भाभी ने की हर ख्वाहिश पूरी – पार्ट ५

अब आगे तो अब antarvasna लिंगरी का ऑर्डर हो kamukta चूका था… जिस दिन मिला उस दिन भाभी बहुत एक्साइट थी। उसे रात का इंतज़ार था… मैंने भी चैट पर उसे काफी समय खिंचाई की…

मैं: क्या भाभी? पहन लिया क्या? आई मीन पहन के देख लिया क्या…
भाभी: शट अप… मैं क्यों बताऊ?
मैं: भाभी सजेशन मैं दे रहा हूँ, मेरा फायदा कुछ?
भाभी: देखते है बाद में…
मैं: भाभी आपकी एकाद फोटो ही दिखादो अटलिस्ट…
भाभी: धत्… आगे मत बढ़…
मैं: चलो भैया आते ही होंगे… मज़े करो और कराओ…. लकी फेलो…
भाभी: ओके बाय…
मैं: कल देर से ही उठना.. मैं नास्ता बहार कर लुगा…
भाभी: हा हा हा देखते है…. अब बाय….

दूसरे दिन भाभी और भी खुश दिखी… और भी दमक रही थी… चहेरे से स्माइल हट ही नहीं रही थी… हा चलने मैंने महसूस किया की दिक्कत हो रही थी उसे… मैं अब मस्ती सामने बैठ के करना चाहता था, ताकि और मस्ती मस्ती में ही बात आगे बढ़ाई जा सके… मैं भी भाभी से वही सुख हासिल करना चाहता हु जो अभी भैया कर रहे है…. इसिलये मैं चैट पर ही बात जारी रख्खी….

मैं: क्या भाभी चलने मैं दिक्कत? हा हा हा…

काफी देर बाद रिप्लाय आया… पर मैं ये सब नहीं बताऊंगा अब… क्योकि कई बार ऐसा होता है की उसको घर का काम निपटाना होता है…

भाभी: मत पूछो…
मैं: निचला हिस्सा सही सलामत?
भाभी: नहीं… अगला पिछला या ऊपर का कुछ भी सलामत नही.. फुरजा फुरजा ढीला पड़ गया है… हा हा हा…
मैं: ये तो आपका फ़र्ज़ था…
भाभी: हा तो मेरे चहेरे की ख़ुशी नहीं देखि?
मैं: भाभी… आप सच मैं महान है… हर कोई आपसे… छोड़िए चलो बाय…
भाभी: ओहो… फिर से वही बात?
मैं: मैं कितना लिख लिख के बोलुं?
भाभी: हा चलो आओ हॉल में आके बात करते है…
मैं: ठीक है…

अब हम सामने बैठ के बाते कर रहे है….

भाभी: हा बोलो…
मैं: कुछ नहीं…
भाभी: अरे बोल ना… चल तुजे बहोत बड़ा थेंक्स, तूने मुझे तेरे असली भैया वापस दिला दिए…
मैं: हा तो मेरा क्या…
भाभी: ओफो तेरी भी शादी होगी और तुजे भी मजे मिलेंगे और तुजे भी सरप्राइज़ मिलेंगी, तू मुझे सीखा तब मैं तेरी बीवी को सिखाउंगी…
मैं: बस बस मुझे तो आता ही है… सब तो मैं ही सीखा रहा हूँ… तो मेरे लिए तब वैसे भी क्या सरप्राइज़ रहेगा?
भाभी: अरे इतना ही नहीं होता… बहोत कुछ होता है…
मैं: और कुछ? और क्या? लड़की निचे आती है… झुकती है और आगे-पीछे से मज़ा देती है… ऊपर भी मज़ा देती है…. और क्या?
भाभी: (वो लाल हो गई थी… क्योकि पहली बार आमने सामने बात हो रही थी) अरे बस बस… तो फिर मत करो न शादी भी? हा हा हा… सब पता ही है… और तो फिर क्यों मुझे भूखे भेड़िये की तरह देखते हो?
मैं: मैं सरप्राइज़ के बारे में बात कर रहा हूँ जो मुझे नही मिल सकता, जो मैं ऑलरेडी जानता हूँ… बाकी ये किसी का अनुभव मुझे थोड़ी है? वो थोड़ी मिला है? मैं सरप्राइज़ बोल रहा हूँ….
भाभी: अच्छा बाबा ओके… और कोई टिप्स?
मैं: क्या आज रत के लिए?
भाभी: हा….
मैं: मैं तो कपड़ो के बारे जानता था वो मैंने बताया… अलग अलग और लिंगरी ले सकते है पर कुछ अलग करना चाहिए बिच बिच में…
भाभी: बात तो पक्के खिलाडी की तरह कर रहे हो…
मैं: नहीं… मेरी ख्वाहिशे बता रहा हूँ… और कुछ नहीं…
भाभी: हा हा हा हा ओके… तो कुछ ध्यान में है?
मैं: मुझे क्या पता… के आपको और क्या क्या आता है?
भाभी: चल मेसेज में ही बात करते है…

