पड़ोसन नेहा की मस्त चुदाई

हिंदी सेक्स कहानी मेरी पड़ोसन की चुदाई की है, मेंरी पड़ोसन की प्यासी चूत की कहानी है, उसने मेरा लंड लिया. मेरी पड़ोसन का नाम नेहा शर्मा है, वह सिर्फ २९ साल की है और मैं २५ साल का हूं, पड़ोसन की शादी हुए ६ साल हो गया था.

लेकिन शादी के ७ महीने के अंदर पड़ोसन ने अपने पति को तलाक दे दिया, उसका पति जुआरी था इसलिए पड़ोसन नेहा ने उस को तलाक दे दिया, तलाक होने बाद नेहा हमारे साथ वाले घर में रहने लगी.

हमारी फैमिली में सिर्फ पांच लोग हैं. मम्मी पापा दो बहने और मैं. मेरी पड़ोसन नेहा बहुत ही खूबसूरत और सेक्सी है. उसकी बड़े घर में शादी हुई थी, लेकिन बेचारी का बैड लक, पति बड़ा शराबी और जुआरी था, कभी कभी शराब के नशे में उसके पति ने नेहा को अपने दोस्त से चुदवाने की कोशिश भी की थी, इसलिए नेहा ने अपने पति को तलाक दे दिया.

पति को तलाक तो दे दी लेकिन साथ में लंड की प्यास मैं और सेक्स की भूख में पड़ोसन नेहा की हालत खराब हो जाती थी. मैं मन ही मन उसको चोदने का सपना देखता था.

एक दिन हमारे घर कुछ पापा के दोस्त आ गए थे, वह लोग कुछ दिन हमारे यहां रुकने वाले थे, मेरी पड़ोसन नेहा मेरी बहनों की दोस्त बन गई थी. हमारे यहां मेहमानों की वजह से अब कमरे कम पड़ रहे थे. तो दीदी ने कहा कि क्यों ना हम यहां सो जाए? नेहा भी मां से बोली की आंटी हमारे यहां सो जाने दो ना, तो मैं और मेरी बहन उनके यहां रात में सोने चल दिये, उसके यहां तीन कमरे थे. एक में मैं और एक मैं मेरी बहन और में नेहा के घर सोने चले गए. मैं वहां जाकर सो गया फिर रात में मैं सपना देख रहा था कि एक परी जैसी खूबसूरत औरत मेरे पास आई और मुझसे शादी की और सुहागरात में मेरा लंड को प्यार से चूस रही थी.

जब मेरे लंड का पानी निकलने वाला था, तभी मेरी नींद टूट गई. जब मैं जाग गया तो देखा कि यह तो मेरा सपना नहीं था कि कोई मेरा लंड चूस रही है, लेकिन इधर सच में कोई मेरा लंड चूस रही थी वह मेरी पड़ोसन नेहा थी.

यह देख कर मैं हैरान हो गया, वह सेक्स की भूखी थी और लंड की प्यासी थी. आप सभी लोग जानते हैं कि शादी शुदा औरत को अकेले जीवन पार करना कितना मुश्किल है. जो एक बार लंड का स्वाद ले, उसको लंड के बिना जीना खराब हो जाता है, मैं चुपचाप सोता रहा.

वह मेरे लंड को चूस रही थी पक्का रंडी की तरह. मेरे लंड को पूरा मुंह में लेकर चूस रही की थी और अपनी चूत में उंगली डाल रही थी. मैं जड़ने वाला था, तब मैंने आँख खोल दी, वह चौंक गई. मेरे लंड को मुंह से निकाल दिया, और बैठ गई. नेहा ने सोचा था कि मैं गहरी नींद में हूं.

नेहा ने अपने मुंह को चादर से ढक दिया. मैंने नेहा के गालो पर हाथ लगाया और बोला, नेहा मैं समझ सकता हूं तुम्हारी मजबूरी.. कोई बात नहीं है. तुम्हारे मन में जो आए कर सकते हो. वह मुझे पकड़ कर रोने लगी.

फिर मैंने नेहा को समझाया कि यह होता है शादी के बाद हर औरत की मजबूरी बन जाती है, उसने रोना बंद किया. वह बोली यह तड़पती जवानी मुझे पागल कर देती है. मैं क्या करता हूं कुछ समझ नहीं आता है. मे नेहा को इस शर्म से और गिल्टी फीलिंग से बाहर लाना चाहता था.

