैंने वही पड़े हुए साबुन को अपने लंड पर लगाया और हिलाने लगा. लेकिन मुझे अपने पानी नहीं निकालना था. मैं तो अपने लंड को बहन के लिए ही रेडी कर रहा था. फिर मैं एकदम से पूरा नंगा बहार आ गया. सिखा का एक हाथ उसके बूब्स पर था और मेरा लंड उसके सामने शैतान के जैसे खड़ा हुआ था!

बहन ने मेरे लंड को देखा तो वो अपनी क्सक्सक्स मूवी को भी भूल गई! उसका हाथ मुहं के ऊपर आ गया!

मैंने कहा: क्या कर रही हो?

वो बोली: वही जो तुम अधूरा छोड़ के गए थे.

मैंने हंस पड़ा. और मैंने उसे कहा, ब्ल्यू फिल्म्स नहीं देखते हे ऐसी हालत हो जाती हे.

ये कह के मैंने उसे अपना खड़ा लंड दिखाया. वो भी अपनी टॉप ऊपर कर के अपनी कड़ी हुई निपल्स को दबाते हुए बोली, यहाँ भी आग कम नहीं हे भाई!

उसके सेक्सी बूब्स को देख के मैं उसके पास चला गया. मैंने उसके बूब्स को हाथ में पकड़ के दबाया. उसकी चूची इतनी बड़ी थी की एक हाथ काफी नहीं था उसे पकड़ने के लिए. सिखा ने अपने हाथ से मेरे लंड को पकड़ा और उसे थोडा सा हिला दिया उसने. वो बोली: आप का तो कितना बड़ा हे भाई!

मैंने कहा, अब तो तेरा होने जा रहा हे ये.

सिखा ने अपनी स्कर्ट उतारी. मैंने कहा पेंटी मत खोलना वो मैं खोलूँगा.

उसने कहा ठीक हे.

मैं तो फुल न्यूड ही था. फिर वो अपने घुटनों के ऊपर बैठ गई. और उसने धीरे से मेरे लंड के ऊपर एक प्यार भरा चुम्मा दे दिया. मेरी सांस थम सी गई. आज पहली बार रंडी के सिवा कोई और औरत को मैंने अपना लंड जो मुहं में दिया था. जी हां दोस्तों मैं बहुत कम उम्र में ही रंडीबाजी भी करने लगा था.

लेकिन रंडी रंडी होती हे और उसकी चूत में वो गर्मी नहीं होती हे.

सिखा ने लंड को आधा मुहं में लिया और उसे मस्त सकिंग देने लगी. मैंने उसके माथे को पकड़ के दबा दिया अपने लंड के ऊपर ही और पुरे लंड को उसके मुहं में पेल दिया.

वो आहे भर रही थी और मेरे लंड के साथ साथ अंडे भी चाट रही थी. और रुक रुक के वो अपने हाथ से भी मेरे लंड को हिला देती थी. मैं सातवें आसमान के ऊपर था और वो भी मेरे साथ में ही थी.

कुछ देर लंड चुसाने के बाद मैंने उसे कहा, चलो बिस्तर में मेरी जान.

हम दोनों लेट गए और मैंने अपने होंठो से उसकी पेंटी के ऊपर से ही उसकी चूत के ऊपर एक चुम्मा दे दिया. उसकी गहरी और ठंडी सांस ने मुझे और मदहोश कर दिया. मैंने फिर उसकी दरार के ऊपर ऊँगली फेरी. उसकी चूत गीली हो चुकी थी.

मैंने पेंटी को धीरे से अपने होंठो से ही खोला. वाऊ क्या मस्त चूत थी मेरी प्यासी बहन की. एकदम गुलाबी और उसके ऊपर चूत का दाने की साइज़ एकदम बड़ी सी थी. मैं तो सिखा की पुसी को देख के ही कायल हो गया. सिखा की पेंटी को सूंघ के मैंने उसे फेंका. और फिर हम दोनों भाई बहन ने 69 पोजीशन बना ली.

वो मेरे लंड को चूसने लगी थी एक बार फिर से. और मैंने उसकी चूत की पंखड़ियों के ऊपर किस करते हुए अपनी जबान को अन्दर उतार दी. वो कराहते हुए लंड को चाट रही थी. मैंने अपने दोनों हाथ से उसकी चूचियां दबाई और वो अह्ह्ह आह कर के लोडा पूरा मुहं में डाल के उसका लोलीपोप करने लगी. एक मिनिट और उसने चूसा और मेरा पानी उसके अन्दर ही छुट गया. वो सब गटक गई.

उसकी चूत ने भी उतने में पानी छोड़ा. मैंने भी उसे चाट लिया.

लंड का पानी निकलने की वजह से मैं हल्का महसूस कर रहा था. सिखा भी शांत हो गई थी. मैंने उसे कहा, मूवी देखनी हे?

वो बोली, हां भाई.