मैंने उसे जाने दिया… क्योकि अभी भी उसे मर्यादा कुछ हद तक आ रही थी… मैं अब उनसे ही सब तुड़वाना चाहता था…

अब बाते चैट पर हो रही थी…

भाभी: बोल…
मैं: कुछ नहीं… और क्या क्या आता है तुजे… फु सामने बैठ कर बाते क्यों नहीं करती….?
भाभी: अरे मुझे शर्म आती है…
मैं: हटाओ ना इतना तो हक अब बनता है मेरा… नही?
भाभी: मैं मेसेज में तुम सामने नहीं होते तो कम्फर्टेबल फिल करती हु…
मैं: ओके…. देखते है आज कितना कम्फर्टेबल फिल करते हो…
भाभी: क्या मतलब?
मैं: आज आप को सब साफ़ साफ़ बात करनी पड़ेगी… मतलब के आज से…
भाभी: ठीक है डन…
मैं: ठीक है…
भाभी: क्या कुछ नया करू आज?
मैं: ह्म्म्म… सेक्स में तो मैं क्या सलाह दू? मैंने कभी किया नहीं…
भाभी: ओके तेरी इच्छा बता चल…
मैं: मैं तो आपको देख कर ही अपना मन बनाता हूँ… आपको सोच कर ही सोच बनाता हूँ…
भाभी: ह्म्म्म तो चल वही बता दे…
मैं: तो क्या मैं जो चाहता हु आपके साथ वो बताऊ? के आप भैया के साथ क्या क्या करती हो वो बताऊ?
भाभी: वो दोनो तेरे ही आइडिया है… तो तुजे जो मर्जी हो बता। तुझपे छोड़ती हूँ… आप आप क्यों लगा रख्खा है…
मैं: ओके… तो मैं तेरे साथ क्या क्या करना चाहता हूँ वो बताता हूँ… शर्मा मत जाना और गलत मत समजना… वो तू और तेरे भैया के बिच रखना…
भाभी: ठीक है चल बता…
मैं: मेरी इच्छा यह है…
१. तेरे साथ मिशनरी सेक्स करना
२. तेरे साथ डौगी मिशनरी सेक्स करना
३. तेरे पिछले होल को रगड़ना मिशनरी पोसिशन में
४. डौगी स्टाइल मैं सेक्स करना…
५. मेरा हथियार मुह में देकर मुह में ही झड़ना
६. कंडोम कभी भी नहीं पहनना
७. खड़े खड़े मिशनरी और डौगी सेक्स करना
८. तेरे शरीर का सुख कई लोगो तो दिलवाना एक एक करके
९. तेरा गैंगबैंग करवाना
१०. हाइवे पर गैंगबैंग करना

(भाभी का कोई रिप्लाय नहीं आया, मैं थोडा डरा पर मैंने बात जारी रख्खी)

इस के अलावा…
११. घरमें सिर्फ ब्लाउज़ और शॉर्ट्स पहनके रखना, ब्लाउज़ का गला खूब डीप बनवाना
१२. तेरे सारे मुख्य अंग वाली जगह के कपडे ज़िप वाले बनवाना
१३. तेरे हाथ पैर बांध के तुजे सारी रात बेइंतेहा रगड़ना…
१५. तुजे ढेर सारे लव बाइट देना….