हिम्मत कर के मेने नेहा के बालों को किस किया और बोला नेहा तुम बहुत खूबसूरत हो. तुम मुझे बहुत अच्छी लगती हो. आई लव यू नेहा,, बोल कर हिम्मत करके नहा के बूब्स पर हाथ लगाया.

नेहा के मुह से सिसकियां निकल गई आह्ह्ह औऊ. अब नेहा हां मुझे अपने आप को सोप दी. मैंने उसकी कमीज को उतार दिया, फिर बूब को दबाया और नेहा की ब्रा भी उतार दिया और एक निप्पल मुंह में लेकर चूसने लगा और दूसरे स्तन को दबाने लगा. नेहा मेरा सर को पकड़कर बालों में हाथ फेरने लगी, फिर मैं नेहा की सलवार खोला और सलवार के अंदर हाथ डाला नेहा की चूत पानी पानी हो गई थी.

मैंने एक उंगली नेहा की चूत में डाल दिया, वह सिसकियां देने लगी. फिर नेहा को बिल्कुल नंगा कर दिया और देसी स्टाइल में नेहा के दो पैर के बीच आ गया और मेरे लंड का टोपा नेहा की चूत के छेद में सेट किया. नेहा उत्तेजना में कमर हिला रही थी और मेरे लंड को अंदर लेने की कोशिश करने लगी..

फिर मैंने उसको पकड़कर मेरा गांड को पुश किया और पुक करके मेरा लंड नेहा की चूत में समा गया. नेहा आह्ह औऊ हहह करके नेहा ने मुझे जोर से पकड़ लिया और अपने तरफ जोर से खींचने लगी.

में लंड को थोड़ा बाहर निकाल कर फिर एक झटका मारा और नेहा इस बार पागलों की तरह बोलने लगी की पूरा अंदर कर दो, चोदो मुझे.. खूब चोदो… चोद चोद कर मेरी प्यास बुझाओ.. मुझे रंडी बना लो अपनी… आज मेरी चूत की प्यास बुझा दो और मत तड़पाओ.. .चोदो मुझे.. चोद चोद के मुझे औरत बनाओ.

नेहा के मुह से यह सब सुनकर मैं जोश में आ गया और जम कर चुदाई करने लगा पूरे आवाज से घर भर गया यू औउ ययय आयी इई उऔ स य्य्स्य ये ऐ ई ओओओ अज्ज अय्य्य फक मी अहः ये एस सस्य फक मी.

मैं जोर जोर से चोदने लगा अचानक नेहा की चूत में बहुत गर्म फिल हो रहा था नेहा अब जड़ गई थी, अब वो एकदम शांत हो गई.

मैं चुदाई जारी रखा. फिर नेहा बोली मेरी गांड में कौन डालेगा?? आज बहुत प्यासी हूं.. मेरी गांड में चोदो. फिर नेहा घोड़ी बनी और मेने पीछे से गांड में लंड घुसा दिया..

नेहा के रस से मेरा लंड गीला था इसलिए एक ही झटके में पूरा लंड नेहा की टाइट गांड में घुस गया. नेहा चिल्लाने लगी औउ आयी ईई अह्ह्ह अय्य्य दर्द के मारे.. फट गई मेरी गांड.. क्या मस्त लंड है तेरा.. चोद गांड फाड़ दे मेरी चोद चोद कर.. फैला दे मेरी गांड को… बहुत दिनों के बाद मुझे लंड मिला है.

मैंने नेहा की गांड में खूब चोदा, फिर मैं झड़ने वाला था. मैं बोला नेहा की गांड में ही जड़ दू लेकिन नेहा बोली नहीं आजा, फिर मैं उसके ऊपर चढ़ा, नेहा ने अपनी चूत को फैला दीया. मैं उसके पैरों के बीच आकर एक जोर से धक्का मारा.. नेहा अह्ह्ह औउय अह्ह्ह अहह अक्क्क जज्ज क्या मस्त गरम माल हे.

आज मुझे दुनिया की सबसे ज्यादा खुशी मिल गई है. सबसे ज्यादा मस्त लंड से चुदाई मिली, मेरा लंड का वीर्य से नेहा कि चूत भर गई, फिर मैं शांत हो गया और नेहा की चूत से लंड को निकाला और नेहा ने कहा लंड का गरम माल जब चूत में पडता है बहुत सुकून मिलता है. फिर हम दोनों नंगे सो गए.

उस रात के बाद रोज रात हमारी चुदाई चलती है. अब नेहा बहुत खुश है और मैं दिन में मौका मिलते ही सेक्स करता हूं, कैसी लगी मेरी पड़ोसन की चुदाई.