मैंने फिर से वो क्सक्सक्स मूवी लगा दी और उसके पेट के ऊपर मोबाइल को रख दिया. हम दोनों साथ में मिल के उस ब्ल्यू फिल्म को डेक के फिर से गरम हो गए. मेरे सोये हुए लंड के अंदर फिर से जान आ गई. उसने अपने हाथ को मेरी जांघ के ऊपर रखा था और मैंने भी.

फिर वो मेरे लंड को पकड़ के हिलाने लगी और एकदम कडक कर दिया. मैंने भी उसकी चूत के ऊपर उंगलियाँ घुमा के उसे हॉट कर दिया.

उसकी चूत में एक ऊँगली डाली और वो बड़ी गर्म गरम थी. सिखा ने कहा, भाई आप चोदो अब मुझे.

मैंने कहा, ऐसे ही?

वो बोली, हां आप ने पहले तो इतनी गीली कर रखी हे इसको.

मैं उसके ऊपर आ गया. और अपने लंड को मैंने उसकी चूत के ऊपर लगा दिया. सच में उसकी चूत एकदम गीली थी और लंड बिना किसी परेशानी के अन्दर घुस जाए ऐसा था. मैंने एक धक्का दिया, सिखा के मुहं से अह्ह्ह्हह निकल गया.

मैंने उसके होंठो के ऊपर अपने होंठो को लोक कर दिया. वो तडप रही थी जैसे. इसलिए मैंने एक और धक्का दे के लंड को उसकी चूत में धकेल दिया. सिखा ने मुझे कस के अपने गले से लगा लिया. मेरा पूरा लंड अपनी बहन की चूत में था. मैंने उसको धक्के देने भी चालू कर दिए. वो भी मेरे से लिपट के मुझे पागलों के जैसे कंधे और होंठो के ऊपर चूम रही थी.

उसकी चूत एकदम चिकनी थी और मेरा लंड मस्त अन्दर बहार हो रहा था. पांच मिनिट चोदने के बाद मैंने कहा, सिखा वो मूवी में एनाल करते हे वैसे करेंगे?

वो बोली, पीछे तो बहुत दर्द होता हे ना?

मैंने कहा, आज चेक कर लेते हे, दर्द हुआ तो नहीं करेंगे!

वो रेडी हो गई.

मैंने कहा यहाँ नहीं.

वो बोली, फिर कहा?

मैंने उसके हाथ को पकड़ के कहा, चलो.

मैं सिखा को बाथरूम में ले गया. वहां पर मैंने उसे दिवार पकडवा के खड़ा कर दिया. फिर साबुन अपने हाथ में ले के खूब झाग बनाया. सिखा के कुल्हे खोल के मैंने उसके पिछवाड़े के छेद पर ये झाग को लगा दिया. गांड के छेद को एकदम चिकना कर के मैंने लंड के ऊपर भी झाग बनाया. फिर धीरे से गांड को खोल के अपना सुपाड़ा अन्दर कर दिया. सिखा को बड़ा दर्द हुआ और वो कराह उठी.

मैंने उसके शोल्डर के ऊपर किस कर दी. और लंड को ऐसे उतना ही अन्दर रहने दिया.

सिखा एक मिनिट में सुपाडे को एडजस्ट कर चुकी थी. मैंने और एक धक्का दिया तो आधा लंड उसकी गांड में घुस गया. वो फिर से छटपटा उठी. लेकिन वो भी जानती थी की ये दर्द टेम्पररी ही था. इसलिए वो कुछ नहीं बोली. मैंने बाकी के आधे लंड के ऊपर साबुन को घिसा. और फिर ताबड़तोड़ उसे अन्दर धक्का दिया. मेरा लंड बहन की गांड में मस्त घुस चूका था. वो बिना हिले खड़ी हुई थी. और मैंने धक्के दे के उसकी गांड को चोदने लगा. मैंने सिखा की गांड को थोडा पीछे लिया जिस से वो हाल्फ डौगी स्टाइल में आ गई. अब मैंने लंड को जोर जोर से गांड में घुसा के बहार निकालना चालू कर दिया.

वो भी मूड में थी और अपने कुल्हे मेरे लंड को मार मार के चुदवाने लगी थी.

कुछ 5 मिनिट की एनाल फकिंग में मेरे लंड का पानी उसकी गांड में ढूल गया. वो सिहर उठी और उसने अपनी चूत को फिंगर फक करना चालू कर दिया. गांड में लंड रखवा के उसने चूत को झाड दिया.

हम दोनों साथ में नाहा के बहार आ गए.

अब सिखा मेरी आइटम बन गई हे. मम्मी पापा घर में हो तब हम भाई बहन होते हे. और वो दोनों ना हो तो वो मेरी रंडी बन जाती हे.

सिखा के लिए मैं नयी नयी देसी और विदेशी क्सक्सक्स मूवी और ब्ल्यू फिल्म की क्लिप्स डाउनलोड करता रहता हूँ. पोर्न दिखा के बहन को चोदने में बड़ा मजा आता हे!