बस अभी के लिए इतना ही…
(कुछ भी रिप्लाय नहीं आया)
क्या हुआ?
भाभी: ह्म्म्म कुछ नहीं तेरे भैया से बात कर रही थी… मुझे मेरा आइडिया मिल गया…
मैं: क्या?
भाभी: नंबर १३
मैं: ह्म्म्म्म गुड़ लक….
भाभी: चल बाई…
मैं: मैंने इतना कुछ कहा, कुछ नहीं?

कोई जवाब नहीं आया पर भाभी मेरे सपने से अब वाकिफ थी… उसपे उसने कोई मसला नहीं उठाया, उतना मेरा विनिंग शॉट ही था… मुझे लगा की अब गाड़ी सेकेण्ड गैर मैं लानी पड़ेगी…

दूसरे दिन… आज वापस से वो खुश तो थी पर थक भी बहोत गई थी.. मैं सामने ही बोल पड़ा.

मैं: जवानी अगर सिर्फ एक को ही मिलेगी.. तो वो जवानी का क्या फायदा… आपको आदत नहीं पड़ी लगती… भैया आप पर भारी पड़ रहे है शायद…
भाभी: क्यों क्यों क्यों?
मैं: आप थक जाती है…
भाभी: कल तो मैं बंधी हुई थी (मैंने देखने की कोशिश की थी पर अब परदे बंध रहते थे और टैप रेकॉर्डर रखके आह उह सुनने का क्या फायदा?)
मैं: तो पिछले दिन को खुली थी.. फिर भी….
भाभी: हा तो वही तो… तेरे भैया से मैं संतुष्ट हूँ, तू आप आप क्यों बोलता है?
मैं: हा तू बोलूंगा… पर हमारे बिच का परदा नहीं उठा… एक दोस्त की तरह सामने बैठ कर बाते नहीं कर सकते… क्या गर्लफ्रेंड? गर्लफ्रेंड बोलने में आज़ादी और टच करने देती है…. आप तो एक सिंपल सा हग भी नहीं करने देती…
भाभी: क्यों वो तो यहाँ तू छु तो लेता है…
मैं: पर वो सब डर के मारे…
भाभी: तो तेरे ख्याल तो बच्चू मैंने कल पढ़े… दूर ही रहना बेहतर है तुजसे…
मैं: तो हम सारी बाते बंध करदे?
भाभी: तेरी मरजी… बाकी गर्लफ्रेंड का एक लेवल बढ़ाने के लिए मैं तैयार हूँ… सोच ले….
मैं: और वो भला क्या?
भाभी: आज से तू गैलरी से झांख सकता है…
मैं: रात को?
भाभी: हां बाबा पर एक शर्त पर…
मैं: बोलो…
भाभी: तू मुझे दूसरे दिन इम्प्रूवमेंट के लिए बताएगा की और क्या क्या इम्प्रूव करू
मैं: चलो यही सही… पर भैया को पता चला तो?
भाभी: उसे मेरे अलावा कहीं ध्यान ही नहीं जायेगा अगर मैं उनके साथ हूँ…
मैं: तो में उस टाइम मास्टरबेट करूँगा हा?
भाभी: हा हा हा हा वो तेरी मरजी…
मैं: तो ठीक है पर एक कम करेगे? लास्ट?
भाभी: हा बोल
मैं: कोल करूँगा आप रिसीव करके छोड़ देना ताकि मैं सुन सकु… तो मुझे भी थोडा ज्यादा आनंद मिले… पॉर्न भी देखो और म्यूट? मजा नहीं आता…
भाभी: हा उतना मैं आकर सकती हूँ….